Advertisement

madhepura

  • Jul 17 2019 7:01AM
Advertisement

विवि के मुख्य द्वार को बंद कर छात्रों ने किया प्रदर्शन

विवि के मुख्य द्वार को बंद कर छात्रों ने किया प्रदर्शन

 मधेपुरा : भूपेंद्र नारायण मंडल विश्वविद्यालय में स्नातक प्रथम खंड में नामांकन से वंचित छात्रों ने मंगलवार को विश्वविद्यालय के मुख्य द्वार को बंद कर नारेबाजी किया. इसके बाद कुलपति प्रो डॉ अवध किशोर राय के नॉर्थ कैंपस से विश्वविद्यालय मुख्यालय पहुंचे. कुलपति से वार्ता का आश्वासन मिलने पर छात्रों ने गेट खोल दिया. मौके पर उपस्थित एनएसयूआई जिलाध्यक्ष निशांत यादव व एसएफआई के विश्वविद्यालय प्रभारी सारंग तनय के नेतृत्व में छात्रों का एक प्रतिनिधमंडल कुलपति से मिले.

 
 छात्रों ने कुलपति से कहा कि महाविद्यालय द्वारा नामांकन में गड़बड़ी की जा रही है. महाविद्यालय में सीट रहते हुए सीट भर जाने की बात कह कर छात्रों को वापस लौटाया रहा है. किस विषय में कितने सीट पर नामांकन हुआ है और कितना सीट अभी बचा हुआ है. इसकी जानकारी महाविद्यालय द्वारा छात्रों को नहीं दिया जा रहा है.
 
महाविद्यालय द्वारा की जाती है पैसों की मांग : छात्रों ने कहा कि सभी महाविद्यालय में शिक्षा माफिया सक्रिय हैं. छात्रों से एडमिशन के नाम दो हजार से पांच हजार रूपये तक की मांग करते हैं. जो छात्र पैसा नहीं देते हैं उन्हें सीट भर जाने बात कह कर वापस कर दिया जाता है.
 
 कई छात्रों ने कुलपति को सामने ही प्राचार्यों द्वारा पैसा की मांग किए जाने का आराेप लगाया. एक छात्र ने कहा कि सीएम साईंस कॉलेज में एडमिशन के लिए पांच हजार रूपये की मांग की जा रही है. कुलपति ने कहा कि जो प्राचार्य नामांकन में अधिक पैसे की मांग करने वाले प्राचार्यों पर कर्मी पर सख्त कार्रवाई की जाएगी.
 
बेवसाइट के माध्यम से रखें पूरी जानकारी : छात्रों से वार्ता के बाद कुलपति ने नोडल पदाधिकारी और यूएमआईएस के अधिकारी को बुलाकर छात्रों की समस्या समाधान का समाधान निकालने की बात कही. 
 
नोडल पदाधिकारी डॉ अशोक कुमार सिंह ने बताया कि कोई छात्र विश्वविद्यालय के बेवसाइट के माध्यम से छात्र पूरी जानकारी रख सकते हैं. साथ ही छात्र पता कर सकते हैं कि किस महाविद्यालय में कितना सीट बचा हुआ है. छात्र www.bnmuumis.in पर जाकर व्यू टोटल रजिस्ट्रेशन विथ स्टार्ट एंड क्लोज डेट पर क्लिक कर इसकी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं.
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement