patna

  • Jan 19 2020 10:24AM
Advertisement

बिहार ने रचा इतिहास, जल जीवन हरियाली को लेकर बनायी दुनिया की सबसे बड़ी मानव श्रृंखला

बिहार ने रचा इतिहास, जल जीवन हरियाली को लेकर बनायी दुनिया की सबसे बड़ी मानव श्रृंखला

पटना : जल जलवायु हरियाली को बचाने रविवार को पूरे बिहार में लोगों ने कतारबद्ध होकर संकल्प लिया कि वह जलवायु को बचाने के लिए पूरी तरह एकजूट है. पटना के ऐतिहासिक गांधी मैदान में शुरू होकर पूरे राज्य में बनी मानव श्रृंखला में सवा चार करोड़ लोग एक दूसरे का हाथ पकड़ आधे घंटे तक खड़े रहे. दिन के साढ़े 11 बजे से दोपहर 12 बजे तक आधे घंटे के मानव श्रृंखला में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, विधानसभा के स्पीकर विजय कुमार चौधरी, विधान परिषद के कार्यकारी सभापति प्रो हारूण रशीद समेत सरकार के मंत्री और आला अधिकारियों ने हिस्सा लिया.

16544 किलोमीटर लंबी यह मानव श्रृंंखला विश्व की सबसे लंबी मानव श्रृंखला साबित हुई. गांधी मैदान में मुख्यमंत्री के साथ जल पुरुष राजेंद्र सिंह और यूनिसेफ के कंट्री हेड भी मानव श्रृंखला के हिस्सेदार बने. आसमान में बादल और ठंड के बावजूद मानव श्रृंखला को लेकर लोगों में गजब का उत्साह रहा. स्कूली बच्चे, युवा व महिलाओं में मानव श्रृंखला को लेकर खासा उत्साह दिखा. सरकारी कर्मियों ने भी मानव श्रृंखला में साथ दिया.

मानव श्रृंखला में दलों की सीमा भी टूटती नजर आयी. कांग्रेस के कई विधायकों ने जहां इसे नैतिक समर्थन देने की घोषणा की. वहीं, राजद के विधायक महेश्वर यादव और फराज फातमी ने मानव श्रृंखला में शामिल होकर अपना समर्थन दिया. उधर, खराब स्वास्थ्य के कारण लोजपा नेता रामविलास पासवान गांधी मैदान नहीं आ पाये, लेकिन उन्होंने पटना पहुंच कर अपना नैतिक समर्थन किया.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मानव श्रृंखला को सफल बनाने के लिए बिहार के सभी को धन्यवाद दिया. उन्होंने कहा कि पर्यावरण पर दुनिया ने आज बिहार का दम देखा. गौर हो कि इसके पहले बिहार ने वर्ष 2017 में नशा मुक्ति (शराबबंदी) अभियान को सफल बनाने के लिए विश्व की सबसे लंबी 11,292 किमी मानव श्रृंखला बनायी थी जो एक रिकॉर्ड था. अपने इस रिकॉर्ड को बिहार ने वर्ष 2018 में दहेज प्रथा एवं बाल विवाह के खिलाफ 13,654 किमी लंबी मानव श्रृंखला बनाकर तोड़ा था. एक बार फिर 16 हजार किमी से अधिक लंबी कतार बनाकर बिहार रिकॉर्ड बना दिया.

पर्यावरण संरक्षण को लेकर जन जागरूकता के लिए यह संभवत: दुनिया की सबसे बड़ी मानव शृंखला बनी. राज्य सरकार की ओर से शृंखला के नोडल शिक्षा विभाग के साथ ही सभी जिलों ने तमाम तैयारियां की थीं. पटना के गांधी मैदान में सीएम नीतीश कुमार के नेतृत्व में मानव श्रृंखला की शुरुआत हुई. मानव शृंखला में राज्य की कुल आबादी के एक तिहाई से अधिक 4 करोड़ 27 लाख लोग शामिल हुए. शनिवार को जिलों से मिली रिपोर्ट के मुताबिक शृंखला की कुल लंबाई में बढ़कर 16419 किमी होने की उम्मीद जतायी गयी थी. पर्यावरण संरक्षण को लेकर जन जागरूकता के लिए यह संभवत: दुनिया की सबसे बड़ी मानव शृंखला है.

आंकड़ा...
: कुल अनुमानित लंबाइ 16531 किलोमीटर
: मुख्य मार्ग की लंबाइ -5052 किलोमीटर
: उप मार्ग की लंबाइ -11299 किलोमीटर
: दो हजार व्यक्ति प्रति किलोमीटर होंगे कतार में खड़े
: प्रत्येक वार्ड में सौ लोगों की कतार, इसमें कुल एक करोड़ लोग होंगे शामिल
: कुल चार करोड़ 27 लाख व्यक्ति के मानव श्रृंखला में शामिल होने का अनुमान

जल-जीवन-हरियाली और मानव श्रृंखला को RJD ने बताया नौटंकी
पटना : जल-जीवन-हरियाली अभियान सहित रविवार को आयोजित होने वाली मानव श्रृंखला को राजद ने नौटंकी बताया है. इस संबंध में राजद प्रमुख लालू प्रसाद, पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी और पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी ने शनिवार को ट्वीट कर इसका विरोध किया है. साथ ही इसे गरीबों के पैसे का दुरुपयोग बताया है.

लालू प्रसाद ने अपने ट्वीट में लिखा है, 'जल, जीवन, हरियाली की नौटंकी करने वाला पहले यह बता वें किसके संरक्षण में विगत 15 वर्ष में बिहार के कुआं, आहर, नहर, पइन, पोखर व तालाबों का अतिक्रमण कर बर्बाद किया गया? जंगलों को किसने कटवाया? तटबंध का पैसा कौन चूहा खाया?‬ ‪कथित पौधारोपण का करोड़ों का बजट कौन भूत लूटा? इनका दोषी कौन?‬'

इस संबंध में राबड़ी देवी ने ट्वीट किया है, 'सीएम नीतीश कुमार ने शराबबंदी पर श्रृंखला की थी हमने समर्थन भी किया था, लेकिन क्या उससे शराब बंद हुई? नहीं ना?‬ ‪बाल विवाह और दहेज के खिलाफ भी करोड़ों खर्च कर मानव श्रृंखला बनायी? क्या हुआ? अब सीएम ने इनका जिक्र करना भी छोड़ दिया है. अब एक और श्रृंखला की नौटंकी? क्यों गरीबों का हक खा रहे हैं?‬'

वहीं तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर कहा है, पिछले वर्ष दो बार बिहार में आयी बाढ़ और जल जमाव में लोग त्राहिमाम कर रहे थे. राहत के लिए एक हेलीकॉप्टर तक सरकार के पास नहीं था. लेकिन अब 15 हेलीकॉप्टरों में मुंबई से फोटोग्राफर बुलाये जा रहे हैं. सिपाही परीक्षा रद्द की गयी, युवाओं को रोज़गार नहीं, शिक्षकों को वेतन नहीं, नियोजित कर्मियों को उचित मानदेय नहीं. लेकिन मानव शृंखला की नौटंकी पर गरीब राज्य का पैसा पानी की तरह बहाया जा रहा है.'

राजद नेताओं ने जताया विरोध

वहीं मानव श्रृंखला का राजद नेताओं ने विरोध किया है. पार्टी के प्रदेश महासचिव भाई अरूण कुमार, अत्यंत पिछड़ा प्रकोष्ठ के प्रदेश सचिव उपेंद्र चंद्रवंशी और प्रदेश सचिव सरदार रंजीत सिंह ने मानव श्रृंखला में खर्च होने वाले पैसे को फिजूलखर्ची बताया है. युवा राजद के प्रवक्ता अरुण कुमार यादव ने कहा है कि वर्तमान में जल-जीवन-हरियाली से बड़ा बिहार में बेरोजगारी और भ्रष्टाचार,अपराध सबसे बड़ी कुरीतियां हैं. इसलिए राजद ने मानव श्रृंखला का बहिष्कार किया है.

मंत्री नीरज कुमार ने ट्वीट कर मानव श्रृंखला पर सवाल उठाने पर लालू-तेजस्वी पर साधा निशाना
पटना : सूचना एवं जनसंपर्क विभाग के मंत्री नीरज कुमार ने शनिवार को ट्वीट जारी कर मानव श्रृंखला पर सवाल उठाने पर लालू प्रसाद और तेजस्वी यादव पर निशाना साधा है. मंत्री नीरज कुमार ने अपने ट्वीट में लिखा है, 'कैदी नं 3351 ने नौकरी के नाम पर जमीन लिखवाया, दागी पुत्र पारिवारिक अनुकंपा के बुनियाद पर अपना जन्मदिन चार्टर प्लेन में मनाते हैं और पर्यावरण संरक्षण जैसे सामाजिक सरोकार (मानव श्रृंखला) पर सवाल उठा रहे हैं? पिता होटवार में, बेटा विमान में.'

24 जनवरी को रालोसपा के मानव कतार में शामिल होंगे वीआइपी के नेता
पटना : वीआइपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मुकेश सहनी 24 जनवरी को राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के द्वारा शिक्षा और रोजगार के सवाल पर आयोजित मानव कतार को समर्थन देंगे. पार्टी के राज्यभर में फैले संगठन के नेता भी मानव कतार में खड़े होंगे. रालोसपा ने राज्य के सभी विद्यालयों के सामने सुबह 11:30 बजे मानव कतार लगाने का कार्यक्रम निर्धारित किया गया है.

25 को मानव श्रृंखला में शामिल हो महागठबंधन : डी राजा
पटना : भाकपा के पूर्व सांसद एवं महासचिव डी. राजा ने 25 जनवरी को राज्य में वाम दलों की ओर से आयोजित मानव श्रृंखला में महागठबंधन के घटक दलों को शामिल होने की अपील की है. शनिवार को जनशक्ति परिसर में प्रेस कांफ्रेंस कर कहा कि इस सिलसिले में वह राजद,कांग्रेस समेत सभी घटक दलों के नेताओं से मुलाकात करेंगे. उन्होंने बताया कि 25 जनरी को वामदल संयुक्त रूप से केंद्र सरकार की गलत नीतियों के खिलाफ मानव श्रृंखला बनायेगा. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार बिहार की जनता को गुमराह कर रहे हैं.

उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार देश के गरीबों के लिये खतरनाक है. सरकार गरीबी हटाने के नाम पर गरीबों को हटाने में जुट गयी है. किसी तरह से उद्योगपतियों को फायदा हो, केंद्र सरकार इसी लक्ष्य के साथ काम कर रही है. उन्होंने बताया कि वामदलों की मानव श्रृंखला में शामिल होने को पूर्व सीएम जीतन राम मांझी की पार्टी हम सहमत हो गयी है. प्रेस कांफ्रेंस में मौजूद भाजपा के राज्य सचिव सत्यनाराण सिंह ने कहा कि मानव श्रृंखला में सभी वाम दल के लोग शामिल रहेंगे. 26 और 30 जनवरी को संविधान बचाओ अभियान का आयोजन होगा.

25 जनवरी को मानव श्रृंखला और पटना जिलाधिकारी के समक्ष प्रदर्शन
माकपा पटना जिला कमेटी की बैठक प्रसिद्ध कवि घमंडी राम की अध्यक्षता में संपन्न हुई. सचिव मनोज कुमार चंद्रवंशी ने कहा कि केंद्र सरकार के खिलाफ वामदल 25 जनवरी को मानव श्रृंखला बनायेगा. 30 जनवरी को सत्याग्रह में पार्टी के कार्यकर्ता शामिल होंगे और पटना जिला में देश बचाओ, संविधान बचाओ, नागरिकता बचाओ अभियान के तहत सत्याग्रह किया जायेगा. बैठक में रास बिहारी सिंह, ओम प्रकाश शर्मा, कुशवाहा नंदन, सुरेंद्र कुमार, सोने लाल, अरविंद कुमार सहित अन्य शामिल थे.

Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement