Advertisement

dumka

  • Oct 21 2016 5:01AM
Advertisement

झारखंड में अब बनेगा छोटा डैम

 दुमका. सीएम ने आसनपहाड़ी ग्रामसभा में प्रभात खबर की रिपोर्ट का किया जिक्र

दुमका : मुख्यमंत्री ने काठीकुंड के उग्रवाद प्रभावित गांव आसनपहाड़ी में विशेष ग्रामसभा में कहा कि सरकार राज्य में अब बड़े डैम नहीं , चेकडैम बनायेगी. सरकार बड़े डैमों की पक्षधर नहीं है. उन्होंने कहा कि प्रभात खबर ने रिपोर्ट प्रकाशित की है कि कैसे बड़े बांध का बजट  हनुमान की पूंछ की तरह बढ़ता जा रहा है. कई योजनाएं दशकों से अधर में हैं.  सीएम ने कहा : बड़े डैमों से इस राज्य के किसानों को फायदा नहीं हुआ.
 
गांव हमारा डूबा, फायदा  बंगाल को होता रहा  : सीएम रघुवर दास ने कहा : कांग्रेस के राज में बड़े-बड़े डैम बने. गांव हमारा डूबा, लेकिन फायदा  बंगाल को होता रहा. अब सिंचाई की जरूरत को देखते हुए गांव के लोग फैसला  लेंगे. चैकडेम कहां बनेगा, यह गांव के ही लोग तय करेंगे. अपनी जरूरत के  हिसाब से वे योजना बनायेंगे.
 
इंजीनियर भी रांची का नहीं, इसी इलाके का  होगा. सीएम ने कहा : इस इलाके में बरसात कम नहीं होती. सारा पानी बंगाल से होकर समुद्र में चला जाता है. बोरा बांध बना कर भी गांव में पानी रोका जा सकता  है. उन्होंने हर गांव में 15-15 डोभा बनाये जाने की भी घोषणा की. कहा कि  इसका पैसा भी सरकार देगी. 
 
दुमका में खुलेंगे दो पेपर मिल : सीएम ने कहा : रोजगार के अवसर सृजित करने  के लिए इस जिले में दो पेपर मिल भी स्थापित होगा. हैदराबाद और कोलकाता की  यह कंपनी जल्द ही अपना मिल लगायेगी.
झारखंड मेें अब छोटा...
 
संताल परगना में प्रचुर पैमाने पर  उपलब्ध बांस से ही यह कागज तैयार होगा. संबंधित कंपनी की टीम भी इसके लिए  मुआयना करके गयी है. कंपनी ही बंजर जमीन पर बांस लगायेगी और उसे खरीदने का  काम करेगी.
कार्यक्रमों में शामिल लोग  
 
कार्यक्रम में  समाज कल्याण मंत्री डॉ लुइस मरांडी, मुख्य सचिव राजबाला वर्मा, ग्रामीण  विकास विभाग के प्रधान सचिव एमएस भाटिया, पंचायती राज विभाग की सचिव वंदना  डाडेल, आयुक्त बालेश्वर सिंह, डीआइजी अखिलेश कुमार झा, डीसी राहुल कुमार  सिन्हा व एसपी प्रभात कुमार आदि मौजूद थे.
सीएम बोले
 
बड़े बांध का बजट हनुमान की पूंछ की तरह हुआ लंबा
सरकार छोटी योजनाओं की पक्षधर 
हर गांव में बनाये जायेंगे और 15-15 डोभा
बड़े डैमों से  किसानों को फायदा नहीं हुआ 
 चैकडेम कहां बनेगा, गांव के ही लोग तय  करेंगे
 
गांवों में बनेंगे गोबर बैंक : सीएम  ने कहा : गांवों में अब गोबर बैंक बनाये जायेंगे, जहां गांव भर से गोबर  उठाया जायेगा. गोबर गैस प्लांट में बिजली पैदा की जायेगी, जिससे स्ट्रीट  लाइट जलेगी और जो अपशिष्ट बचेगा, उससे जैविक खाद बनाया जायेगा. गोमूत्र का  भी उपयोग खाद में किया जायेगा. 
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement