Advertisement

gadget

  • Feb 21 2018 4:17PM

गलत है 13 अंक के मोबाइल नंबर वाली खबर, पढ़ें पूरा सच

गलत है 13 अंक के मोबाइल नंबर वाली खबर, पढ़ें पूरा सच


नयी दिल्ली :
अगर आपने भी 13 अंकों वाले मोबाइल नंबर की खबर पढ़ी है और उसे दूसरों के साथ भी शेयर कर रहे हैं, तो हम आपको बता दें कि आप गलत जानकारी साझा कर रहे हैं. इस खबर में केंद्र सरकार का हवाला देते हुए बताया गया है, अब नये मोबाइल नंबर 13 अंकों के होंगे. यह खबर कई वेबसाइट व सोशल साइट पर वायरल हो रही है. खबर में यह भी बताया गया था कि जो मोबाइल नंबर दस अंक के हैं उन्हें भी बदलकर 13 अंकों का कर दिया जायेगा. इस खबर से उपभोक्ताओं में भ्रम की स्थिति बनती जा रही थी. लेकिन दूरसंचार विभाग ने इस खबर को गलत बताते हुए बयान जारी किया है कि  हमारी ऐसी कोई योजना नहीं है. सोशल मीडिया और न्यूज वेबसाइट पर यह अफवाह फैली है, जो गलत है. इसका सीधा अर्थ है कि अगर आपने भी ऐसी खबर पढ़ी है, तो उसे नजरअंदाज कीजिए. 

 
सच क्या है 
 
दूरसंचार विभाग ने टेलिकॉम कंपनियों के आग्रह पर 13 अंकों के मोबाइल नंबर सिम एम टू एम( मशीन टू मशीन) सर्विस के लिए शुरू करने का फैसला किया है.  इस बदलाव का आपके मोबाइल पर कोई असर नहीं पड़ेगा. दस अंकों के मोबाइल नंबर जारी रहेंगे.  दूरसंचार विभाग ने चल रही खबरों पर सफाई देते हुए कहा है, भारत में एयरटेल, वोडाफोन, रिलायंस, बीएसएनएल जैसी कंपनियों ने हमें चिट्ठी लिखकर आग्रह किया कि उन्हें 13 अंकों के नंबर जारी करने का आदेश दिया जाए. यह मुख्य रूप से( एम टू एम)  रिटेलर के लिए मान्य होंगे. 
क्या है तकनीकी पक्ष 
 
दूरसंचार विभाग ने एम टू एम सुविधा के लिए 13 अंकों के नंबर को लागू करने का फैसला लिया है.  यह सुविधा 1 जुलाई 2018  से लागू होगी. सिर्फ एम टू एम मोबाइल कनेक्शन को ही 13 अंको का नंबर मिलेगा. दूरसंचार विभाग ने यह आदेश दिया कि सभी टेलीकॉम कंपनियां तय तारीख से पहले खुद को तैयार कर लें ताकि कोई तकनीकी समस्या ना हो. अक्टूबर से इसे शुरू किया जायेगा. सारे टेस्ट और तकनीकी मजबूती के बाद इसे 31 दिसंबर से पूरी तरह लागू कर दिया जायेगा.
 
Advertisement

Comments