Delhi

  • Dec 15 2019 9:05PM
Advertisement

जामिया परिसर में घुसी पुलिस, कुछ प्रदर्शनकारी गिरफ्तार; एलजी से मिले केजरीवाल

जामिया परिसर में घुसी पुलिस, कुछ प्रदर्शनकारी गिरफ्तार; एलजी से मिले केजरीवाल

नयी दिल्ली : नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान दक्षिण दिल्ली में हिंसा के तुरंत बाद पुलिस जामिया मिल्लिया इस्लामिया के परिसर में घुस गयी और विश्वविद्यालय के गेट बंद कर दिये ताकि बाहरी लोगों को पकड़ सके जो छिपने के लिए परिसर में घुस गये थे. पुलिस ने बताया कि उनमें से कुछ उपद्रवियों को हिरासत में लिया गया है. अभी वहां स्थिति नियंत्रण में है.

इस बीच, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने उपराज्यपाल अनिल बैजल से बात की और उनसे हिंसक प्रदर्शनों के बाद सामान्य स्थिति बहाल करने के लिए हरसंभव कदम उठाने का अनुरोध किया. जामिया मिल्लिया छात्र समुदाय के साथ ही शिक्षक संघ ने विश्वविद्यालय के नजदीक रविवार दोपहर हुई हिंसा और आगजनी की घटना से खुद को अलग कर लिया है. न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी में हुई हिंसा और आगजनी के दौरान तीन सरकारी बसों और दमकल की एक गाड़ी में शरारती तत्वों ने आग लगा दी. छात्रों ने दावा किया कि कुछ स्थानीय तत्वों ने उनके प्रदर्शन को बाधित किया और हिंसा में शामिल थे.

सूत्रों ने कहा कि जैसे ही पुलिस ने लाठीचार्ज के माध्यम से प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने का प्रयास किया और आंसू गैस के गोले छोड़े, कुछ बाहरी तत्व परिसर की तरफ दौड़े और वहां छिपने का प्रयास किया. उन्होंने कहा कि पुलिसकर्मी परिसर में घुसे और शरारती तत्वों को पकड़ने के लिए गेट बंद कर दिया. इसके बाद कुछ शरारती तत्वों को हिरासत में ले लिया गया. 

इस बीच दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने उपराज्यपाल अनिल बैजल से बात की और उनसे रविवार को दक्षिण दिल्ली में नागरिकता संशोधन अधिनियम के खिलाफ हिंसक प्रदर्शनों के बाद सामान्य स्थिति बहाल करने के लिए हरसंभव कदम उठाने का अनुरोध किया. केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली सरकार शांति बहाल करने के लिए अपनी ओर से हरसंभव कोशिश कर रही है. मुख्यमंत्री ने ट्वीट किया, माननीय उपराज्यपाल से बात की और उनसे सामान्य स्थिति एवं शांति बहाल करने के लिए हरसंभव कदम उठाने का आग्रह किया. हम अपनी ओर से हरसंभव कोशिश कर रहे हैं. हिंसा करने वाले असली बदमाशों की पहचान होनी चाहिए और उन्हें सजा मिलनी चाहिए.

एक अन्य ट्वीट में उन्होंने कहा कि किसी भी तरह की हिंसा अस्वीकार्य है. उन्होंने कहा, किसी को भी हिंसा में शामिल नहीं होना चाहिए. किसी भी तरह की हिंसा स्वीकार्य नहीं है. प्रदर्शन शांतिपूर्ण होने चाहिए. पुलिस ने बताया कि रविवार दोपहर को प्रदर्शनकारियों की पुलिस से झड़प हो गयी और उन्होंने न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी में तीन सार्वजनिक बसों और दमकल की एक गाड़ी में आग लगा दी. इसमें एक पुलिसकर्मी और दो दमकलकर्मी घायल हो गये.

पुलिस ने बताया कि हिंसक प्रदर्शन में छह पुलिसकर्मी और दो दमकलकर्मी जख्मी हो गये. दिल्ली अग्निशमन सेवा के एक अधिकारी ने कहा कि घटनास्थल पर दमकल की चार गाड़ियां भेजी गयी हैं. प्रदर्शनकारियों की हिंसा में एक दमकल गाड़ी पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गयी और दो कर्मी जख्मी हो गये. कांग्रेस से संबद्ध नेशनल स्टूडेंट्स यूनियन ऑफ इंडिया के राष्ट्रीय सचिव सिमॉन फारूकी ने दावा किया कि प्रदर्शनकारी शांतिपूर्ण तरीके से मथुरा रोड पर बैठे थे तभी पुलिस ने उनमें से कुछ को परेशान करने का प्रयास किया जिसका उन्होंने विरोध किया.

Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement