Advertisement

darbhanga

  • Nov 8 2018 6:46PM

दरभंगा : बच्चा समझ बिस्तर समेट भागे दादा, पोता रह गया अंदर, अगलगी में जिंदा जल गया मासूम

दरभंगा : बच्चा समझ बिस्तर समेट भागे दादा, पोता रह गया अंदर, अगलगी में जिंदा जल गया मासूम

दरभंगा / गौड़ाबौराम : जिले के बरगांव ओपी क्षेत्र के सरौनी गांव में दीवाली की रात दीये से लगी आग में एक बच्चा जिंदा जल गया. उसे बचाने के चक्कर में उसके दादा बुरी तरह जख्मी हो गये. जानकारी के अनुसार, दीवाली की शाम घर में ढिबरी जलायी गयी थी. इसी की लौ से संभवत: आग लग गयी. इसमें विमल यादव के पोते गौरव (तीन) की झुलसकर मौत हो गयी. इससे गांव में मातम पसर गया है. मां रेखा देवी सहित अन्य परिजनों का रो-रोकर हाल बुरा है.
बताया जाता है कि पोते गौरव के साथ विमल यादव सोये हुए थे. इसी बीच घर में आग लग गयी. आग की तपिश महसूस होने पर वह घर से बाहर भागे. हड़बड़ी में पोता समझकर लपेटा हुआ बिस्तर लेकर बाहर भाग निकले. बाहर जाने पर उन्हें इसका एहसास हुआ कि बच्चा तो घर में ही रह गया. वह उल्टे पांव घर के अंदर भागे. घर में घुसते ही सिर किसी भारी वस्तु से टकरा गये. बताया जा रहा है कि पानी पटवन की मशीन से टकराकर वे गंभीर रूप से घायल हो गये. उनका इलाज बिरौल पीएचसी में चल रहा है.
इधर, बच्चे की मां रेखा देवी की चीत्कार से वातावरण गमगीन हो गया. गौरव का पिता राम इकबाल यादव परिवार के भरण पोषण के लिए मुंबई में काम करता है. घटना की खबर जैसे ही ग्रामीणों तक पहुंची, लोगों का तांता लग गया. सुबह से ही लोगों की कतार लगनी शुरू हो गयी. घटना की जांच करने सीआइ गौतम सेन गुप्ता एवं बरगांव ओपी अध्यक्ष राम शंकर पासवान पहुंचे. कागजी कार्रवाई कर शव को पोस्टमार्टम के लिए डीएमसीएच भेज दिया.

Advertisement

Comments

Other Story

Advertisement