Advertisement

darbhanga

  • May 18 2017 5:58AM

160 किमी. नजदीक होगी दिल्ली

 बढ़ेगी सुविधा. नरकटियागंज-रक्सौल परिचालन शुरू होने की जगी आस

दरभंगा  : दिल्ली जाने में अधिक वक्त लगने से परेशान यात्रियों के लिए राहत देनेवाली खबर है. नरकटियागंज रेल खंड पर शीघ्र परिचालन आरंभ होने के आसार हैं. इस खंड पर ट्रेनों का परिचालन शुरू होने से दिल्ली की दूरी काफी कम हो जायेगी. इस मार्ग से जाने पर दरभंगा से दिल्ली करीब 160 किलोमीटर कम हो जायेगी. जाहिर तौर पर वक्त भी कम लगेगा.
 
जानकारों के अनुसार लगभग पांच से छह घंटे कम में ही यात्री दिल्ली पहुंच जायेंगे. साथ ही रेलवे के नियम के अनुसार किराया में भी कमी आ सकती है. यह सब साकार होगा, जब रेलवे इस दिशा में गंभीर होगा. कारण स्पीड ट्रायल के बाद भी सीआरएस इंस्पेक्शन का इंतजार रहेगा. सीआरएस से हरी झंडी मिलने के बाद ही परिचालन शुरू हो सकेगा. 
 
आठ साल से लंबित है वैकल्पिक मार्ग की परियोजना: उत्तर बिहार से दिल्ली जाने के लिए रेलवे का यह वैकल्पिक मार्ग होगा. अभी या तो भाया छपरा या फिर भाया मुजफ्फरपुर ट्रेन का परिचालन होता है. नरकटियागंज-रक्सौल आमान परिवर्त्तन के बाद इस पर ट्रेन दौड़ने से रेलवे के लिए यह वैकल्पिक होने के साथ ही महमत्वपूर्ण मार्ग साबित होगा. बता दें कि इस खंड पर दरभंगा जैसा ऐतिहासिक, सीतामढ़ी सरीखा धार्मिक, रक्सौल जैसा अंतर्राष्ट्रीय महत्व का स्थान है. उल्लेखनीय है कि 42 किलोमीटर लंबी यह परियोजना पिछले आठ साल से लंबित पड़ी है. अब जाकर इस पर परिचालन आरंभ होने की आस जगी है. 
मंडल के राजस्व में होगा इजाफा
 
भाया नरकटियांगज लंबी की ट्रेनों के परिचालन होने से समस्तीपुर रेल मंडल के राजस्व में भी काफी वृद्धि होगी. साथ ही इंजन बदलने में वक्त जाया भी नहीं होगा. मालूम हो कि अभी जो ट्रेन समस्तीपुर से जाती है वह समस्तीपुर के बाद सीधे सोनपुर मंडल में प्रवेश कर जाती है. आगे जाकर यह छपरा होते हुए वाराणसी मंडल में भी जाती है.
 
जाहिर तौर पर आय भी संबंधित मंडल के खाते में ही जाती है. अगर नरकटियागंज के रास्ते ट्रेन का परिचालन होता है तो वह वाल्मिकीनगर से आगे सीधे गोरखपुर मंडल से जुड़ेगी. स्पष्ट है कि इस बीच जो भी आमदनी होगी वह समस्तीपुर की कमाई में ही गिनी जायेगी. दूसरा लाभ यह होगा कि समस्तीपुर में इंजन बदलने में लगनेवाला करीब 30 मिनट का वक्त भी बच जायेगा. 
आज से शुरू
होगा ट्रायल
 
पूर्व मध्य रेल के निर्माण विभाग के मुख्य अभियंता ने इन संबंध में  नोटिस जारी कर दिया है. इसके तहत 18 से 25 मई के बीच नरकटियागंज से रक्सौल के बीच नव निर्मित रेल खंड का स्पीड ट्रायल लिया जायेगा. विशेष इंजन से इसका ट्रायल लिया जायेगा. इसमें किसी तरह की गंभीर समस्या सामने नहीं आने के बाद रेल मुख्यालय सीआरएस निरीक्षण के लिए लिखेगा. 
अजमेरशरीफ एक्सप्रेस के परिचालन का रास्ता साफ
 
इस खंड के चालू होने से बैठे-बिठाये एक अतिरिक्त ट्रेन का तोहफा यात्रियों को मिल जायेगा. सनद रहे कि छह साल पूर्व तत्कालीन रेल मंत्री लालू प्रसाद ने दरभंगा से अजमरेशरीफ के लिए एक्सप्रेस ट्रेन चलाने की घोषणा की थी. बाद में इसे बजट में शामिल किया गया. रेलवे ने इसे अपने समय सारिणी में भी जोड़ा. इस ट्रेन का रूट दरभंगा से भाया नरकटियागंज-रक्सौल परिचालन होना है. खंड पर आमान परिवर्त्तन का कार्य पूरा नहीं होने की वजह से इस ट्रेन का परिचालन खटाई में पड़ा हुआ है. लिहाजा खंड के चालू होने से इस बहुप्रतीक्षित ट्रेन के परिचालन जल्द शुरू होने के आसार बढ़ गये हैं. 
 
यात्रियों को होगी सुविधा: इस खंड पर ट्रेन परिचालन शुरू होने से यात्रियों को बहुत राहत मिलेगी. कारण अभी जितनी भी गाड़ियां दरभंगा या जयनगर से खासकर दिल्ली के लिए चलती है, उसमें वेटिंग टिकट की लंबी फेहरिस्त हमेशा रहती है. खंड पर अधिक दवाब होने के कारण नई ट्रेन नहीं दी जा रही है. ऐसे में नया रूट  चालू होने से अतिरिक्त ट्रेन मिलने का भी रास्ता साफ हो जायेगा, जिसका सीधा फायदा यात्रियों को मिलेगा. 
 
Advertisement

Comments