kaimur

  • Dec 10 2019 3:05PM
Advertisement

पागल भाई के दुष्कर्म का शिकार हुई नाबालिग ने दिया बेटे को जन्म, बेटे को बचाने के लिए मां ने रची साजिश, ...जानें क्या?

पागल भाई के दुष्कर्म का शिकार हुई नाबालिग ने दिया बेटे को जन्म, बेटे को बचाने के लिए मां ने रची साजिश, ...जानें क्या?
सांकेतिक तस्वीर.

भभुआ : चैनपुर थाना क्षेत्र के एक गांव की रहनेवाली नाबालिग अपने पागल व दिव्यांग भाई के दुष्कर्म का शिकार हुई. नाबालिग पीड़िता ने सदर अस्पताल में एक बच्चे को जन्म दिया है. सदर अस्पताल लाये जाने के बाद डॉक्टरों की टीम द्वारा नाबालिग पीड़िता का सुरक्षित प्रसव कराया. दरअसल, उक्त नाबालिग पीड़िता के मां-बाप यूपी के सैयदराजा में काम करते हैं. जबकि, पीड़िता अपने दो भाइयों के साथ गांव पर ही रहती थी. इसी दौरान पीड़िता को उसके ही पागल व गूंगे भाई ने हवस का शिकार बना लिया था. इसके चलते वह गर्भवती हो गयी थी. घटना के तीन महीने बाद जब उसके माता-पिता गांव आये. पीड़िता की मां ने स्नान करने के दौरान जब बेटी का पेट उभरा देखा, तो इस संबंध में पूछताछ की. इसके बाद उसने घटना की सारी सच्चाई मां से बता दी. लेकिन, नाबालिग की मां ने इस कुकृत्य से बेटे को बचाने के लिए मामले में गांव की ही एक महिला पर घर से बाहर ले जाकर दो अज्ञात युवकों से जबरन दुष्कर्म कराने का आरोप लगाते हुए महिला थाने में प्राथमिकी दर्ज करा दी थी.

महिला थाने में दर्ज प्राथमिकी में पीड़िता की मां ने कहा है कि 26 अगस्त को जब उसकी नाबालिग बेटी नहाने जा रही थी, तो उसका पेट देखा. उसके बाद गर्भवती होने का शक हुआ. इसके बाद जब उसने इस संबंध में डांट-फटकार कर उससे पूछा, तो उसने बताया कि कुछ महीने पहले वह गांव की बगलगीर और चैनपुर के बरुडी निवासी विनोद बिंद की पत्नी घंघरी देवी के साथ रात आठ बजे शौच के लिए बाहर गयी थी. इसी दौरान धंधरी देवी साजिश के तहत गांव के बगीचे में ले गयी, जहां पहले से मौजूद दो अज्ञात युवकों ने उसकी बेटी का मुंह गमछे से बांध दिया और फिर दोनों ने उसके साथ दुष्कर्म किया. दुष्कर्म किये जाने के बाद घंघरी देवी और उसके साथ रहे दोनों अज्ञात युवकों ने उसकी बेटी को काफी डरा-धमका दिया था कि अगर इस बात की चर्चा वह किसी से करेगी, तो उसे जान से मार दिया जायेगा. इसके चलते उसकी बेटी घर में घटना का किसी से भी जिक्र नहीं किया.

इधर, मामले में पुलिस ने जब दुष्कर्म का अनुसंधान शुरू किया, तो मामला कुछ और ही निकला. मामले में पीड़िता ने अदालत में दर्ज कराये गये 164 के तहत अपने बयान में बताया कि उसकी मां और पिता बाहर मजदूरी करते हैं. घर पर वह और उसके दो भाई साथ रहते हैं. इसी दौरान उसके पागल व गूंगे भाई ने उसके साथ दुष्कर्म किया. एक दिन जब वह नहा कर कपड़े पहन रही थी, तो उसकी मां ने उसका पेट देख लिया था. इस मामले में पुलिस ने आरोपित बनायी गयी घंघरी देवी को निर्दोष पाते हुए जहां उक्त कांड से उसे बरी कर दिया. वहीं, पीड़िता के पागल भाई को उक्त मामले में दोषी पाते हुए जेल भेज दिया गया. इसी बीच, भाई के दुष्कर्म का शिकार हुई नाबालिग ने सोमवार को सदर अस्पताल में बेटे को जन्म दिया है.

Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement