Advertisement

giridih

  • Aug 23 2019 7:57AM
Advertisement

पूर्व विधायक निजामुद्दीन बरी कार्यकर्ताओं ने मनाया जश्न

 खोरीमहुआ/हीरोडीह :  16 वर्ष पुराने मामले में राजधनवार के पूर्व विधायक निजामुदीन अंसारी को हाइकोर्ट ने बरी कर दिया. गुरुवार को फैसला आने के बाद निजामुद्दीन खोरीमहुआ पहुंचे, जहां कार्यकर्ताओं ने उनका स्वागत किया. इसके बाद प्रेस वार्ता में पूर्व विधायक ने कहा कि मुझे एक साजिश के तहत फंसाया गया था. बताया कि जिस कांड में उन्हें बरी किया गया है वह मामला धनवार थाना कांड संख्या 64/2003 से जुड़ा है. 

 
विधायक ने कहा कि वर्ष 2003 में धनैपुरा के एक गैरमजरूआ जमीन में मदरसा निर्माण कराया जा रहा था. इस दौरान विभागीय पदाधिकारियों ने आपत्ति जतायी  तो ग्रामीण ऊक्त स्थल को छोड़कर निजी जमीन पर मदरसा का निर्माण करवाने लगे. बाद में सूचना पर प्रशासन की टीम पहुंची और पुनः इसका विरोध कर मदरसा की दीवार तोड़ दी तो ग्रामीण प्रशासन के रवैये से उग्र हो गये. 
 
इसके बाद पदाधिकारियों एवं ग्रामीणों के बीच हाथापाई हो गयी थी. इसके बाद प्रशासन की ओर से सरकारी कार्य मे बाधा पहुंचाने, मारपीट करने आदि अन्य आरोप लगा धनवार थाने में मुकदमा दायर कर दर्जनों लोगों पर प्राथमिकी दर्ज करायी गयी थी. इसमें साजिश के तहत मुझे भी अभियुक्त बनाया गया था.
 
 इसकी जानकारी मुझे कई सालों तक नहीं थी. मुझे जानकारी तब हुई जब वर्ष 2014 में विधानसभा चुनाव में नामांकन करवाने के बाद उक्त मामले को ले मेरा नामांकन रद्द कर दिया गया. इधर, पार्टी कार्यकर्ताओं ने विधानसभा क्षेत्र के कोड़ाडीह में पूर्व विधायक का स्वागत कर बाइक रैली निकालकर जगह जगह आतीशबाजी की व मिठाई बांटी. 
 
मौके पर शफीक अंसारी, प्रखंड अध्यक्ष निरंजन सिंह, मिन्हाज अली, राशिद अंसारी, मो. नाशिम अख्तर, नाशिम राही, नारायण यादव, मंसूर आलम, बिजय सिंह, सिराज आलम, मोख्तार आलम, अब्दुल रशीद, मो. अख्तर, मुमताज अंसारी, मुस्तकीम अंसारी, मौलाना मनाउवर सहित काफी संख्या में झामुमो नेता उपस्थित थे.
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement