Advertisement

patna

  • Nov 9 2018 9:30PM

लालू परिवार के घर शांति के लिए मां विंध्यवासिनी देवी में हुआ विशेष हवन

लालू परिवार के घर शांति के लिए मां विंध्यवासिनी देवी में हुआ विशेष हवन
FILE PIC

पटना : बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राजद प्रमुख लालू प्रसाद के बेटे तेज प्रताप यादव के वैवाहिक जीवन में चल रही कलह के परिप्रेक्ष्य में मां विंध्यवासिनी देवी मंदिर में 11 दिन का हवन पूजन किया गया. हवन पूजा कराने वाले मंदिर के पुजारी राज मिश्रा ने बताया कि लालू के परिवार की मां विंध्यवासिनी में अपार श्रद्धा है और बिहार की सीमा से सटे पूर्वी उत्तर प्रदेश में स्थित इस मंदिर में परिवार के लोग अक्सर दर्शन करने आते हैं.

मिश्रा ने बताया कि ग्रह नक्षत्रों को शांत करने और परिवार में शांति के लिए हवन पूजन 11 दिन चला. उन्होंने बताया कि उनकी तेज प्रताप से फोन पर बात हुई थी. पुजारी ने बताया कि तेज प्रताप ने उनसे मां विंध्यवासिनी देवी से उनके लिए प्रार्थना करने को कहा था. मिश्रा ने कहा कि वह तेज प्रताप और उनके परिवार से लगातार बात करते रहे हैं. जब से वर्तमान संकट पैदा हुआ, संकट से परिवार को उबारने के लिए विशेष पूजा अर्चना की गयी. पुजारी ने बताया कि 11 दिन की पूजा 11 पंडितों ने की. गुरुवार रात्रि को पूर्णाहुति हुई.

वैवाहिक जीवन में कलह का सामना कर रहे तेज प्रताप ने शुक्रवार को कहा था कि वह फिलहाल हरिद्वार में हैं और जब तक उनका परिवार उनकी पत्नी से संबंध विच्छेद के उनके फैसले का समर्थन नहीं करता, वह घर वापस नहीं लौटेंगे. उन्होंने फोन पर अपने छोटे भाई तेजस्वी यादव को उनके जन्मदिन की बधाई दी लेकिन कहा कि वह नयी दिल्ली में जश्न में शामिल नहीं हो पायेंगे. तेज प्रताप को शनिवार को बोधगया में देखा गया था. वह रांची के अस्पताल में अपने पिता से मिलने के बाद बोधगया लौटे और वहां एक होटल में ठहरे. बताया जाता है कि लालू अपने बड़े बेटे के संबंध विच्छेद के फैसले से परेशान हैं. लालू चारा घोटाले से जुड़े मामलों में सजा काट रहे हैं. इस समय वह चिकित्सकीय आधार पर रांची के एक अस्पताल में हैं.

तेज प्रताप का विवाह 12 मई को ऐश्वर्या राय से हुआ था. ऐश्वर्या राजद विधायक चंद्रिका राय की बेटी तथा बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री दारोगा प्रसाद राय की पौत्री हैं. उन्होंने कहा कि उनका पत्नी से मतभेद अब सुलझ नहीं सकता. यह बात उन्होंने विवाह से पहले ही माता पिता से कही थी लेकिन उनकी तब भी किसी ने न सुनी और अब भी नहीं सुन रहे हैं. 'जब तक वे (माता-पिता) मुझसे सहमत नहीं होते, मैं कैसे घर लौट सकता हूं.' तेज प्रताप ने वैवाहिक विवाद के लिए अपने ससुराल पक्ष सहित कुछ निकट संबंधियों की भूमिका को लेकर नाराजगी व्यक्त की है. 

Advertisement

Comments

Advertisement