Advertisement

patna

  • Sep 21 2017 12:52AM

सातवें वेतनमान में राज्यकर्मियों को तोहफा : परिवार संग हवाई यात्रा और चार साल पर एलटीए

सातवें वेतनमान में राज्यकर्मियों को तोहफा : परिवार संग हवाई यात्रा और चार साल पर एलटीए

पटना : राज्य सरकार अपने कर्मचारियों को सातवां वेतनमान के बाद अब इस बढ़ोतरी के आधार पर सभी भत्ते में भी बढ़ोतरी होने जा रही है. राज्य कर्मियों को केंद्रीय कर्मियों की तर्ज पर ही भत्ते देने की तैयारी तकरीबन पूरी हो गयी है. इसके निर्धारण के लिए गठित वेतन आयोग की रिपोर्ट तैयार करके सीएम को सौंप दी गयी है. अब इसकी समीक्षा चल रही है. इसके बाद इसे आगामी कैबिनेट की बैठक में पास करा कर लागू कर दिया जायेगा. यह संभावना व्यक्त की जा रही है कि दीपावली के पहले तक सभी नये भत्ते लागू कर दिये जायेंगे.

मौजूदा स्तर पर तैयार मसौदा के अनुसार, एचआरए (हॉउस रेंट एलाउंस) में सबसे ज्यादा दोगुना की बढ़ोतरी होने जा रही है. इसमें कर्मियों को प्लेन से सफर करने के अलावा प्रत्येक चार साल में सपरिवार एलटीसी (लीव ट्रैवेल कॉन्सेशन) देने की सुविधा देने की अनुशंसा है. यह पहली बार है, जब राज्य कर्मियों को परिवार के साथ घूमने का खर्च राज्य सरकार उठायेगी.

इसके अलावा अन्य भत्तों में भी अच्छी खासी बढ़ोतरी करने की अनुशंसा की गयी है. गौरतलब है कि महंगाई भत्ता (डीए) में पहले से ही बढ़ोतरी की हुई है और यह समय-समय पर महंगाई दर के हिसाब से बढ़ता रहता है. इसलिए इसे छोड़ कर एचआरए, टीए, मेडिकल समेत अन्य भत्तों पर ही बढ़ोतरी का प्रस्ताव है.

प्लेन यात्रा और एलटीए की विशेष सुविधा

सभी वर्ग के राज्य कर्मचारियों को प्लेन से यात्रा करने की जो सुविधा मिलने जा रही है, उसमें पे-लेवल 9 और 11 से ऊपर के सभी कर्मियों को दिया जा रहा है. लेवल-9 वालों को इसके लिए पहले अनुमति लेनी पड़ेगी. जबकि, लेबल- 11 से ऊपर तक के सभी कर्मियों को बिना अनुमति के हवाई यात्रा करने की छूट होगी. हालांकि, इनका लिमिट तय होगा. सातवां वेतनमान लागू होने के बाद पे-लेवल 9 का मतलब 53 हजार 100 या समकक्ष की सैलरी प्रति महीने प्राप्त करने वाले कर्मी और पे-लेवल 11 का मतलब 67 हजार 700 या समकक्ष के वेतन वाले है. पहले यह सुविधा पे-लेवल 12 को अनुमति के साथ और 13 वालों को बिना अनुमति के साथ मिलती थी. इसे अपग्रेड कर दिया गया है. इसके अलावा पहले कर्मियों को अपने पूरे सेवा काल में महज दो बार (चार साल के अंतर पर) ही एलटीए की सुविधा मिलती थी. अब प्रत्येक चार साल पर कर्मियों को सपरिवार एलटीए की सुविधा मिलेगी.

एचआरए को डीए से जोड़ने पर विचार

सरकार इस बार अपने कर्मियों को जो सबसे अहम तोहफा देने जा रही है. उसमें एचआरए को डीए (महंगाई भत्ता) से सीधे जोड़ने की तैयारी है. इससे जब डीए में बढ़ोतरी की जायेगी, तब-तब इसके समानुपात में सभी भत्तों में भी बढ़ोतरी हो जायेगी. इससे कर्मियों को हर तरह से फायदा होगा. महंगाई भत्ता में बढ़ोतरी के साथ ही अन्य भत्तों में भी बढ़ोतरी साथ-साथ हो जायेगी. इसके लिए बार-बार सरकार को अन्य भत्तों में बढ़ोतरी की घोषणा नहीं करनी पड़ेगी. अभी यह व्यवस्था नहीं थी. सभी भत्तों के लिए अलग-अलग दर के अनुसार बढ़ोतरी करनी पड़ती थी.

इन भत्तों में इतनी बढ़ोतरी की अनुशंसा

एचआरए : वर्तमान में 16 फीसदी है, जिसे बढ़ा कर 32 फीसदी करने का प्रस्ताव है. अभी सभी शहरों को तीन श्रेणी में बांट कर एचआरए दिया जाता है. शहर की श्रेणी के हिसाब से एचआरए अलग-अलग है. इसके अनुसार, पटना बी1 श्रेणी के शहरों में आता है, जिसके लिए अभी 16 प्रतिशत एचआरए निर्धारित है. इसी तरह सी1 शहरों के लिए आठ फीसदी और ए1 शहरों के लिए 24 फीसदी एचआरए तय है. 

मेडिकल एलाउंस : अभी प्रति व्यक्ति 200 रुपये मिलता है. इसे बढ़ाकर 500 रुपये प्रति व्यक्ति करने की तैयारी है. 

परिवहन भत्ता : परिवहन भत्ता को 1600 रुपये करने का प्रस्ताव है. मौजूदा समय में परिवहन भत्ता को देने के लिए सैलरी के आधार पर तीन तरह की श्रेणी बनी हुई है. इसके आधार पर 400, 700 और एक हजार रुपये भत्ता दिया जाता है. फिलहाल एक हजार वाले भत्ते को बढ़ा कर 1600 करने का प्रस्ताव है. अन्य दोनों श्रेणियों में भी इसी अनुपात में बढ़ोतरी की तैयारी है.

Advertisement

Comments