Advertisement

jamshedpur

  • May 19 2019 2:05AM
Advertisement

शहर के गैर कंपनी क्षेत्र की 6.5 लाख की आबादी बेहाल

जमशेदपुर : जमशेदपुर के गैर कंपनी इलाके में पिछले एक सप्ताह से बिजली की आपूर्ति प्रभावित है. शाम होते ही मानगाे, उलीडीह, आजादनगर, जवाहरनगर, बारीडीह, बिरसानगर, गाेविंदपुर, परसुडीह, करनडीह, सुंदरनगर, कीताडीह, बागबेड़ा आैर जुगसलाई क्षेत्र में 6.5 लाख से अधिक आबादी को बिजली की आंख-मिचाैली से परेशानी शुरू हो जाती है. इन क्षेत्रों में शाम 6 बजे से लेकर 9 बजे तक बिजली का आना-जाना लगा रहता है, वहीं रात 10 बजे के बाद लोड शेडिंग शुरू होती है, जो रात दाे बजे के बाद ठीक होती है.

 
इसके बाद सुबह पांच बजे से फिर वही स्थिति शुरू हो जाती है. जमशेदपुर विद्युत विभाग के महाप्रबंधक अरविंद कुमार ने दावे के साथ कहा शहर काे फुल लाेड बिजली मिल रही है. लाेकल प्रॉब्लम आने की स्थिति में शेडिंग लेना अनिवार्य है. जमशेदपुर में करनडीह, सारजामदा, जुगसलाई, छाेटा गाेविंदपुर, बिरसानगर, मानगाे में तीन समेत दर्जन सब स्टेशन बेहतर विद्युत व्यवस्था बनाये रखने के लिए कार्यरत हैं. सारजामदा आैर बिरसानगर के सब स्टेशन काे छाेड़कर बाकी सब स्टेशन पुराने हाे गये हैं.
 
गम्हरिया ग्रिड से जमशेदपुर काे आम दिनाें में फुल लाेड की स्थिति में 125-130 मेगावाट बिजली की आपूर्ति की जाती है. इसके बाद सब स्टेशनाें से महज 70-80 मेगावाट की ही आपूर्ति क्षेत्र में की जाती है. फुल लाेड बिजली सप्लाई इसलिए संभव नहीं है कि तार इसका लाेड सहने की स्थिति में नहीं हैं. सब स्टेशन भी अपने सभी फीडराें से एक साथ बिजली अापूर्ति नहीं करते हैं. एक फीडर काे बंद कर दूसरे काे चलाकर किसी तरह वे काम निकाल रहे हैं. जमशेदपुर की आबादी के अनुसार 200 मेगावाट बिजली की आपूर्ति हर दिन मिलनी चाहिए, लेकिन इसकी आधी भी नहीं मिल रही है.
 
गम्हरिया ग्रिड में 50-50 एमीवीए के दाे ट्रांसफार्मराें से बिजली का विस्तारण जमशेदपुर काे किया जा रहा है, जिस दिन एक ट्रांसफार्मर किसी कारणवश ठप हाे गया, ताे आधा से अधिक एरिया में पूरी तरह से अंधेरा छा जायेगा. विगत तीन वर्षाें से कुछ पाटर्स नहीं बदलने के कारण एक 50 एमवीए का ट्रांसफार्मर वहां खराब पड़ा हुआ है, उसकी सुध लेनेवाला काेई नहीं है. 
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement