Advertisement

giridih

  • Jan 10 2019 10:01AM
Advertisement

बेंगाबाद : घायल पुरुष को गर्भवती बता कर दिया रेफर

बेंगाबाद : पेट में कैंची व तौलिया छूट जाने की खबर तो लोगों ने सुनी है, पर पुरुष को गर्भवती बता देना तो अजूबा है. मारपीट में घायल एक पुरुष को नौ माह का गर्भवती बता कर गिरिडीह रेफर कर देने का मामला सामने आया है. मामला सीएचसी बेंगाबाद का है. जानकारी के अनुसार अमजो में मंगलवार की रात दो भाइयों के बीच मारपीट हो गयी थी. मारपीट में हरिनंदन यादव घायल हो गया था. 
 
 चिकित्सक का फर्जी हस्ताक्षर : घायल हरिनंदन ने बताया कि इलाज के लिए वह रात के ग्यारह बजे बेंगाबाद सामुदायिक अस्पताल पहुंचा, पर यहां चिकित्सक गायब थे. इस बीच एक एएनएम ने मरहम पट्टी के बाद पंजीकरण स्लिप में चिकित्सक का फर्जी हस्ताक्षर कर उसे रेफर कर दिया. सुबह उसने रेफर करने की जानकारी प्रमुख रामप्रसाद यादव को दी. पर्चा दिखाने पर घायल के नौ माह का गर्भ इंगित देखने पर वे हतप्रभ हो गये. प्रमुख ने तत्काल प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी से संपर्क साधा और स्लिप की जांच की बात कही. 
 
लापरवाही का द्योतक : जांच के बाद प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डाॅ. संतोष कुमार ने माना कि एएनएम की लापरवाही साफ तौर पर दिख रही है. 
 
कहा कि किसी पुरुष को नौ माह की गर्भवती बताकर रेफर कर देना, चिकित्सक की अनुपस्थिति के बाद भी पर्चा में चिकित्सक का हस्ताक्षर और गलत तिथि अंकित रहना घोर लापरवाही का द्योतक है. कहा : एएनएम से स्पष्टीकरण मांगा जायेगा. इसके अलावे चिकित्सक से अनुपस्थिति का कारण पूछा जायेगा. 
 
एएनएम रेफर नहीं कर सकती : सीएस
 
सिविल सर्जन डाॅ. रामरेखा प्रसाद ने कहा कि एएनएम को किसी भी मरीज को रेफर करने का अधिकार नहीं है. मरीजों को चिकित्सक रेफर कर सकते हैं. यदि चिकित्सक की अनुपस्थिति में एएनएम ने मरीज को रेफर दिया तो मामले की जांच होगी और घटना के समय अनुपस्थित चिकित्सक पर भी कार्रवाई की जायेगी.
 

Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement