ranchi

  • Jan 19 2020 12:02PM
Advertisement

रांची में बोले झारखंड के ब्लॉगर : फूड ब्लॉगिंग में है बेहतर कैरियर

रांची में बोले झारखंड के ब्लॉगर : फूड ब्लॉगिंग में है बेहतर कैरियर

रांची : झारखंड के एक दर्जन से ज्यादा ब्लॉगर शनिवार को राजधानी रांची के ग्रिविन फामिली रेस्टोरेंट में मिले. रेडिशन ब्लू होटल के पास कडरू मोड़ पर स्थित रेस्टोरेंट में युवाओं की इस टोली ने कैरियर की नयी विधा पर विचार-विमर्श किया. ऊर्जावान युवाओं की इस टोली ने कहा कि तकनीक के क्षेत्र में असीम संभावनाएं हैं. तकनीक की थोड़ी-सी जानकारी हो, तो आप ब्लॉगिंग के क्षेत्र में भी कैरियर संवार सकते हैं.

रोहित सिंह, अंकुर सहाय, सुजोल चक्रवर्ती और श्रेयांसी सरकार जैसे ब्लॉगर्स ने कहा कि जीने के लिए भोजन जरूरी है. यही भोजन किसी का कैरियर संवार दे, किसी के रोजगार का जरिया बन जाये, तो इससे अच्छी बात और क्या हो सकती है. इसलिए नौकरी के पीछे भागने से बेहतर है कि टेक्नोलॉजी फ्रेंडली बनें और रोजगार के नये अवसर खुद तलाशें.

ब्लॉगर्स ने कहा कि हर कोई कहीं न कहीं रेस्टोरेंट में खाने जरूर जाता है. यदि आपको भोजन पसंद आये, तो उसके अनुभव को शब्दों में बयां करें. इस पर ब्लॉग लिखें और सोशल मीडिया पर उसे पोस्ट करें. इसका फायदा उन लोगों को भी होगा, जो बेहतर खाने की तलाश में रहते हैं. तरह-तरह के व्यंजन का आनंद लेना चाहते हैं, लेकिन अच्छे रेस्टोरेंट के बारे में उन्हें जानकारी नहीं होती.

इस मीट में फूड रांची (food ranchi), फूडी झारखंड (foodie jharkhand), अंकुर कसेरा फोटोग्राफी (ankur kasera photography), दैट फूडी फ्रीक (that foodie freak), मैं भी फूडी (mai_bhi_foodie), कुक एन डाइन (cook_n_dine), मिस्टर एंड मिसेज ईट्स रांची (mr and mrs eats ranchi), स्पाइसी सुजोल (spicy_sujol), श्रेयसी सरकार (shreyashi sarkar), रांची फूड स्टोरीज (that foodie freak) और फूडी_झारखंड (foodie_jharkhand) नाम से ब्लॉग चलाने वाले लोग शामिल हुए.

ये सभी ब्लॉगर्स 25 साल से कम उम्र के हैं. किसी न किसी कॉलेज में पढ़ाई कर रहे हैं और पढ़ाई के साथ-साथ ब्लॉगिंग के जरिये अपना खर्चा भी निकाल रहे हैं. ब्लॉगर्स ने बताया कि ये लोग हर महीने कम से कम 10-15 हजार रुपये कमा लेते हैं. इसके लिए उन्हें किसी की नौकरी नहीं करनी पड़ती. जब भी वक्त मिलता है, ब्लॉग लिख लेते हैं और इससे पोस्ट कर देते हैं. अपनी भावनाओं को शब्दों में पिरोकर ये लोग कमाई कर रहे हैं और अपने साथियों को भी प्रेरित कर रहे हैं.

Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement