Advertisement

other state

  • Jun 12 2019 5:58AM
Advertisement

गुजरात की ओर बढ़ रहा चक्रवाती तूफान ‘वायु’, भारी बारिश की चेतावनी

गुजरात की ओर बढ़ रहा चक्रवाती तूफान ‘वायु’, भारी बारिश की चेतावनी
नयी दिल्ली : अरब सागर में हवा के कम दबाव की स्थिति गहराने के कारण उत्पन्न चक्रवाती तूफान ‘वायु’ महाराष्ट्र से उत्तर में गुजरात की ओर बढ़ रहा है. मौसम विभाग द्वारा मंगलवार को जारी बुलेटिन के अनुसार, सुदूर समुद्र में हवा के कम दबाव का क्षेत्र तेजी से बनने के कारण ‘वायु’ के 13 जून को गुजरात के तटीय इलाकों पोरबंदर और कच्छ क्षेत्र में पहुंचने की संभावना है. 
 
विभाग ने अगले 24 घंटों में चक्रवाती तूफान के और अधिक गंभीर रूप धारण करने की संभावना व्यक्त करते हुए कहा कि उत्तर की ओर बढ़ता ‘वायु’ 13 जून को सुबह गुजरात के तटीय इलाकों में पोरबंदर से महुवा, वेरावल और दीव क्षेत्र को प्रभावित करेगा. इसकी गति 115 से 130 किमी प्रति घंटा तक हो सकती है. मौसम विभाग ने इसके मद्देनजर सौराष्ट्र और कच्छ के तटीय इलाकों में 13 और 14 जून को भारी बारिश होने और 110 किमी प्रति घंटे की गति से तूफानी हवाएं चलने की चेतावनी जारी की है. 
 
इसे देखते हुए गुजरात सरकार ने भी ‘हाई अलर्ट’ जारी करते हुए यह सौराष्ट्र और कच्छ इलाकों में राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) के जवानों को तैनात किया है. तटीय क्षेत्रों में मछुआरों को अगले कुछ दिनों तक समुद्र में नहीं जाने की सलाह दी गयी है. साथ ही बंदरगाहों को खतरे के संकेत और सूचना जारी करने को कहा गया है.
 
11 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से उत्तर-उत्तरपश्चिम क्षेत्र की ओर बढ़ रहा है चक्रवाती तूफान ‘वायु’ 
11 जून को तड़के दो बजकर 30 मिनट पर अरब सागर के पूर्वी-मध्य हिस्से के ऊपर पहुंचा 
13 जून को गुजरात के सौराष्ट्र से सुबह दो बजे टकराने की आशंका
130 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से टकरायेगा गुजरात तट से 
110-120 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चल सकती हैं तेज हवाएं 
 
शाह ने की तूफान को लेकर तैयारियों की समीक्षा 
 
गृह मंत्री अमित शाह ने मंगलवार को चक्रवात वायु के मद्देनजर तैयारियों की समीक्षा की और अधिकारियों को लोगों की सुरक्षा के लिए हरसंभव कदम सुनिश्चित करने का निर्देश दिया. 
 
समीक्षा के बाद, गृह मंत्री ने वरिष्ठ अधिकारियों को लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने के लिए हर संभव उपाय सुनिश्चित करने के निर्देश दिये. गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा कि उन्होंने बिजली, दूरसंचार, स्वास्थ्य, पेयजल जैसी सभी आवश्यक सेवाओं को बरकरार रखने और चक्रवात से नुकसान होने की स्थिति में तत्काल उन सेवाओं को बहाल किये जाने पर भी बल दिया.
 
प्रभाव
 
देश के पश्चिमी तट पर भारी से भारी वर्षा
अगले पांच-छह दिनों तक हो सकती है भारी वर्षा
तूफान ‘वायु’ मॉनसून से खींच सकता है नमी, मॉनसून हो सकता है कमजोर
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement