Advertisement

Economy

  • Oct 14 2019 9:46PM
Advertisement

...तो क्या 2009 के बाद पहली मंदी की ओर बढ़ रही है विश्व की अर्थव्यवस्था, जानिए क्या कहते हैं विशेषज्ञ...

...तो क्या 2009 के बाद पहली मंदी की ओर बढ़ रही है विश्व की अर्थव्यवस्था, जानिए क्या कहते हैं विशेषज्ञ...

नयी दिल्ली : दुनियाभर की अर्थव्यवस्थाएं डगमगा रही हैं और यदि वह इससे ऊपर उठ भी जाए, तो वित्तीय बाजारों, कार्यकारियों के दफ्तरों और सत्ता के गलियारों में एक बड़ा सवाल मंडरा रहा है. शुक्रवार को निवेशकों ने जश्न मनाया. इसका सबसे बड़ा कारण यह था कि अमेरिका ने चीन के साथ आंशिक व्यापार समझौता किया. संकेत यहां तक थे कि ब्रिटेन यूरोपीय संघ के साथ रिश्ते तोड़ने को लेकर समझौता कर सकता है, लेकिन इस बीच इस मुद्दे पर एक बार फिर दोबारा बहस शुरू हो सकती है कि इस समय दुनिया वर्ष 2009 के बाद से पहले वाली स्थिति के कितनी करीब है? संभावना यह भी जाहिर की जा रही है कि इस हफ्ते वाशिंगटन में होने वाली अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष की बैठक में इस मसले पर चर्चा गरमा सकती है.

अंग्रेजी के अखबार द टाइम्स ऑफ इंडिया ने विशेषज्ञों से ली गयी राय के आधार पर विश्लेषण प्रकाशित की है. ब्लूमबर्ग इकोनॉमिक्स के वैश्विक जीडीपी ट्रैकर से पता चलता है कि तीसरी तिमाही की शुरुआत में दुनियाभर की जीडीपी की गति 2018 के 4.7 फीसदी के मुकाबले धीमी होकर 2.2 फीसदी रह गयी है. वहीं, आईएमएफ की नयी प्रमुख क्रिस्टालिना जॉर्जीवा दुनियाभर की अर्थव्यवस्थाओं में एक गंभीर जोखिम देखती हैं. उन्होंने चेताया है कि मंदी का प्रसार होगा और मंगलवार को इसकी 2019 की वैश्विक विकास दर में 3.2 फीसदी की कटौती की संभावना है, जो 2009 के बाद से पहले से ही सबसे कमजोर है.

इस बात से बॉन्ड कारोबार से जुड़े कारोबारी निश्चित रूप से चिंतित हैं कि 14 ट्रिलियन डॉलर के बॉन्ड नकारात्मक दरों को पैदा कर रहे हैं. इसके विपरीत, इक्विटी निवेशकों ने इस साल एमएससीआई वर्ल्ड इंडेक्स को 14 फीसदी तक भेजा है. ब्लूमबर्ग इकोनॉमिक्स के मुख्य अर्थशास्त्री टॉम ऑर्लिक के अनुसार, दुनिया को एक बड़ी मंदी को चकमा देने के लिए बहुत कुछ सही होने की जरूरत है. यहां 2020 में वैश्विक मंदी के बारे में उपजी चिंता खिलाफ उपाय करने के तर्क दिये गये हैं.

ट्रेड वार

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की चीनी नेता शी जिनपिंग के साथ 18 महीने के व्यापार युद्ध ने पहले ही वैश्विक विकास को दबाव में रखा है. हालांकि, शुक्रवार को एक सफलता मिली थी. हालांकि, बीजिंग ने अधिक अमेरिकी कृषि फार्म और उत्पादों को खरीदने के लिए व्हाइट हाउस के साथ हस्ताक्षर किये और टैरिफ के एक और दौर को निलंबित कर दिया, लेकिन विवाद और कुछ कर्तव्य यथावत बने हुए हैं. बौद्धिक संपदा-चोरी के आरोपों के आसपास व्यापार युद्ध के केंद्र में अमेरिकी लक्ष्य, मजबूर प्रौद्योगिकी हस्तांतरण और चीनी औद्योगिक सब्सिडी के बारे में शिकायतें अब भी बनी हुई हैं. ट्रम्प अभी भी यूरोपीय ऑटो निर्माताओं पर लेवी लगा सकते हैं.

उत्पादन में गिरावट

निस्संदेह वैश्विक गतिविधि और निर्माता सबसे बड़े व्यापार-युद्ध के शिकार हुए हैं. निर्माताओं ने पांच लगातार महीनों के लिए अनुबंध किया है. विशेष रूप से चिंता बीमार ऑटोमोबाइल क्षेत्र की है, जो जर्मन और जापानी अर्थव्यवस्थाओं के लिए भारी सिरदर्द बने हुए हैं. कारोबार में कटौती हो रही है और तीन साल में पहली बार दूसरी तिमाही में अमेरिकी गैर-आवासीय निवेश सिकुड़ गया है. सवाल यह है कि क्या कारखानों में सेवाओं को संक्रमित करता है. मंदी में एक और तत्व जोड़ता है.

भू-राजनीति

अमेरिका-चीन की झड़प के साथ-साथ ब्रिटेन और यूरोपीय संघ ने अभी तक ब्रेक्सिट सौदे पर मुहर नहीं लगायी है. सऊदी अरब के तेल क्षेत्रों पर ड्रोन हमले के बाद और ईरान के साथ एक ईरान के तेल टैंकर ने शुक्रवार को जेद्दा के सऊदी अरब बंदरगाह के पास एक विस्फोट के बाद आग लगने के बाद अमेरिका ईरान के साथ है. यह तेल की कीमतों में उछाल का खतरा है. इराक में विरोध प्रदर्शन हिंसक हो गये, तुर्की ने सीरिया में एक आक्रामक अभियान शुरू किया और हांगकांग में मार्च उस अर्थव्यवस्था में मंदी ला सकता है.

अर्जेंटीना एक और वित्तीय संकट का सामना कर रहा है और बाजार के अनुकूल सरकार को बाहर करने की संभावना है और इक्वाडोर, पेरू और वेनेजुएला में भी राजनीतिक समस्याएं हैं. ट्रम्प के साथ-साथ 2020 के चुनाव अभियान में महाभियोग की जांच ने भी उसे अपने वैश्वीकरण विरोधी एजेंडा को बढ़ाने के लिए प्रेरित किया.

चुटकी बजाते मुनाफे की चाहत

वैश्विक लाभ वृद्धि दूसरी तिमाही में रुकी रही, व्यापार आत्मविश्वास में कमी और दुनिया भर में पूंजीगत व्यय में कटौती की ओर अग्रसर हुई. कमाई वसूलने के पीछे का सबसे बड़ा कारण बढ़ती श्रमिक मजदूरी, उत्पादकता में कमी और मूल्य निर्धारण शक्ति की सामान्य कमी है. खतरा यह है कि चुटकी में लाभ कमाने के लिए निगमों को भविष्य में अपने श्रमिकों की संख्या में कटौती करनी होगी, उपभोक्ताओं का भरोसा हासिल करना होगा और खर्च बढ़ाने होंगे.

Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement