jamshedpur

  • Jan 24 2020 2:01AM
Advertisement

टाटा स्टील की तरह सुविधा मांगने से बिगड़ रही है बात

जमशेदपुर : जुस्को में ग्रेड रिवीजन को लेकर प्रबंधन व यूनियन के बीच वार्ता गुरुवार को बेनतीजा रही. प्रबंधन ने कंपनी की वर्तमान आर्थिक स्थिति का हवाला देकर यूनियन की कई अहम मांगों को पूरा करने से इनकार कर दिया है. वहीं यूनियन ने प्रबंधन के हर बिंदु पर पीछे हटने की रणनीति को देखकर स्ट्रेटजी में बदलाव किया है.

 
यूनियन की ओर से अध्यक्ष रघुनाथ पांडेय, महामंत्री वीडी गोपाल कृष्णा और प्रबंधन की ओर से प्रणय सिन्हा, गौतम भट्‌ट मिश्रा और सुशांत मौर्या वार्ता में शामिल हुए. 
 
बैठक में प्रबंधन की ओर से कहा गया है कि टाटा स्टील के कर्मचारियों की तरह सुविधा की मांग कंपनी की आर्थिक स्थिति के अनुरूप नहीं है. यूनियन टाटा स्टील से तुलना कर वार्ता न करें क्योंकि प्रबंधन इसे पूरा करने में असमर्थ है. हालांकि प्रबंधन कर्मचारियों के लड़के-लड़कियों को जरूरत के अनुसार नौकरी में प्राथमिकता देने, ग्रेड अवधि छह साल करने को लेकर तैयार है. जबकि मिनिमम गारेंटेड बेनीफिट (एमजीबी) समेत अन्य मुद्दों पर प्रबंधन व यूनियन के बीच गैप से ग्रेड रिवीजन समझौता लंबित होता दिख रहा.
 
यूनियन ने टाटा स्टील के बराबर 12.75 प्रतिशत एमजीबी का प्रस्ताव दिया है. प्रबंधन ने तर्क देकर इसमें कटौती की बात कही थी लेकिन अन्य मुद्दों पर भी यूनियन की ओर से टाटा स्टील की तरह मांग किये जाने से स्थितियां बदल गयी हैं. यूनियन का एक पक्ष मार्च में प्रस्तावित यूनियन चुनाव के पहले ग्रेड रिवीजन समझौता करना चाहता है ताकि चुनाव में इसे भुनाया जा सके. वहीं दूसरे पक्ष के नेता आनन-फानन में ग्रेड समझौता करने के मूड में नहीं है. 
 
फरवरी में एजीएम व मार्च में होगा चुनाव. जुस्को श्रमिक यूनियन का चुनाव मार्च में होगा. यूनियन संविधान के अनुसार चुनाव से एक महीना पहले एजीएम का प्रावधान है. यूनियन सूत्रों के अनुसार 15 फरवरी के आसपास एजीएम की तैयारी चल रही है. ऐसे में संभावना है कि 15 मार्च के आसपास चुनाव हो सकता है.
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement