Advertisement

Delhi

  • Aug 14 2019 12:21PM
Advertisement

भूमि विवाद: फिंच के यात्रावृतांत ‘अर्ली ट्रैवल्स टू इंडिया' में है उल्लेख, अयोध्या भगवान राम का ‘जन्मस्थान'

भूमि विवाद: फिंच के यात्रावृतांत ‘अर्ली ट्रैवल्स टू इंडिया' में  है उल्लेख, अयोध्या भगवान राम का ‘जन्मस्थान'
file photo

नयी दिल्ली : राजनीतिक रूप से संवदेनशील राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद भूमि विवाद मामले की सुनवाई कर रहे सुप्रीम कोर्ट में छठे दिन बुधवार को राम लला विराजमान के वकील ने कहा कि हिंदुओं का विश्वास है कि अयोध्या भगवान राम का जन्म स्थान है और न्यायालय को इसके तर्कसंगत होने की जांच के लिये इसके आगे नहीं जाना चाहिए.

राम लला विराजमान की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता सी एस वैद्यनाथन ने प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पांच सदस्यीय संविधान पीठ के समक्ष आगे दलीलें पेश कीं. पीठ के सदस्यों में न्यायमूर्ति एस ए बोबड़े, न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़, न्यायमूर्ति अशोक भूषण और न्यायमूर्ति एस ए नजीर भी शामिल हैं.

वैद्यनाथन ने पीठ से कहा कि ‘‘हिंदुओं का विश्वास है कि अयोध्या भगवान राम का जन्म स्थान है और कोर्ट को इसके आगे जाकर यह नहीं देखना चाहिए कि यह कितना तार्किक है. सुप्रीम कोर्ट को बताया गया कि भारत की यात्रा पर 1608 में आये अंग्रेज कारोबारी विलियम फिंच ने अयोध्या में किलेनुमा महल का उल्लेख किया है जिसे हिन्दू भगवान राम का जन्म स्थान मानते थे. गौर हो कि फिंच का यात्रावृतांत ‘अर्ली ट्रैवल्स टू इंडिया' है जिसमें उल्लेख है कि हिन्दू अयोध्या को भगवान राम का ‘जन्मस्थान' मानते हैं.

वरिष्ठ अधिवक्ता ने मंगलवार को न्यायालय को बताया था कि भगवान राम की जन्मस्थली अपने आप में देवता है और मुस्लिम 2.77 एकड़ विवादित जमीन पर अधिकार होने का दावा नहीं कर सकते क्योंकि संपत्ति को बांटना ईश्वर को ‘नष्ट करने' और उसका ‘भंजन' करने के समान होगा.

‘राम लला विराजमान' के वकील पीठ के उस सवाल का जवाब दे रहे थे जिसमें पूछा गया था कि अगर हिंदुओं और मुसलमानों का विवादित राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवादित स्थल पर संयुक्त कब्जा था, तो मुस्लिमों को कैसे बेदखल किया जा सकता है. संविधान पीठ इलाहाबाद उच्च न्यायालय के सितंबर, 2010 के फैसले के खिलाफ दायर 14 अपीलों पर सुनवाई कर रही है. हाई कोर्ट ने चार दीवानी मुकदमों पर अपने फैसले में कहा था कि अयोध्या में 2.77 एकड़ भूमि को तीनों पक्षों- सुन्नी वक्फ बोर्ड, निर्मोही अखाड़ा और राम लला-के बीच समान रूप से विभाजित किया जाना चाहिए.

Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement