Advertisement

lakhisarai

  • Sep 20 2019 7:59AM
Advertisement

दो अक्तूबर से होगा जल जीवन हरियाली कार्यक्रम का आगाज

 लखीसराय : राज्य सरकार के निर्देश पर जिलाधिकारी शोभेंद्र कुमार चौधरी ने जिले से विभिन्न जल स्रोतों पर किये गये अतिक्रमण को तत्काल हटाये जाने को लेकर अपनी कटिबद्धता प्रकट की है. जिलाधिकारी के अनुसार आगामी 30 सितंबर 2019 तक जिले के विभिन्न आहर, पोखर, पइन, नहर, कुआं, तालाब नदी, नाला एवं अन्य जल स्रोतों से अतिक्रमण को हटाये जाने के लिए जनसामान्य के बीच 30 सितंबर तक जन जागरूकता अभियान चलाया जायेगा. 

 
इसके तहत दीवार पेंटिंग सार्वजनिक स्थानों पर नारा लेखन नुक्कड़ सभा का आयोजन प्रखंड एवं जिला स्तर पर कार्यशाला किसानों के बीच वैकल्पिक फसलों एवं टपकन सिंचाई के अलावे जैविक खेती और अन्य तकनीकी साधनों के माध्यम से खेती किये जाने को लेकर जागरूकता अभियान चलाया जायेगा. इस बीच आगामी 22 सितंबर 2019 से जिले भर में जनजीवन हरियाली तभी होगी खुशहाली के नारों को नगर से लेकर डगर तक प्रचार प्रसार करने के लिए सार्वजनिक रूप से आम लोगों तक व्यापक सूचना देकर प्रचार-प्रसार दिया जायेगा. 
 
जिलाधिकारी ने बताया कि जिले में सुखाड़ की गंभीर समस्याओं को देखते हुए ग्राम स्तर पर जागरूकता अभियान के तहत नुक्कड़ नाटक एवं अन्य प्रचार प्रसार के कार्यक्रम किये जायेंगे. उन्होंने कहा कि जल संचयन संरचनाओं तथा तालाब व पोखरों  का युद्धस्तर पर जीर्णोद्धार के कार्य करवाये जायेंगे. 
 
 जिलाधिकारी ने कहा जिले भर में कुआं चापाकल आहार नलकूप नदियों नालों का नए सिरे से सर्वेक्षण के कार्य जारी है. उन्होंने कहा गांव-गांव पौधा साला सृजन एवं अभिषेश नदी जल संग्रहण के अलावा सभी घरों में जल संचयन के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए हस्ताक्षर अभियान पेंटिंग प्रतियोगिता निबंध प्रतियोगिता वाद-विवाद प्रतियोगिता जागरूकता रैली संगोष्ठी साइकिल रैली एवं अन्य कार्यक्रम किये जायेंगे. 
 
डीएम ने बताया इस दौरान जिले वासियों को घर-घर सप्ताह का निर्माण करवाने के लिए भी जागरूक किया जायेगा. तत्पश्चात आगामी 2 अक्तूबर से जिले के सभी पोखर, आहार, पइन, तालाब व नदी नालों में अतिक्रमण करने वालों के विरुद्ध अतिक्रमण हटाने का अभियान चलाया जायेगा. उन्होंने कहा राज्य सरकार के निर्देशानुसार अब सार्वजनिक जल संचय के साधनों पर अतिक्रमण के कार्य बर्दाश्त नहीं किये जायेंगे.
 
 जिलाधिकारी ने कहा जल संसाधनों को अतिक्रमण मुक्त करने के लिए जिला प्रशासन कटिबद्ध है. उन्होंने कहा किसी भी हालत में आहार पोखरों आहर कुआं चापाकल का अतिक्रमण करने वालों की खैर नहीं है. उन्होंने कहा इसके लिए जिला स्तर पर जिला टास्क फोर्स का गठन भी कर लिया गया है. 
 
उन्होंने कहा जिले में इन कार्यों के सर्वेक्षण के लिए नये सिरे से सर्वेक्षण टीम का गठन किया गया है. जिलाधिकारी ने जिलेवासियों से अतिक्रमण हटाने से पूर्व शिक्षा से इन स्थानों पर अपना-अपना अतिक्रमण हटा लेने की गुजारिश की है वरना बाध्य होकर जिला प्रशासन की ओर से जेसीबी मशीन लगाकर एवं अन्य संसाधनों के माध्यम से उनके अतिक्रमण को हटाये जायेंगे. वार्ता क्रम के दौरान जिला जनसंपर्क पदाधिकारी ब्रजेश कुमार विकल एवं अपर समाहर्ता दम भी मौजूद थे. 
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement