Advertisement

dhanbad

  • Feb 12 2019 6:37AM
Advertisement

अब सात मिनट में होगी जमीन-मकान की रजिस्ट्री

लागू होगा एनजीडीआरएस सिस्टम  

धनबाद : नेशनल जेनरिक डॉक्यूमेंट रजिस्ट्रेशन सिस्टम (एनजीडीआरएस) से जमीन व मकान की रजिस्ट्री होगी. अब आपको फोटो खिंचवाने व आधार कार्ड के लिए भागदौड़ करनी नहीं पड़ेगी. एनजीडीआरएस सिस्टम में डाटा भरें और सात मिनट में जमीन व मकान की रजिस्ट्री पूरी हो जायेगी. एनजीडीआरएस सिस्टम में झारखंड के सभी 24 जिलों का डाटा अपलोड किया जा चुका है. संभवत: अगले सप्ताह से एनजीडीआरएस सिस्टम से जमीन व मकान की रजिस्ट्री होगी. इस सिस्टम के लागू होने से जमीन रजिस्ट्री की प्रक्रिया आसान होगी और फर्जीवाड़ा पर अंकुश लगेगा.  पायलट प्रोजेक्ट के तहत जमशेदपुर रजिस्ट्री ऑफिस में इसे लांच किया गया था. अब सभी निबंधन कार्यालयों में लागू किया जायेगा. 

फर्जीवाड़ा पर लगेगा अंकुश : एनजीडीआरएस सिस्टम लागू होने से एक ही जमीन को दो या दो से अधिक लोगों को बेचने के फर्जीवाड़े पर लगाम लगेगी. सरकारी, गैर मजरूआ, कैसर-ए-हिंद, गोचर और वन भूमि की जानकारी भी सिस्टम में अपलोड रहेगी. इन जमीनों को अगर फर्जी तरीके से कोई बेचना चाहेगा तो सिस्टम में ही पता चल जायेगा और इसकी खरीद-बिक्री नहीं हो सकेगी. किसी जमीन को खरीदने से पहले उसका मौजा, रकबा व प्लाट नंबर से उस जमीन की स्थिति के बारे में जानकारी भी इस सिस्टम से लिया जा सकेगा. जमीन के संबंध में अगर कोई विवाद होगा तो भी सिस्टम में पता चल जायेगा.
 
निबंधन की प्रक्रिया होगी पारदर्शी : एनजीडीआरएस लागू होने से सात मिनट में जमीन व फ्लैट की रजिस्ट्री हो सकेगी. वर्तमान में 45 मिनट तक रजिस्ट्री की प्रक्रिया होती है. केंद्र सरकार द्वारा तैयार किये गये सॉफ्टवेयर के लागू होने से निबंधन की प्रक्रिया और पारदर्शी होगी. राजस्व  निबंधन व भूमि सुधार विभाग की मानें तो इससे कम समय में रजिस्ट्री हो सकेगी.  
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement