Advertisement

Gossip

  • Nov 8 2018 6:29PM

जब इस वजह से आपस में भिड़ गये थे अमिताभ बच्चन आैर आमिर खान, जानें पूरा मामला

जब इस वजह से आपस में भिड़ गये थे अमिताभ बच्चन आैर आमिर खान, जानें पूरा मामला
file photo.

बॉलीवुड के दो बड़े सुपरस्टार्स- अमिताभ बच्चन और आमिर खान की फिल्म 'ठग्स ऑफ हिंदोस्तान' रिलीज हो चुकी है. अपनी-अपनी पीढ़ी में इन दोनों टाॅप स्टार्स ने पहली बार किसी फिल्म में स्क्रीन शेयर किया है.

जहां अमिताभ बच्चन लगभग पांच दशकों से बॉलीवुड में सक्रिय है, वहीं आमिर खान तीन दशकों से. मालूम हो कि अमिताभ बॉलीवुड के तीन किंग खान्स में दो- शाहरुख और सलमान के साथ फिल्मों में स्क्रीन शेयर कर चुके हैं. ऐसे में आमिर खान के साथ बिग बी के एक फिल्म में आने का इंतजार दर्शकों को लंबे अरसे से था.

जाहिर है कि 'ठग्स ऑफ हिंदोस्तान' के लिए लोग एक्साइटेड हैं. ऐसे में दीपावली के मौके पर रिलीज हुई यह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर कोई न कोई गुल तो जरूर खिलाएगी, इतना तो तय है.

फिल्म 'ठग्स ऑफ हिंदोस्तान' की शूटिंग के दौरान अमिताभ बच्चन और आमिर खान की जो खबरें आ रही थीं, उनसे तो यही लग रहा है कि दोनों के बीच काफी अच्छी ट्यूनिंग है. कभी अमिताभ आमिर की तारीफ करते दिखे, तो कभी अमिताभ की तारीफ में आमिर ने कसीदे पढ़े.

लेकिन क्या आपको पता है कि एक समय ऐसा भी आया, जब अमिताभ बच्चन और आमिर खान के बीच ठन गयी थी. बात दरअसल एक दशक पुरानी है. तब अमिताभ बच्चन की फिल्म 'ब्लैक' के बारे में आमिर खान ने कुछ ऐसी बात कह दी थी, जिससे बिग बी बुरा मान गये.

हुआ कुछ यूं था कि आमिर ने 'ब्लैक' देखने के बाद एक इंटरव्यू में कहा था कि उन्हें यह फिल्म और अमिताभ बच्चन की एक्टिंग समझ में नहीं आयी. यहां तक कि बॉलीवुड के मिस्टर परफेक्शनिस्ट आमिर ने 'ब्लैक' को असंवेदनशील फिल्म तक कह डाला था. आमिर का कहना था कि वह जब फिल्‍म देखकर निकले, तो अमिताभ बच्‍चन की भूमिका उनके सिर के ऊपर से निकल गयी.

आमिर ने फिल्म के कुछ बिंदुओं की ओर इशारा करते हुए बताया कि उन्हें यह बात समझ नहीं आयी कि रानी ने जिस मूक-बधिर और नेत्रहीन लड़की आयेशा का किरदार निभाया है, वह जिस घर में रहती है वो चर्च है या लाइब्रेरी है या घर.

इसी तरह, आमिर ने कहा था कि इस फिल्म में दिखाया गया है कि एक मूक-बधिर और नेत्रहीन लड़की (रानी मुखर्जी) को पढ़ाने-सिखाने की जिम्मेवारी एक शराबी आदमी (अमिताभ बच्चन) को दी जाती है. और वह उस लड़की को थप्पड़ भी मारता है. इसे किसी भी तरह सही नहीं ठहराया जा सकता.

यहां आमिर यह कहना चाहते थे कि ऐसे विशेष बच्चों को सख्ती नहीं, प्यार और दुलार की जरूरत होती है.

आपको याद होगा कि अमिताभ बच्चन ने फिल्म 'ब्लैक' में एक टीचर का किरदार निभाया था. फिल्म में अमिताभ बच्चन ने एक मूक-बधिर और नेत्रहीन लड़की के किरदार में नजर आयीं रानी मुखर्जी को बोलना सिखाते हैं.

वहीं, आमिर खान फिल्म 'तारे जमीन पर' कुछ इसी तरह की भूमिका निभाते नजर आये थ. इस फिल्म में आमिर एक ऐसे बच्चे के टीचर थे, जो क्रिएटिव तो था लेकिन सीखने में समय लेता था. आमिर उस बच्चे को जिंदगी की रेस के लिए तैयार करते दिखे थे.

अपनी फिल्म 'ब्लैक' के बारे में आमिर खान की प्रतिक्रिया पर अमिताभ बच्चन ने तब कहा था कि वह आमिर की प्रतिक्रिया का स्वागत करते हैं. हो सकता है कि 'ब्लैक' आमिर के सिर के ऊपर से गुजर गयी हो. अगर 'ब्लैक' में दिखायी गयी कोई बात उन्हें अच्छी नहीं लगी, तो वह आगे इसका ख्याल रखेंगे.

लेकिन इसके साथ ही अमिताभ ने कहा कि आमिर को भी अपनी फिल्म 'लगान' में इस बात का ध्यान रखना चाहिए था कि एक पोलियोग्रस्त शख्स क्रिकेट के मैच में इतनी अच्छी बॉलिंग कैसे कर सकता है? इसके अलावा, फिल्म 'फना' में आमिर ने जो किरदार निभाया था, उसने दृष्टिहीन बनी काजोल के साथ जो कुछ किया था, क्या वह संवेदनशील था?

 

Advertisement

Comments

Advertisement