Advertisement

patna

  • Feb 22 2019 8:01AM

पटना : बिजली मिली तो गांवों तक पहुंचा विकास : आरके सिंह

पटना : बिजली मिली तो गांवों तक पहुंचा विकास : आरके सिंह
मिथिलेश
बिहार में पैदा बिजली श्रीलंका व म्यांमार भी जायेगी
 
पटना : ब्यूरोक्रेसी से राजनीति में आये केंद्रीय ऊर्जा राज्यमंत्री राजकुमार सिंह को उम्मीद है कि लोकसभा चुनाव में नरेंद्र मोदी की सरकार दोबारा सत्ता में आयेगी. राष्ट्रीय स्तर पर कोई विकल्प नजर नहीं आता है. 
 
दो दिवसीय दौरे पर पटना आये राजकुमार सिंह ने प्रभात खबर से विशेष बातचीत में कहा कि केंद्र सरकार ने हर मोर्चे पर विशेषकर बिजली कनेक्टिविटी के मामले में रिकाॅर्ड काम किया है. उन्होेंने कहा कि राज्य की 40 सीटों में इक्के-दुक्के सीटों को छोड़ दें तो सारी की सारी सीटें एनडीए जीत लेगी. यहां महागठबंधन का कोई स्वरूप नहीं  दिख रहा है. सिंह ने कहा कि बिजली के क्षेत्र में बिहार नयी ऊंचाइयों पर पहुंचा है.
बिहार की एनटीपीसी इकाई से उत्पादित बिजली राज्य की खपत पूरी कर रही है. साथ ही अब समुद्र के रास्ते श्रीलंका और म्यांमार को आपूर्ति करने की तैयारी है. उन्होंने बताया कि बिजली सामानों के उत्पादकों से जुड़ी संस्था आइमा  की रिपोर्ट  के मुताबिक उनका उत्पादन 19 प्रतिशत बढ़ गया है. देश की सबसे बड़ी बिजली उत्पादक कपंनी एनटीपीसी ने बिहार में साठ हजार करोड़ रुपये का निवेश किया है. 
 
राज्य को सस्ती दर पर बिजली मुहैया करायी जा रही है. ग्रामीण इलाकों में बिजली आने से जीवन स्तर बदल गया है. बिजली मिली तो गांवों तक विकास पहुंचा़  बाढ़ की इकाई से उत्पादन शुरू हो चुका है.  इसकी बाकी के दो यूनिटों में भी जल्द ही उत्पादन शुरू हो जायेगा. इसके लिए समय सीमा तय कर दी गयी है. 
 
नवीनगर में 660 मेगावाट की बिजली उत्पादन की इकाई चालू हो गया है. राज्य के सभी घरों में बिजली पहुंचायी गयी है. अब अगला लक्ष्य 24 घंटे बिजली आपूर्ति की है. बिहार में जमीन की समस्या होने के कारण नवीनगर की इकाई में थोड़ी बहुत देरी हुई, लेकिन कुशल प्रबंधन के चलते लागत राशि बढ़ने नहीं दी गयी.   

सोलह महीने में ढाई करोड़ लोगों को दिये गये बिजली कनेक्शन 
 
आरके सिंह ने कहा कि देश भर में फैले एनटीपीसी के सभी ग्रीड को आपस में कनेक्ट  कर दिया गया है. जिससे देश के एक छोर से दूसरे छोर तक बिजली पहुंचायी जा रही है. कांग्रेस के जमाने में राजीव गांधी ग्रामीण विद्युतीकरण योजना कागजों पर चलायी जा रही थी. लेकिन, मौजूदा सरकार ने जमीन पर उतर कर काम किया है. इसी का नतीजा है कि पिछले सोलह महीनों में केंद्र सरकार ने ढाई करोड़ से अधिक घरों तक बिजली पहुंचायी है.
 
अब तक देश भर में सिर्फ छत्तीसगढ़ के बस्तर इलाके और राजस्थान के  कुछ गांवों में बिजली नहीं पहुंच पायी है़  इस लक्ष्य को भी जल्द ही हासिल कर लिया जायेगा.  नवीनगर में बीआरबीसीएल की पांच सौ मेगावाट का यूनिट चालू हो चुका है़  बुधवार को दो सौ पचास मेगावाट यूनिट को चालू किया गया है. राज्य में पिछले दो वर्षों में बिजली खपत में तेजी आयी है. 
 
नवीनगर एसजीपीएल की 660 मेगावाट के यूनिट को सिंकोनाइज किया गया है.  अगले महीने यह भी आॅपरेशनल हो जायेगा. दूसरा यूनिट दिसंबर में चालू हो जायेगा़  देश में बिजली सरप्लस है. एक लाख 77 हजार मेगावाट प्रतिदिन की खपत और मांग है. जबकि, 3 लाख 49 हजार मेगावाट बिजली उत्पादन हो रहा है.
 

Advertisement

Comments

Advertisement