Advertisement

patna

  • Jul 18 2019 2:40PM
Advertisement

विधानसभा का घेराव करने जा रहे नियोजित शिक्षकों पर पुलिस ने किया लाठीचार्ज, कई घायल, शिक्षा मंत्री बोले...

विधानसभा का घेराव करने जा रहे नियोजित शिक्षकों पर पुलिस ने किया लाठीचार्ज, कई घायल, शिक्षा मंत्री बोले...

पटना : नियमित शिक्षकों के अनुरूप वेतनमान और सेवा शर्त लागू करने समेत सात सूत्री मांगों के समर्थन में नियोजित शिक्षकों ने गुरुवार को विधानसभा का घेराव करने निकले. विधानसभा का घेराव करने के लिए गर्दनीबाग से निकले नियोजित शिक्षकों को पुलिस ने महिला थाने के पास रोक दिया. 

'समान काम-समान वेतन' की मांग को लेकर विधानसभा का घेराव करने जा रहे नियोजित शिक्षकों को पुलिस द्वारा रोके जाने के बाद प्रदर्शनकारी बैरिकेडिंग तोड़ कर आगे बढ़ने की कोशिश करने लगे. इसके बाद पुलिस ने नियोजित शिक्षकों को रोकने के लिए वाटर कैनन का इस्तेमाल किया. इससे प्रदर्शनकारी नियोजित शिक्षकों के बीच अफरातफरी मच गयी. नियोजित शिक्षकों को रोकने के लिए पुलिस ने लाठियां चटकायीं. इसके बाद पुलिस की लाठी से बचने के लिए प्रदर्शनकारी नियोजित शिक्षक सचिवालय स्टेशन की ओर भागने लगे. इस दौरान कई नियोजित शिक्षक घायल हो गये. बताया जाता है कि बिहार राज्य प्रारंभिक शिक्षक संघ के प्रदेश अध्यक्ष प्रदीप कुमार पप्पू भी घायल हो गये. पुलिस बिहार राज्य शिक्षक संघर्ष समन्वय समिति के सदस्यों ने बताया कि पहली बार सूबे के सभी 18 संगठनों के शिक्षक प्रदर्शन में शामिल हुए हैं. 


शिक्षा मंत्री बोले- आंदोलन से पहले करनी चाहिए थी मुलाकात

नियोजित शिक्षकों के आंदोलन को लेकर शिक्षामंत्री कृष्णंदन प्रसाद वर्मा ने कहा है कि नियोजित शिक्षकों को आंदोलन से पहले मुलाकात करनी चाहिए थी. लेकिन, उन्होंने ऐसा नहीं किया. वहीं, उन्होंने कहा कि नियोजित शिक्षक अगर हमसे मुलाकात करते हैं, तो उनकी समस्या के निराकरण की कोशिश की जायेगी. 

Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement