Advertisement

Delhi

  • Aug 19 2019 11:55AM
Advertisement

कश्मीर पर शेहला रशीद के दावों को भारतीय सेना ने बताया फर्जी, सुप्रीम कोर्ट में शिकायत, गिरफ्तारी की मांग

कश्मीर पर शेहला रशीद के दावों को भारतीय सेना ने बताया फर्जी, सुप्रीम कोर्ट में शिकायत, गिरफ्तारी की मांग

नयी दिल्लीः जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) की पूर्व छात्र नेता और कश्मीरी नेता शेहला रशीद द्वारा कश्मीर के मौजूदा हालातों को लेकर किए गए ट्वीट को आर्मी ने खारिज किया है. अपने ट्वीट में शेहला ने जम्मू-कश्मीर की हालत बेहद खराब होने का दावा करते हुए सशस्त्र बलों पर कश्मीरियों को प्रताड़ित करने का आरोप लगाया था.

सेना ने इसे खारिज करते हुए शेहला के आरोपों को बेबुनियाद बताया है. साथ ही कहा है कि असामाजिक तत्व और संगठन लोगों को भड़काने के लिए फर्जी खबरें फैला रहे हैं. शेहला के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में आपराधिक शिकायत दर्ज करवाई गई है. वकील अलख आलोक श्रीवास्तव ने अपनी शिकायत में झूठ फैलाने और गुमराह करने का आरोप लगाते हुए शेहला की तत्काल गिरफ्तारी की मांग की है. 

 भारतीय सेना ने जब शेहला को  जवाब दिया उसके बाद Twitter  पर #arrestShehlaRashid ट्रेंड करने लगा. हजारों लोगों ने शेहला की गिरफ्तारी की मांग की. 

शेहला ने रविवार को अपने ट्वीट्स में लिखा, “लोग कह रहे हैं कि जम्मू और कश्मीर पुलिस के पास क़ानून व्यवस्था का कोई अधिकार नहीं है. उन्हें शक्तिहीन कर दिया गया है. सब कुछ अर्धसैनिक बलों के हाथों में है. सीआरपीएफ के जवान की शिक़ायत पर एक एसएचओ का ट्रांसफर कर दिया गया था. एसएचओ डंडे के साथ दिखे उनके पास सर्विस रिवाल्वर नहीं देखी गई.

 
एक अन्य पोस्ट में, लिखा, “सशस्त्र बल रात में घरों में प्रवेश कर रहे हैं, लड़कों को उठा रहे हैं, घरों में तोड़फोड़ कर रहे हैं, जानबूझकर फर्श पर राशन फैलाकर उसमें तेल डाल देते हैं.” शेहला ने एक ट्वीट में यह भी दावा किया, “शोपियां में चार लोगों को सेना के शिविर में पूछताछ (यातना) के लिए बुलाया गया था. एक माइक उनके पास रखा गया था ताकि पूरा इलाका उनकी चीख सुन आतंकित हो जाए. इससे पूरे क्षेत्र में भय का माहौल पैदा हो गया.
 
शेहला रशीद फिलहाल आईएएस से नेता बने शाह फैसल के साथ जम्मू-कश्मीर की राजनीति में स्थापित होने की कोशिश कर रही हैं. शाह फैसल वही नेता हैं जिन्होंने जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 के प्रावधानों को निष्क्रिय किए जाने के बाद ‘बदला’ लेने की धमकी दी थी. उन्हें पिछले दिनों दिल्ली एयरपोर्ट पर उस समय रोक लिया गया था जब वे देश छोड़ने की कोशिश कर रहे थे.
 
फिलहाल वे श्रीनगर में नजरबंद हैं. इससे पहले जम्मू के डिविजनल कमिश्नर संजीव वर्मा ने कहा था कि अफवाह फैलाने वाले लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी. उन्होंने बताया था कि ऐसे कुछ लोगों के बारे में पुलिस जानकारी जुटा रही है.  

Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement