Advertisement

Industry

  • Jun 19 2019 8:55PM
Advertisement

चेयरमैन सुनील मेहता की रिपोर्ट : पीएनबी ने वित्त वर्ष 2018-19 में वसूला 20,000 करोड़ रुपये का फंसा कर्ज

चेयरमैन सुनील मेहता की रिपोर्ट : पीएनबी ने वित्त वर्ष 2018-19 में वसूला 20,000 करोड़ रुपये का फंसा कर्ज

नयी दिल्ली : सार्वजनिक क्षेत्र के पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) ने मार्च में समाप्त वित्त वर्ष में 20,000 करोड़ रुपये के फंसे कर्ज की वसूली की है. यह इससे पिछले वित्त वर्ष में की गयी फंसे कर्ज की वसूली का दोगुना है. बैंक के चेयरमैन सुनील मेहता ने यह जानकारी दी. नीरव मोदी और मेहुल चौकसी और बैंक के कुछ कर्मचारियों द्वारा बैंक में की गयी धोखाधड़ी के चलते बैंक को काफी नुकसान उठाना पड़ा था. इस घोटाले का खुलासा 2018 की फरवरी में हुआ था.

मेहता ने बैंक की वार्षिक रिपोर्ट में कहा है कि 2018-19 की शुरुआत बहुत अच्छी नहीं रही. उन्होंने कहा कि इतनी चुनौतियों के बावजूद बैंक का घाटा घटकर 9,975 करोड़ रुपये रहा, जो इससे पिछले वित्त वर्ष 2017-18 में 12,283 करोड़ रुपये था. बैंक के फंसे कर्ज के स्तर में तिमाही आधार पर कमी आयी है. मार्च 2018 के अंत में बैंक का शुद्ध एनपीए 48,684 करोड़ रुपये था, जो घटकर 30,038 करोड़ रुपये पर आ गया.

मेहता ने कहा कि मार्च 2019 तक बैंक की फंसे कर्ज की वसूली 20,000 करोड़ रुपये से अधिक रही, जबकि 2017-18 में बैंक ने 9,666 करोड़ रुपये का ही फंसा कर्ज वसूला था. रिपोर्ट के अनुसार, समीक्षावधि में बैंक का सकल घरेलू ऋण 14.1 फीसदी बढ़कर 4.91 लाख करोड़ रुपये रहा. बैंक ने 31 मार्च, 2019 तक कुल 1,142 लोगों को जानबूझकर ऋण नहीं चुकाने वाला चूककर्ता घोषित किया है.

Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement