kodarma

  • Dec 13 2019 7:13AM
Advertisement

झारखंड विधानसभा चुनाव तीसरा चरण : अशांत क्षेत्र में शांति से मतदान

झारखंड विधानसभा चुनाव तीसरा चरण : अशांत क्षेत्र में शांति से मतदान

विधानसभा चुनाव के तीसरे चरण के तहत कोयलाचल में शांति पूर्वक मतदान संपन्न हो गया.  ग्रामीण क्षेत्र के अधिकतर बूथ उग्रवाद प्रभावित होने के बावजूद कहीं से कोई अप्रिय घटना नहीं होने की भी लोग चर्चा करते दिखे. 

ठंड की वजह से बूथों में सुबह बूथों में भीड़ कम कम थी, लेकिन दिन चढ़ने के साथ कतार लंबी होती गयी. हजारीबाग में एक बूथ का संचालन दिव्यांगों ने सफलतापूर्वक किया. वहीं पिंक बूथ की भी चर्चा रही. जागरूक युवा वोटर शादी-विवाह की व्यस्तता के बाद भी वोट करने पहुंचे. क्षेत्र के कई मतदान केंद्रों में समयसीमा की समाप्ति के बाद भी लोगों को वोट डालने की सुविधा मिली. 

हजारीबाग: दिव्यांगों ने बूथ संचालित किया, दुल्हन पहुंची वोट डालने 

हजारीबाग सदर की सीट पर भाजपा प्रत्याशी मनीष जायसवाल, कांग्रेस प्रत्याशी डॉ आरसी  मेहता और झाविामो प्रत्याशी मुन्ना सिंह के अलावा 15 प्रत्याशी मैदान में थे. शहरी के अपेक्षा ग्रामीण क्षेत्रों के बूथों में मतदाता अधिक दिखे. सांसद जयंत सिन्हा ने हुपाद बूथ पर वोट डाला. शहर के मतदान केंद्र संख्या 225 पर पहुंचे दूल्हा-दुल्हन आकर्षण का केंद्र  रहे. दरअसल, शहर के हरि नगर मुहल्ले की रहनेवाली प्रियंका की बुधवार रात शादी हुई. 

गुरुवार की सुबह विदाई हाेनी थी, इससे पहले प्रियंका अपने पति  के साथ मतदान केंद्र पहुंची आैर वोट डाला. जिले में पहली बार एक मतदान केंद्र का दिव्यांगों ने संचालन किया आैर शांतिपूर्ण मतदान करवाया. वहीं, केबी महिला कॉलेज में बनाये गये बूथ का संचालन महिला मतदानकर्मियों ने किया. कटकमसांडी प्रखंड के उग्रवाद प्रभावित तीन गांव सकरजा, डुमरी और नचले गांव के ग्रामीणों ने 14 किलोमीटर दूर जाकर हरहद बूथ पर वोट डाला.

कोडरमा : नक्सली इलाकों में बेखौफ मतदान, दुरुस्त थी सुरक्षा की व्यवस्था

कोडरमा में गुरुवार को शांतिपूर्ण तरीके से मतदान हुआ. गुरुवार सुबह से सुदूरवर्ती नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में बनाये गये बूथों के साथ ही शहरी क्षेत्र में मतदान को लेकर वोटरों की लंबी कतार दिखी. 

इससे पहले सुबह में एक-दो बूथों पर इवीएम में तकनीकी खराबी के कारण मतदान देर से शुरू हुआ. चुनाव को लेकर सुरक्षा व्यवस्था के व्यापक इंतजाम किये गये थे. जंगली इलाकों में अर्द्धसैनिक बलों के हाथों में सुरक्षा की कमान थी. ऐसे में मतदाता बेखौफ होकर बाहर निकले और अपने मताधिकार का उपयोग किया.

मरकच्चो की उग्रवाद प्रभावित डगरनवां पंचायत के अरैया, डोमचांच के बंगाखलार आदि जगहों पर मतदाता कई किलोमीटर दूर पैदल चल कर मतदान केंद्र पहुंचे आैर वोट डाला. उन्होंने कहा कि वोट डालना हमारा अधिकार है. सुबह नौ बजे तक पूरे विधानसभा क्षेत्र में 10.20 फीसदी मतदान हुआ था, लेकिन तीन बजे तक यह प्रतिशत लगातार बढ़ता रहा. 

सिमरिया : बूथों पर लगी लंबी कतार बुजुर्गों व दिव्यांगों ने दिखाया जज्बा

कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच सिमरिया विधानसभा क्षेत्र में चुनाव शांतिपूर्ण संपन्न हुआ. नक्सल प्रभावित क्षेत्रों पर भी मतदाताओं ने खुल कर अपने मताधिकार का उपयोग किया. गुरुवार सुबह सात बजे से मतदान शुरू हुआ, दोपहर तीन बजे तक चला. मतदान को लेकर युवा, बुजुर्ग व महिला मतदाताओं में विशेष उत्साह देखा गया. मतदान केंद्रों पर सुबह सात बजे से ही लंबी कतार देखी गयी. दिव्यांग मतदाताआें ने भी मतदान में बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया. 

मॉडल मतदान केंद्रों पर मतदाताओं को बैठने की विशेष सुविधा उपलब्ध करायी गयी. जिला निर्वाचन पदाधिकारी सह उपायुक्त जितेंद्र कुमार सिंह ने कई मतदान केंद्रों पर जाकर निरीक्षण किया. एसपी, एसडीपीओ समेत अन्य पदाधिकारी पल-पल सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लेते दिखे. नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किये गये थे, यहां भी शांतिपूर्ण मतदान हुआ. सिमरिया विधानसभा क्षेत्र में मतदान के दौरान शांति रही.

रामगढ़: सुबह में कम निकले मतदाता दोपहर बाद मतदान ने पकड़ी रफ्तार  

रामगढ़ विधानसभा क्षेत्र में सुबह सात बजे से शाम पांच बजे तक शांतिपूर्ण मतदान हुआ. गुरुवार सुबह ठंड होने की वजह से मतदान केंद्रों पर मतदान करने के लिए लोग कम पहुंंचे. लेकिन, जैसे-जैसे दिन चढ़ता गया, मतदान ने रफ्तार पकड़ लिया. सुबह नौ बजे तक रामगढ़ विधानसभा क्षेत्र में 14.03 प्रतिशत, सुबह 11 बजे तक 29.50 प्रतिशत, दोपहर एक बजे तक 46.10 प्रतिशत, तीन बजे तक 61. 12 प्रतिशत आैर शाम पांच बजे मतदान संपन्न होने तक 70.05 प्रतिशत मतदान हुआ. 

हालांकि कर्इ बूथों पर मतदान की समयसीमा समाप्त होने के बाद भी मतदाता कतार में लगे दिखे. इस कारण उम्मदी जतायी जा रही है कि फाइनल रिपोर्ट आने पर मतदान प्रतिशत में दो-तीन प्रतिशत की बढ़ोतरी संभव है. 

रामगढ़ के निर्वाची पदाधिकारी सह एसडीओ अनंत कुमार के अनुसार, रामगढ़ विधानसभा में चुनाव शांतिपूर्ण संपन्न हुआ, कहीं से किसी अप्रिय घटना व गड़बड़ी की शिकायत नहीं मिली. यहां से कुल 25 उम्मीदवार चुनाव मैदान में थे. मतदान संपन्न होने के बाद रामगढ़ महाविद्यालय स्थित मतगणना स्थल के स्ट्रांग रूम में इवीएम का पहुंचना प्रारंभ हो गया.

बरकट्ठा:  उग्रवाद प्रभावित क्षेत्रों में भी निकले मतदाता, किया मतदान

बरकट्ठा विधानसभा सीट के लिए गुरुवार को वोट डाले गये. 20 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला इवीएम में कैद हो गया. मतदान समाप्ति के समय दोपहर तीन बजे तक 57.50 प्रतिशत मतदान हुआ. 

दोपहर 12.10 बजे प्राथमिक विद्यालय लोटवा बूथ संख्या 381 में महिलाओं ने मशीन खराब होने की शिकायत की. इसके बाद इवीएम बदला गया आैर फिर से 1.15 बजे मतदान शुरू हुआ. मध्य विद्यालय बोंगा के बूथ संख्या 350 का संचालन महिला मतदानकर्मियों ने किया आैर शांतिपूर्वक मतदान कराया. विधानसभा के चार प्रखंड इचाक, बरकट्ठा, चलकुशा और जयनगर में अलग-अलग उम्मीदवारों के पक्ष में रूझान दिखा. उग्रवाद प्रभावित क्षेत्रों में सुरक्षा के व्यापक इंतजाम किये गये थे. 

इस कारण कहीं से किसी तरह की अप्रिय घटना की सूचना नहीं मिली. अलग-अलग बूथों पर मतदान करने पहुंचे लोगों ने बताया कि वे अपने मताधिकार का उपयोग करने आये हैं. उनके एक वोट से विधायक चुना जायेगा, जो विधानसभा में उनके क्षेत्र की आवाज उठायेगा.

मांडू : उग्रवाद प्रभावित क्षेत्र में कम मतदान, चर्चा में थे सहोदर भाई  

मांडू विधानसभा में सुबह सात बजे से मतदान की शुरुआत हुई, हालांकि नरकी मतदान केंद्र संख्या 518 एवं बकसपुरा के मतदान केंद्र संख्या 444 में इवीएम में खराबी आने के कारण लगभग 45 मिनट विलंब से मतदान शुरू हुआ. वहीं, उग्रवाद प्रभावित क्षेत्र गालोबार और गझंडी में मतदान प्रतिशत कम रहा. यहां दो सहोदर भाई चुनावी मैदान में हैं. स्व टेकलाल महतो के पुत्र रामप्रकाश भाई पटेल (झामुमो) आैर जयप्रकाश भाई पटेल (भाजपा) के बीच चुनावी मुकाबला क्षेत्र में चर्चा का विषय बना रहा. इनके अलावा मैदान में आजसू के टिकट पर तिवारी महतो, निर्दलीय महेश सिंह  समेत कुल 22 उम्मीदवार हैं. 

इन सभी ने अलग-अलग बूथों का दौरा किया आैर मतदाताआें का हाल जाना. कोयलांचल क्षेत्रों में आदिवासी बहुल कसियाडीह और बिराखाप के चरवाहा बूथ पर मतदाता काफी संख्या में मतदान करने पहुंचे. आंगो के बूथ नंबर 05 और बोदरा गांव के बूथ नंबर 18 में इवीएम खराबी हुई. 

बड़कागांव : दिन चढ़ने के साथ बढ़ी मतदान की रफ्तार, लगी रही कतार  

बड़कागांव विधानसभा क्षेत्र में मतदान शांतिपूर्वक रहा. यहां 23 उम्मीदवार चुनावी मैदान में हैं. बड़कागांव विधानसभा क्षेत्र में सुबह  सात बजे से मतदान की शुरुआत हुई. सुबह में ठंड होने के कारण मतदान धीमा रहा, लेकिन जैसे-जैसे दिन चढ़ता गया, मतदान ने रफ्तार पकड़ ली. सुबह नौ बजे तक 13.07  प्रतिशत, 11 बजे तक 29.13 प्रतिशत आैर दिन के एक बजे तक 46.10 प्रतिशत लोगों ने अपने मताधिकार का उपयोग किया. 

जानकारी के अनुसार, मतदान समाप्ति की समय सीमा दोपहर तीन बजे तक बड़कागांव विधानसभा क्षेत्र में  अच्छा-खासा मतदान हो चुका था. हालांकि अंतिम समय में भी कई बूथों पर लंबी कतारें लगी थीं, इस कारण मतदान चलता रहा. बड़कागांव के निर्वाची पदाधिकारी सह जिला भू-अर्जन पदाधिकारी अनवर हुसैन ने बताया कि पूरे विधानसभा क्षेत्र में कहीं से किसी अप्रिय घटना या किसी प्रकार की गड़बड़ी की शिकायत नहीं मिली है.

बरही : मंडप से उठ कर दूल्हा पहुंचा वोट देने, भाजपा-कांग्रेस में टक्कर

बरही विधानसभा के मतदाता उत्साहित थे.  क्षेत्र के 14 उग्रवाद प्रभावित मतदान केंद्रों में शांतिपूर्ण मतदान हुआ. भगहर मतदान केंद्र में मतदाता काफी उत्साहित दिखे. चौपारण के हपवा बूथ संख्या 145 पर शादी के मंडप से उठ कर कुमार अभिनव मतदान करने पहुंचे. बूथ नंबर 56 चौपारण केबी उच्च विद्यालय में इवीएम खराब होने पर मतदाताआें ने नाराजगी जाहिर की, हालांकि जल्दी ही परेशानी दूर कर मतदान शुरू कराया गया. यहां मैदान में 14 उम्मीदवार हैं.

कांग्रेस प्रत्याशी उमाशंकर अकेला और भाजपा प्रत्याशी मनोज यादव के बीच कांटे का मुकाबला देखने को मिला. सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम होने के कारण बरही विधानसभा क्षेत्र में मतदान शांतिपूर्ण रहा. कहीं भी तनाव या झड़प की स्थिति नहीं दिखी, जो क्षेत्र में चर्चा का विषय रहा. मतदान के बाद युवा मतदाताआें में सेल्फी लेने को विशेष रुचि दिखी. दैहर और दादपुर मतदान केंद्र में सुबह से ही मतदाताओं की लंबी कतार थी.

 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement