Advertisement

politics

  • Apr 16 2019 6:28AM
Advertisement

बैंक बैलेंस में भाजपा नहीं, बसपा देश की सबसे अमीर पार्टी

बैंक बैलेंस में भाजपा नहीं, बसपा देश की सबसे अमीर पार्टी
नयी दिल्ली : चुनाव आयोग को राजनीतिक पार्टियों द्वारा सौंपी गयी अपनी आय संबंधी रिपोर्ट में इस बात का खुलासा हुआ है कि बहुजन समाज पार्टी यानी बसपा अमीरी के मामले में सबसे ऊपर है.  उसका बैंक बैलेंस तमाम दूसरी पार्टियों से ज्यादा है. 
 
बसपा ने 25 फरवरी को चुनाव आयोग को अपनी एक्सपेंडीचर रिपोर्ट सौंपी है. उसके अनुसार दिल्ली एनसीआर स्थित सार्वजनिक क्षेत्र के आठ बैंकों में उसके खाते हैं, जिनमें 669 करोड़ रुपये जमा हैं. यह बात दीगर है कि 2014 के लोकसभा चुनाव के देश की इस सबसे अमीर पार्टी को एक भी सीट नहीं मिली थी. 
 
बसपा 
 
बसपा ने घोषित किया है कि उसके पास 95.54 लाख रुपये नकद हैं. यह व्यय रिपोर्ट पार्टियों की घोषित आय के आधार पर है. बसपा का कहना है कि उसने विधानसभा चुनाव के दौरान 24 करोड़ रुपये जुटाये,  जिसकी वजह से उसके बैंक खातों में मौजूद राशि 665 करोड़ से 670 करोड़ रुपये  हो गयी. 
 
कांग्रेस
 
कांग्रेस तीसरे स्थान पर है. उसके बैंक खातों में 196 करोड़ रुपये हैं. हालांकि यह जानकारी नवंबर में कर्नाटक विस चुनाव के बाद आयोग को दी गयी जानकारी पर आधारित है. पार्टी ने मध्यप्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में मिली जीत के बाद अपने बैंक खातों में मौजूद नकदी को अपडेट नहीं किया है.
 
सपा
 
सपा दूसरे स्थान पर है. उसके बैंक खातों में 471 करोड़ रुपये हैं. पिछले साल मप्र, छत्तीसगढ़, राजस्थान और तेलंगाना में हुए विस चुनाव के दौरान पार्टी की बैंक में जमा राशि 11 करोड़ रुपये घट गयी. सपा का कहना है कि उसके 11 करोड़ रुपये नवंबर-दिसंबर महीने में चार राज्यों में हुए चुनाव के दौरान खर्च हो गये. 

भाजपा
 
भाजपा पांचवें स्थान पर है. पार्टी के बैंक खातों में 82 करोड़ रुपये हैं. भाजपा ने दावा किया है कि उसने 2017-18 में कमाये गये 1027 करोड़ के चंदे में से 758 करोड़ खर्च कर दिये, जो कि किसी भी पार्टी द्वारा खर्च की गयी सबसे अधिक राशि है.
 
669
बसपा
471
सपा
196
कांग्रेस
107
टीडीपी
82 
भाजपा
टीडीपी
 
तेलुगू देशम पार्टी बैंक बैलेंस के मामले में चौथे नंबर पर है. उसके बैंक खातों में 107 करोड़ रुपये है. यह आंध्र की प्रमुख पार्टी है, जिसका उदय तेलुगू फिल्मों के अभिनेता एन टी रामाराव के जमाने हुआ. 2014 के चुनाव में इसके 16 प्रत्याशी सांसद बने थे.  

आयकर रिटर्न में सबसे ज्यादा कमाई भाजपा की थी
 
आयकर रिटर्न के विश्लेषण के मुताबिक, 2016-17 और 2017-18 में चंदे से सबसे अधिक कमाई भाजपा ने दिखायी थी. एडीआर के मुताबिक, भाजपा ने 2016-17 में 1034 और 2017-18 में 1027 करोड़ रुपये चंदा से जुटाये थे. 
 
इसी दौरान बसपा ने 174 करोड़ और 52 करोड़ जुटाये. कांग्रेस ने 2016-17  में 225 करोड़ रुपये की कमाई की घोषणा की थी. इसने चुनाव आयोग को अगले साल  की कमाई की घोषणा नहीं की थी. इन सभी पार्टियों की 87 प्रतिशत कमाई  स्वेच्छा से दिये गये दान से हुई.
 

Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement