Advertisement

Jehanabad

  • Aug 17 2018 5:37AM

लाभान्वितों के खाते में भेजी गयी प्रथम किस्त की 1.27 करोड़ की राशि

 600 पुरानी इकाइयों के लिए दूसरी किस्त जारी

जहानाबाद : नगर पर्षद क्षेत्र के सभी 33 वार्डों को खुले में शौचमुक्त (ओडीएफ) बनाने की मुहिम तेज हो गयी है. स्वच्छ भारत मिशन के तहत वार्डों में टायलेट निर्माण के लिए उपेक्षित पड़े आवेदनों का निबटारा तेजी से किया जा रहा है. वर्ष 2016-18 की योजना के तहत वार्डों से गरीब परिवार के 5000 से अधिक लोगों ने शौचालय निर्माण के लिए आवेदन दिया था, जिसमें स्थल जांच के बाद 4327 आवेदनों को स्वीकृत कर लिये गये थे, लेकिन राशि निर्गत नहीं होने से निर्माण कार्य लंबित था. नये कार्यपालक पदाधिकारी ने पदभार ग्रहण करने के बाद शहर की सफाई व्यवस्था के साथ शौचालय निर्माण की अद्यतन स्थिति की फाइलें खंगाली.
 
बताया गया कि लंबित पड़े आवेदनों में से 1700 नये शौचालयों के निर्माण के लिए स्वीकृति दी गयी और लाभान्वितों के खाते में प्रथम किस्त की राशि भी भेज दी गयी. प्रावधान के तहत सरकार की स्वच्छ भारत मिशन योजना के तहत शौचालय बनाने के लिए दो किस्तों में 12000 रुपये सहयोग राशि के रूप में देने का प्रावधान है. प्रथम किस्त में 7500 और दूसरी किस्त में 4500 रुपये दिये जाते हैं. प्रथम किस्त के रुपये का उपयोग किये जाने और स्थल निरीक्षण के क्रम में संतोषजनक प्रगति पाये जाने पर दूसरी किस्त की राशि खाते में भेज दी जाती है.
शहर को शीघ्र ओडीएफ बनाना हमारा लक्ष्य
एक हजार सात सौ नये शौचालयों के निर्माण के लिए लाभुकों के खाते में प्रथम किस्त की एक करोड़ 27 लाख 50 हजार की राशि भेजी गयी है. इसके अलावा पहले से बन रहे 600 शौचालयों को पूरा करने के लिए दूसरी किस्त की राशि दी गयी है. शहर को ओडीएफ बनाना हमारी प्राथमिकता है. शीघ्र ही सभी वार्डों को खुले में शौचमुक्त बना लिया जायेगा. निर्माण कार्य में लापरवाही बरतने वालों के विरुद्ध कार्रवाई की जायेगी.
वसंत कुमार, कार्यपालक पदाधिकारी, नगर पर्षद, जहानाबाद
 
Advertisement

Comments