Advertisement

entertainment

  • Aug 19 2019 10:48PM
Advertisement

मशहूर संगीतकार ख्य्याम का 92 वर्ष की आयु में निधन, पीएम मोदी और गायिका लता मंगेशकर ने किया शोक व्यक्त

मशहूर संगीतकार ख्य्याम का 92 वर्ष की आयु में निधन, पीएम मोदी और गायिका लता मंगेशकर ने किया शोक व्यक्त
फाइल फोटो.

मुंबई : मशहूर संगीतकार मोहम्मद जहूर खय्याम का 92 साल की उम्र में निधन हो गया. कुछ ही दिनों पहले उन्हें फेफड़ों के संक्रमण के चलते अस्पताल में भर्ती कराया गया था. उनकी हालत गंभीर बनी हुई थी और उन्हें आईसीयू में रखा गया था. डॉक्टरों के मुताबिक, आज इलाज के दौरान उन्हें दिल का दौरा पड़ा, जिससे रात करीब साढ़े नौ बजे उनका निधन हो गया.

खय्याम को 'त्रिशूल' , 'नूरी'  तथा 'शोला और शबनम' जैसी फिल्मों में शानदार संगीत के लिए जाना जाता है. उन्हें संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार और पद्म भूषण  से भी सम्मानित किया जा चुका है.

पंजाब के राहों गांव में पैदा होने वाले खय्याम ने संगीतकार के तौर पर अपने करियर की शुरुआत 1953 में की थी. उसी साल आयी उनकी फिल्म 'फिर सुबह होगी' से उन्हें बतौर संगीतकार पहचान मिली. चार दशक के करियर में उनकी पहचान बेहद कम मगर उम्दा किस्म का संगीत देने वाले संगीतकार के रूप में बनी.

2007 में उन्हें संगीत नाटक अकादमी अवॉर्ड, तो वहीं 2011 में उन्हें भारत सरकार द्वारा पद्म भूषण से नवाजा गया. 'फिर सुबह होगी' के अलावा जिन फिल्मों में उनके संगीत की काफी चर्चा हुई, उनमें कभी कभी,‌ उमराव जान, थोड़ी सी बेवफाई, बाजार, नूरी, दर्द, रजिया सुल्तान, पर्वत के उस पार, त्रिशूल जैसी‌ फिल्मों के नाम शुमार हैं.

संगीतकार खय्याम के निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और प्रसिद्ध गायिका लता मंगेशकर ने ट्वीटर के माध्यम से अपनी भावनाएं जाहिर की हैं.

खय्याम के निधन पर पीएम मोदी ने ट्वीटर के माध्यम से शोक व्‍यक्‍त किया है. उन्होंने लिखा है, 'सुप्रसिद्ध संगीतकार खय्याम साहब के निधन से अत्यंत दुख हुआ है. उन्होंने अपनी यादगार धुनों से अनगिनत गीतों को अमर बना दिया. उनके अप्रतिम योगदान के लिए फिल्म और कला जगत हमेशा उनका ऋणी रहेगा। दुख की इस घड़ी में मेरी संवेदनाएं उनके चाहने वालों के साथ हैं.' 

 

 

स्वर कोकिला लता मंगेशकर ने भी संगीतकार खय्याम के निधन पर श्रद्धांजलि दी.  उन्होंने ट्वीट किया, 'महान संगीतकार और बहुत ही नेक दिल इंसान खय्याम साहब आज हमारे बीच नहीं रहे. यह सुनकर मुझे इतना दुख हुआ है जो मैं बयां नहीं कर सकती. खय्याम साहब के साथ संगीत के एक युक का अंत हुआ है. मैं उनको विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित करती हूं'. 

Advertisement

Comments

Advertisement

Other Story

Advertisement