Industry

  • Jan 17 2020 9:07PM
Advertisement

SBI के अर्थशास्त्रियों ने कहा, अंतिम कर्जदाता की भूमिका निभाए रिजर्व बैंक

SBI के अर्थशास्त्रियों ने कहा, अंतिम कर्जदाता की भूमिका निभाए रिजर्व बैंक

मुंबई : भारतीय स्टेट बैंक के अर्थशास्त्रियों ने गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों (एनबीएफसी) में जारी संकट के बीच शुक्रवार को कहा कि रिजर्व बैंक को अंतिम कर्जदाता की अपनी भूमिका निभानी चाहिए. इन अर्थशास्त्रियों का मानना है कि केंद्रीय बैंक एनबीएफसी क्षेत्र में 2018 में समस्या शुरू होने के समय से ही अपनी इस भूमिका से बचता रहा है.

बजट को लेकर उम्मीदों पर अपनी रिपोर्ट में अर्थशास्त्रियों ने कहा है कि आरबीआई को एनबीएफसी को संपत्ति के एवज में नकदी उपलब्ध कराने के बारे में ‘गंभीरता से विचार' करना चाहिए. उनका कहना है कि वित्तीय बाजार में भरोसे के संकट को देखते हुए यह जरूरी है कि केंद्रीय बैंक अंतिम कर्जदाता की अपनी भूमिका नहीं भूले.

गौरतलब है कि आईएलएंडएफएस के धाराशायी होने के बाद से एनबीएफसी क्षेत्र प्रभावित है. कुछ विश्लेषकों का कहना है कि नकदी समस्या से जूझ रही एनबीएफसी द्वारा कर्ज दिये जाने में कमी से खपत कम हुई है. इसकी वजह से अन्य बातों के अलावा जीडीपी (सकल घरेलू उत्पाद) वृद्धि दर घटी है.

एसबीआई की रिपोर्ट में एक फरवरी को पेश होने वाले बजट के लिए राजकोषीय नीति को लेकर दिये गये सुझाव में एनबीएफसी की मदद की बात शामिल की गयी है. अन्य बातों में एसबीआई के अर्थशास्त्रियों ने सिफारिश की है कि सरकार को वृद्धि पर ध्यान देना चाहिए न कि राजकोषीय घाटे का लक्ष्य हासिल करने पर.

रिपोर्ट के अनुसार, अगर ऐसा नहीं किया गया, तो वृद्धि में नरमी की समस्या और बढ़ेगी. उन्होंने 2020-21 के लिए राजकोषीय घाटा 3.8 फीसदी पर रखने का सुझाव दिया है. यह 2019-20 के उसके संशोधित अनुमान 3.8 फीसदी के बराबर है.

इसमें कहा गया है कि सरकार को 2021-22 के नये राजकोषीय मजबूती के लिए नयी रूपरेखा अपनाना चाहिए. इसके तहत 2024-245 तक राजकोषीय घाटे को 0.20 फीसदी कमी लाने पर गौर किया जाना चाहिए. अर्थशास्त्रियों के अनुसार, कृषि क्षेत्र की बेहतरी और बेहतर स्वास्थ्य परिणाम के लिए सरकार ‘पौष्टिक भारत' नाम से योजना घोषित कर सकती है.

Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement