Advertisement

national

  • Mar 15 2015 3:37PM

प्रख्यात गांधीवादी नारायण देसाई का निधन

प्रख्यात गांधीवादी नारायण देसाई का निधन

अहमदाबाद: जाने माने गांधीवादी और गुजरात विद्यापीठ के पूर्व कुलाधिपति नारायण देसाई का सूरत में आज एक निजी अस्पताल में निधन हो गया. नब्बे वर्षीय देसाई महात्मा गांधी की डायरी लिखने वाले महादेव देसाई के पुत्र थे. उनके पीछे उनकी बेटी संघमित्रा और बेटे नचिकेता एवं अफलातून हैं.

उनके बडे बेटे नचिकेता देसाई ने बताया, ‘‘सूरत के महावीर ट्रॉमा सेंटर में आज तडके सुबह मेरे पिता नारायण देसाई का निद्रावस्था में ही देहांत हो गया.’’ उन्होंने बताया कि उनका अंतिम संस्कार आज दोपहर दो बजे गुजरात के तापी जिले के वेदछी के पास संपूर्ण का्रंति विद्यालय के बाहर किया जाएगा. इस विद्यालय का निर्माण उनके पिताजी ने जयप्रकाश नारायण के ‘संपूर्ण का्रंति’ से प्रभावित होकर किया था.

देसाई पिछले साल 10 दिसंबर से कोमा में थे और तब से तरल पदार्थों पर ही जीवित थे. नारायण देसाई का जन्म 24 दिसंबर 1924 को गुजरात के वलसाड में हुआ था और वह साबरमती आश्रम में बडे हुए. पिता महादेव देसाई के सानिध्य में वह गांधी के विचारों से प्रभावित हुए. उनके पिता महात्मा गांधी के डायरी लेखक थे.

देसाई विनोबा भावे के ‘भूदान आंदोलन’ और जयप्रकाश नारायण के ‘संपूर्ण का्रंति’ से जुडे रहे. वह ‘गांधी कथा’ के गान के लिए प्रसिद्ध थे जिसे उन्होंने 2004 में शुरु किया था. देसाई गुजरात विद्यापीठ के 23 जुलाई 2007 से पिछले साल नवंबर तक कुलाधिपति रहे.

 

Advertisement

Comments

Advertisement