Advertisement

madhepura

  • Nov 14 2019 8:04AM
Advertisement

केंद्र व राज्य सरकार की विफलता के खिलाफ विपक्षी दलों का आक्रोश मार्च

  मधेपुरा : बढ़ते अपराध, भ्रष्टाचार, भीषण महंगाई, बेरोजगारी, आर्थिक मंदी एवं किसानों के राज्यव्यापी आवाहन पर बुधवार को जिला मुख्यालय के मुख्य सड़कों पर रालोसपा, भाकपा, राजद, कांग्रेस, माकपा, लोजद, हम, वीआईपी के कार्यकर्ताओं ने आक्रोश मार्च निकालकर समाहरणालय के मुख्य द्वार पर प्रदर्शन किया. इस मौके पर विपक्षी दलों की कार्यकर्ताओं ने केंद्र एवं राज्य सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की. आक्रोश मार्च कला भवन के परिसर से निकलकर विभिन्न मार्गों एवं चौराहों से गुजरते हुए समाहरणालय पहुंचा. 

 
समाहरणालय द्वार पर भाकपा के राष्ट्रीय परिषद सदस्य एवं विपक्षी दलों के संयोजक प्रमोद प्रभाकर की अध्यक्षता में आंदोलनकारियों एवं उपस्थित जन समूह को संबोधित करते हुये राजद के प्रदेश महासचिव विजेंद्र यादव ने कहा कि केंद्र एवं राज्य सरकार जनविरोधी है. उन्होंने कहा कि सरकार सभी क्षेत्रों में विफल है. पीएम एवं सीएम के सभी वायदे छलावा साबित हो रहा है.
 
बिहार में नहीं है कानून व्यवस्था नाम की कोई चीज 
रालोसपा के जिलाध्यक्ष रविशंकर कुमार उर्फ पिंटू मेहता ने कहा कि बिहार में कानून व्यवस्था नाम की कोई चीज नहीं है. अपराध उद्योग का रूप ले लिया है. खास और आम कोई सुरक्षित नहीं है. कांग्रेस जिलाध्यक्ष सत्येंद्र कुमार सिंह यादव ने प्याज, लहसुन, सब्जी एवं अन्य वस्तुओं की भीषण महंगाई पर आक्रोश व्यक्त करते हुए कहा कि महंगाई की मार से लोगों का जीना दूभर हो गया है. 
 
 लोजद जिलाध्यक्ष राजेंद्र प्रसाद यादव ने कहा कि शिक्षा और चिकित्सा मुहैया कराने में मोदी और नीतीश सरकार पूरी तरह विफल है. शिक्षा सुविधा नहीं व्यवसाय हो चुका है. भाकपा के वरीय नेता रमण कुमार ने देश की गहराती आर्थिक मंदी पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि भारत की आर्थिक स्थिति नेपाल से भी ज्यादा खराब हो गई है. 
 
माकपा के जिला मंत्री मनोरंजन सिंह ने देश के सार्वजनिक क्षेत्रों के उद्योग को धड़ल्ले से निजी करण करने की प्रक्रिया को देश को बेचने की साजिश बताया. हम के जिलाध्यक्ष किशोर कुमार मुन्ना ने बाढ़-सुखाड़ का स्थाई निदान करने, भूमिहीनों को बास की जमीन एवं बेघरों को घर देने की मांग की. 
 
वीआईपी के प्रदेश नेता ब्रह्मदेव कुमार सहनी ने कहा कि आजादी के बाद बेरोजगारी की इतनी भयावह स्थिति कभी नहीं थी. केंद्र एवं राज्य सरकार रोजगार विहीन विकास की कल्पना करती है. रालोसपा के प्रदेश महासचिव मृत्युंजय मेहता ने कहा कि दलितों, अकलियतों एवं महिलाओं पर हो रहे अत्याचार से देश में भय और आतंक का वातावरण है. प्रतीत होता है कि देश में फांसीवादी सरकार है.
 
एनएच 106 व 107 के जर्जर सड़कों का निर्माण करने की मांग 
राजद प्रदेश महासचिव कृष्ण कुमार यादव ने जर्जर एनएच 106 एवं 107 सहित राज्य की सभी जर्जर सड़कों का निर्माण करने की मांग की. उन्होंने बिहारीगंज बाईपास सड़क को शीघ्र चालू कराने की मांग की. युवा लोजद जिलाध्यक्ष डा विजेंद्र कुमार यादव ने पंचायत स्तर पर धान क्रय केंद्र खोलकर समर्थन मूल्य पर धान खरीद सुनिश्चित करने की मांग की.
 
 मौके पर विपक्षी दलों के नेता में फुलेंद्र यादव, अनिल यादव, भुवनेश्वरी यादव, गोपाल यादव, मो इफ्तेखार, संदीप प्रकाश, इस्तियाक, अभिषेक कुशवाहा सीताराम कुशवाहा, श्यामा कांत यादव, शैलेंद्र कुमार, पवन कुमार मोहम्मद जहांगीर शंभू क्रांति, दिलीप पटेल, सौरभ कुमार, जगत नारायण शर्मा, विजेंद्र मेहता, बाबूलाल मंडल, चंद्रशेखर पोद्दार, अफरोज आलम, अनिल भारती, माधो राम, कृष्णदेव भगत, चंदन ऋषिदेव, बिट्टू यादव, औरंगजेब, सुनील कुमार मेहता, उज्जवल कुमार, अंग्रेजी कुमार, त्रिलोकी कुमार, दिनेश ऋषिदेव, गणेश यादव, अमरेश कुमार, जयकांत यादव, संजीव यादव, प्रो शिवनारायण यादव, सिकेंद्र ऋषि, राजेंद्र यादव, ललन राम, राजीव कुमार ठाकुर, प्रो ललन कुमार, शत्रुघ्न भगत, कामेश्वर सिंह, पन्ना लाल यादव, गजेंद्र यादव, चंद्रकिशोर यादव, संतोष कुमार, संजय यादव, दिनेश राम, प्रभास कुमार, शिव कुमार, संजय ऋषिदेव, सुरेंद्र सरदार, बेचन कुमार, ध्रुव नारायण ऋषिदेव, प्रो ललन कुमार, उत्तीमलाल मुखिया, रसमलाल मुखिया, जानो मुखिया, सुरेंद्र राम, मिथुन मुखिया, प्रदीप यादव, भूषण मंडल सहित अन्य लोग उपस्थित थे. प्रदर्शन के अंत में प्रदर्शनकारियों का एक प्रतिनिधि मंडल जिलाधिकारी के नाम 11 सूत्री मांगों का स्मार पत्र वरीय समाहर्ता को सौंपा.
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement