Advertisement

health

  • Nov 16 2019 8:21AM
Advertisement

गर्भावस्था के दौरान टीकाकरण है महत्वपूर्ण, जानें कुछ जरूरी बातें

गर्भावस्था के दौरान टीकाकरण है महत्वपूर्ण, जानें कुछ जरूरी बातें

डॉ रागिनी ज्योति, बीएचएमएस, आदर्श होमियो क्लीनिक, राजीव नगर, पटना
गर्भावस्था के दौरान महिलाओं के शरीर में विभिन्न तरह के बदलाव आते हैं. इस दौरान उनका शरीर संक्रामक रोगों के प्रति संवेदनशील हो जाता है. ऐसे में गर्भावस्था के दौरान मां और शिशु की रक्षा के लिए सिर्फ पौष्टिक भोजन और व्यायाम ही काफी नहीं होता है. कुछ अन्य बातों पर भी गौर करने की जरूरत होती है.

प्रेग्नेंसी के दौरान महिला की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए टीकाकरण करवाना बहुत जरूरी होता है. प्रेग्नेंसी की शुरुआत में ही डॉक्टर आपको कौन-कौन-सी जांच करवानी है और कौन से टीके प्रेग्नेंसी के दौरान लगवाने हैं, इसकी जानकारी देते हैं. गर्भ में पल रहे शिशु के स्वास्थ्य की देखभाल और सुरक्षा के लिए गर्भवती मां को टीके जरूर लगवाने चाहिए. टीकाकरण से मां और शिशु दोनों कई प्रकार के संक्रामक रोगों से बचे रहते हैं.

इस प्रक्रिया को निष्क्रिय टीकाकरण कहा जाता है. गर्भावस्था के दौरान टीकाकरण, बच्चे को गर्भ में और जन्म के कुछ समय बाद तक बीमारियों से बचाता है. हालांकि, आपको गर्भावस्था के लिए टीका लगवाने का इंतजार नहीं करना चाहिए, क्योंकि कुछ टीके गर्भावस्था के दौरान नहीं दिये जा सकते हैं. टीकाकरण प्रक्रिया गर्भवती होने से बहुत पहले शुरू होनी चाहिए.

टीकाकरण के साइड इफेक्ट्स : किसी भी दवा की तरह टीके के भी साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं. लेकिन ये आमतौर पर हल्के होते हैं और अपने आप ठीक जाते हैं, जैसे- जहां टीका दिया गया हो, वहां दर्द, लालीमा, सूजन. उस जगह मांसपेशियों में दर्द थकान और बुखार हो सकता है.

प्रेग्नेंसी से पहले लगने वाले टीके :
सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन के अनुसार कुछ टीके गर्भावस्था से पहले लगवाने चाहिए. टीके लगवाने से पहले डॉक्टर की सलाह पर रक्त की जांच करवानी चाहिए. इसके बाद डॉक्टर की सलाह पर कुछ टीके लगवाये जा सकते हैं, जैसे : MMR (खसरा, मम्प्स व रूबेला). रूबेला ऐसी गंभीर बीमारी है, जिसके कारण गर्भपात हो सकता है. इस बीमारी के खिलाफ सबसे अच्छी सुरक्षा MMR वैक्सीन है.

हेपेटाइटिस-बी : अगर गर्भावस्था के दौरान हेपेटाइटिस-बी का संक्रमण हो, तो यह जन्म के बाद शिशु को भी हो सकता है. हेपेटाइटिस-बी बच्चे के लिए गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं पैदा कर सकता है.

गर्भावस्था के दौरान लगने वाले टीके

गर्भवती को कई टीका लगवाने की आवश्यकता होती है.

-DPT का टीका : DPT यानी डिप्थीरिया, टिटनेस, पर्टुसिस का टीका गर्भवती को लगाया जाता है.

-इंफ्लुएंजा का टीका : गर्भवती को इंफ्लुएंजा का टीका लगवाना जरूरी है.

-व्हूपिंग कफ का टीका : व्हूपिंग कफ (काली खांसी) से बचने के लिए डॉक्टर इसे लगवाने की सलाह देते हैं.

नोट : सीडीसी की रिपोर्ट के अनुसार सभी टीके भ्रूण के लिए सुरक्षित नहीं हैं. विशेष रूप से लाइव-वायरस के टीके गर्भवती को नहीं दिये जाने चाहिए. इसलिए डॉक्टर की सलाह से ही टीके लगवाएं.

Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement