Advertisement

kaimur

  • Sep 12 2019 7:28AM
Advertisement

भगवानपुर मुंडेश्वरी गेट चौक पर पानी की किल्लत

 भगवानपुर : प्रखंड मुख्यालय स्थित मुंडेश्वरी गेट चौक पर दुकानदारों व राहगीरों को पानी की किल्लत काफी दिनों से सता रहा है. वजह यह है कि उक्त चौक के मुंडेश्वरी रोड में नहर किनारे एकमात्र चापाकल है, जो कि महीनों से खराब पड़ा है. 

 
इधर थाना रोड में एक पीएचइडी का हैंडपंप है. जिसके चारों तरफ जलजमाव है. वहीं नहर के दक्षिणी हिस्से में हनुमान मंदिर के पीछे एक जो पीएचइडी गड़ा हुआ चापाकल है. वह मठमैला व दूषित पानी देता है. इससे इन दिनों चौक के दुकानदारों व मुंडेश्वरी धाम पहुंचनेवाले श्रद्धालुओं व अन्य राहगीरों को जलसंकट जैसी स्थिति से गुजरना पड़ रहा है.
 
क्या कहते हैं स्थानीय लोग : स्थानीय बाजार के दुकानदार गुड्डू चौरसिया, बेचन चंद्रवंशी, गांधी साह, गोवर्द्धन माली, मदन साह, बचाऊ हलुआई, पप्पु गोंड ने अपने इस जल संबंधित समस्या के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि पिछले कई महीनों से मुंडेश्वरी गेट चौक का चापाकल बिगड़ा हुआ है. यहां तक कि थाना रोड व हनुमान मंदिर के पीछे वाला भी हैंडपंप कुछ अच्छे हालत में नहीं है. 
 
जोकि स्थानीय बाजार की बहुत बड़ी समस्या है. दुकानदारों का कहना है कि वे अपने दुकानों व ग्राहकों के लिए करीब 500 मीटर दूरी तय कर इधर-उधर से शुद्ध पेयजल की आपूर्ति करते रहते हैं. वहीं कई दुकानदार तो विवश होकर प्लांट से जार खरीदकर वे दुकानों पर पेयजल की व्यवस्था बनाते हैं. रेडीमेड पानी कि खरीदारी से उनके ग्राहकों का प्यास तो बूझ हीं जाता है. मगर इसके लिए सभी दुकानदारों को रोजाना हजारों की आर्थिक लागत से गुजरना पड़ता है.
 
   राजीव उर्फ सोनी अग्रवाल, खेदु पांडेय, टप्पु सिंह, सिंगल सिंह सहित कई समाजसेवियों ने बताया कि बीते नवरात्र में मुंडेश्वरी में पहुंचने वाले श्रद्धालुओं के सुविधा के दृष्टिकोण से बीडीओ मयंक कुमार सिंह के पहल पर चौक के बिगड़े चापाकल को पीएचइडी द्वारा बनवाया गया था. लेकिन महज 10 दिनों के भीतर वह फिर खराब हो गया. तब से आज तक वह खराब हालत में ही पड़ा है. उनका कहना है कि यदि एक बार चौक और आसपास के चापाकलों पीएचइडी विभाग द्वारा सही तरीके से दुरुस्त करवा दी जाये. 
 
क्या कहती हैं जेई
इस संबंध में पूछने पर पीएचइडी की जेई रेखा कुमारी ने बताया कि अगले 24 घंटे के भीतर मुंडेश्वरी गेट चौक पर विभाग के मिस्त्री को भेजवा कर बिगड़े हुए चापाकलों को अच्छी तरह से दुरुस्त करवा दिया जायेगा.
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement