सुप्रीम कोर्ट का फैसला: नयी शर्तों को साथ मुंबई में फिर से खुलेंगे डांस बार
Advertisement

muzaffarpur

  • Jan 12 2019 8:02AM

मुजफ्फरपुर : कैसे होती थी पैसों की बंदरबांट सीबीआई ने मधु से पूछे सवाल

मुजफ्फरपुर  : स्वधार गृह कांड में ब्रजेश ठाकुर की राजदार शाइस्ता प्रवीण उर्फ मधु को  महिला थाने की पुलिस ने शुक्रवार को रिमांड पर ले लिया है.  गोला रोड स्थित महिला थाने दोपहर 12 बजे से थानेदार ज्योति कुमारी ने पूछताछ शुरू कर दी. इस बीच सीबीआई के अधिकारी भी मधु से पूछताछ करने के लिए महिला थाने पहुंचे. देर शाम तक दोनों उससे स्वधार गृह मामले में पूछताछ कर रहे थे.
 
 पुलिस सूत्रों की माने तो पूछताछ के दौरान सीबीआई व महिला थाने की पुलिस ने मधु से स्वधार गृह मामले में कई तीखे सवाल पूछे. स्वधार गृह के नाम पर कहां- कहां पैसों का बंदरबांट होता था. स्वधार गृह के खुले रहने की स्थिति  में निरीक्षण के नाम पर किस तरह का खेल होता था. 
 
विभागीय स्तर पर फंड के बंटवारे में किन- किन लोगों की संलिप्तता थी. इसके साथ-साथ पूछताछ में कई अहम सवाल शामिल थे. देर शाम नगर डीएसपी मुकुल कुमार रंजन ने भी मधु से पूछताछ की. इसमें विभाग द्वारा जो एफआईआर कराया गया था.
 
 उसमें जिन 11 महिलाओं व तीन बच्चों के गायब होने की बात बतायी गयी थी. उस बिंदु पर भी पूछताछ की गयी. प्राथमिकी के बाद पुलिस ने जब छानबीन शुरू की थी, उस दौरान सभी महिलाओं का नाम काल्पनिक पाया गया था. चर्चा यह भी है कि मधु से पूछताछ के बाद विभाग के कई अधिकारियों के गर्दन इस केस में फंस सकते हैं. 
 
स्वधार गृह में परिवार से अलग हो  चुकी महिलाएं  रखने व उनको पांव पर खड़ा होने के लिए  रोजगार का प्रशिक्षण दिये जाने के नाम  पर खेल चलता था. जिला बाल संरक्षण इकाई के सहायक निदेशक दिवेश शर्मा ने  30 जुलाई, 2018 को महिला थाने में प्राथमिकी दर्ज कराते हुए पुलिस को बताया था कि मार्च माह  के निरीक्षण में स्वधार गृह में 11 महिलाएं थीं. लेकिन, बालिका गृह कांड के  बाद जब नौ जून को निरीक्षण किया गया, तो स्वधार गृह में ताला लटका हुआ  था. 
 
इस कांड में अज्ञात को आरोपित बनाया गया था.  लेकिन, पुलिस ने छानबीन के दौरान बालिका गृह कांड के मुख्य आरोपित ब्रजेश ठाकुर, शाइस्ता प्रवीण उर्फ मधु, अफसाना खातून, पूनम देवी, एके सिंह, डा. आरएन ठाकुर, सचिव रमेश ठाकुर रामानुज ठाकुर व कृष्णा कुमार को नामजद अप्राथमिकी अभियुक्त बनाया था. 
 
कैसे अधिकारी बनाते थे फर्जी रिपोर्ट इसकी भी ली गयी जानकारी
शाइस्ता प्रवीण उर्फ मधु से सीबीआई के अधिकारी ने स्वधार गृह में ब्रजेश ठाकुर के  किन- किन विभागों से जुड़ाव था, इसके बारे में जानकारी लेने की चर्चा है. पैसा लेन- देन, अधिकारियों को मैनेजिंग व फर्जी जांच रिपोर्ट बनाने के बारे में भी पूछताछ की. हालांकि, सीबीआई की ओर से इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं की गयी है.
मुजफ्फरपुर :    निरीक्षण समिति के पुराने सदस्यों की खोज में सीबीआई
मुजफ्फरपुर :  बालिका गृह कांड की जांच कर रही सीबीआई अब पुराने निरीक्षण समिति के सदस्यों की खोज कर रही है. शुक्रवार को इसी सिलसिले में  सीबीआई समाज कल्याण विभाग भी विभाग के अधिकारियों से सीबीआई के अधिकारियों ने पुराने सदस्यों के पते की फाइल मांगी. 
 
सूत्रों के अनुसार जांच एजेंसी को पुराने निरीक्षण समिति के सदस्यों से कई सुराग हासिल करने हैं. लेकिन, कुछ सदस्यों का पता जांच नहीं मिल रहा है. बालिका गृह की जांच करने वाली टीम अब शुरू से गृह की निरीक्षण करने वाली टीम  के सदस्यों का ब्योरे की पड़ताल कर रही है. 
 
सीबीआई जानना चाहती है कि बालिका गृह की जांच मेें शुरुआत से क्या प्रक्रिया अपनाई गयी. क्या शुरू से ही बच्चियों के शोषण किया जा रहा है, निरीक्षण रिपोर्ट नहीं दी जा रही थी. इस बिंदु पर जांच करने के लिए एजेंसी पुराने सदस्यों की खोज कर रही है. सूत्रों के अनुसार वर्ष 2013 से लेकर 2017 तक हुई सभी निरीक्षणों की जांच सीबीआई करेगी. इस दौरान जो भी सदस्य निरीक्षण समिति में थे उनसे पूछताछ कर  सकती है.

Advertisement

Comments

Advertisement