garhwa

  • Jan 23 2020 3:05AM
Advertisement

82 लोगों की नौकरी खतरे में

2019 से जिले में बहाल हैं 50 कंप्यूटर ऑपरेटर तथा 32 कनीय अभियंता

 
गढ़वा : गढ़वा जिले में 14वें वित्त से बहाल कंप्यूटर ऑपरेटर सह लेखापाल व कनीय अभियंताअों की नौकरी खतरे में पड़ गयी है़  ग्रामीण विकास विभाग पंचायती राज के उपसचिव शंभुनाथ मिश्रा के एक पत्र के बाद अनुबंध पर सेवारत इन कर्मियों में हड़कंप मच गया है़   गढ़वा जिले में बीते अक्तूबर महीने में जिला पंचायती राज विभाग की ओर से 14वें वित्त की राशि से 50 लेखा लिपिक सह कंप्यूटर ऑपरेटर तथा 32 कनीय अभियंता बहाल किये गये थे़  नियमानुसार इन सभी को नवंबर 2020 तक सेवा में रहना था. 
 
उसके बाद कार्य के अनुसार इनकी सेवा को विस्तार दिया जा सकता था़  लेकिन वर्तमान समय में पंचायती राज विभाग के पत्रांक 41, दिनांक सात जनवरी 2020 के अनुसार 31 मार्च को 14वां वित्त ही समाप्त किया जा रहा है. ऐसी स्थिति में कंप्यूटर ऑपरेटर व कनीय अभियंता दोनों पद पर कार्यरत कुल 52 लोगों का अनुबंध व सेवा स्वत: 31 मार्च को समाप्त हो जायेगी़   उपसचिव ने अपने पत्र में आगे इन कर्मियों की सेवा विस्तार या नवीकरण नहीं करने के निर्देश दिये है़ं   इस वजह से एक साल के बजाय मात्र छह माह में ही सभी कर्मियों की सेवा समाप्त हो जायेगी.
 
उल्लेखनीय है कि गढ़वा जिले के सभी 189 पंचायतों में प्रत्येक तीन पंचायतों के हिसाब से लेखा लिपिक सह कंप्यूटर ऑपरेटरों को लगाया गया है़  वे सबंधित पंचायतों में 14वें वित्त से संपादित हो रहे सारे कार्यों का हिसाब देख रहे है़. 
 
इससे त्रुटिरहित कार्यों को संपादित करने में विभाग को काफी सहुलियत भी हो रही थी़  लेकिन सेवा समाप्त करने संबंधित आदेश की वजह से उनमें निराशा देखी जा रही है़   उल्लेखनीय है कि इसके पूर्व 13वें वित्त से कंप्यूटर ऑपरेटर आदि की बहाली की गयी थी.
 
लेकिन उसमें पुराने लोगों की सेवा को विस्तार नहीं दिया गया़  13वें वित्त से बहाल कंप्यूटर ऑपरेटरों को आशा थी कि उन्हें 14वें वित्त शुरू होने के बाद उसमें उन्हें एडजस्टर किया जायेगा, लेकिन कई प्रकार की तकनीकी अड़चन की वजह से 14 वां वित्त शुरू होने पर नये लोगों को अनुबंधित किया गया.
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement