Advertisement

Economy

  • Mar 15 2019 6:03PM

RPFC ने कहा, सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद PF संबंधी मुकदमों में आयेगी कमी

RPFC ने कहा, सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद PF संबंधी मुकदमों में आयेगी कमी

कोलकाता : कर्मचारियों के वेतन से भविष्य निधि की कटौती के मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद इस संबंध में कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) के साथ इससे जुड़े मुकदमों में कमी आयेगी. सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में कहा है कि ईपीएफ बकाया की गणना के लिए नियोक्ता द्वारा दिये जाने वाले विशिष्ट भत्तों को मूल वेतन का हिस्सा माना जायेगा.

इसे भी देखें : 94,000 करोड़ की कर्जदार कंपनी में डूब सकते हैं पीएफ के 20,000 करोड़

उल्लेखनीय है कि वर्तमान में नियोक्ता और कर्मचारी दोनों ही मूल वेतन का 12 प्रतिशत हिस्सा ईपीएफओ में जमा करते हैं. स्थानीय भविष्य निधि आयुक्त (आरपीएफसी) नवेंदू राय ने आईसीसी द्वारा ईपीएफ अधिनियम पर आयोजित एक संगोष्ठी से इतर कहा कि आदेश में ईपीएफ अधिनियम की मौजूदा धाराओं को बरकरार रखा गया है. इस फैसले के बाद उम्मीद है कि पीएफ कटौती से संबंधित मुकदमों में कमी आयेगी.

सुप्रीम कोर्ट का यह फैसला इस सवाल की सुनवाई पर आया कि किसी प्रतिष्ठान द्वारा कर्मचारियों को दिये जाने विशिष्ट भत्तों को कर्मचारी भविष्य निधि एवं विविध प्रावधान अधिनियम 1952 के तहत पीएफ कटौती की गणना के लिए मूलभूत वेतन में शामिल माना जायेगा. केंद्रीय भविष्य निधि आयुक्त एसके संगमा ने बताया कि किसी कर्मचारी के पुराने नियोक्ता का भविष्य निधि बैलेंस अब स्वत: ही हस्तांतरित हो जायेगा.

Advertisement

Comments

Advertisement