Advertisement

ranchi

  • Dec 3 2019 2:02AM
Advertisement

गैंगरेप का विरोध : महिलाओं का हल्ला बोल, आरोपियों को फांसी दो

गैंगरेप का विरोध : महिलाओं का हल्ला बोल, आरोपियों को फांसी दो

रांची  : लॉ की छात्रा से गैंगरेप के विरोध में सोमवार को महिलाओं व युवतियों ने अलबर्ट एक्का चौक पर विरोध प्रदर्शन किया़  दिन के सवा चार  बजे से लेकर साढ़े पांच बजे तक प्रदर्शन किया़   पहले सात-आठ महिलाएं पहुंचीं और प्रदर्शन करने लगी़ं  देखते ही देखते कुछ और महिलाएं, युवती व युवक जुट गये और मेन रोड में चेन बना कर प्रदर्शन करने लगे.   महिलाएं गैंगरेप के आरोपियों को सरेआम फांसी की सजा देने की मांग कर रही थी़ं   वहीं, पुलिस पर भी आरोप लगा रही थी़ं   प्रदर्शन के कारण मेन रोड चारों ओर से जाम हो गया था़   

जाम में  एंबुलेंस भी फंसी
जाम के कारण एंबुलेंस भी फंस गयी, हालांकि पुलिस ने किसी तरह जाम से निकलवा दिया़    लेकिन जाम समाप्त कराने में ट्रैफिक पुलिस ही नहीं जिला पुलिस के भी पसीने छूट गये़   कोतवाली डीएसपी अजीत कुमार विमल, कोतवाली इंस्पेक्टर बृज कुमार सहित काफी संख्या में जवानों ने पहुंच कर महिलाओं को समझाने का प्रयास किया लेकिन किसी ने नहीं सुनी.  एक घंटे बाद कुछ महिलाएं  वहां से हट गयीं, लेकिन छह-सात महिलाओं का ग्रुप प्रदर्शन करता रहा़
 
  • शाम 04 : 15 बजे से 05:30  बजे तक लोगों ने किया हंगामा
  • जाम में फंसे रहे वाहन, यात्रियों से उलझीं प्रदर्शनकारी महिलाएं 
  • जाम हटाने में कोतवाली डीएसपी को काफी मशक्कत करनी पड़ी 
 
पुलिसकर्मियों से भी उलझ गयीं महिलएं
कोतवाली डीएसपी अजीत कुमार विमल, महिला थाना प्रभारी मोनालिसा केरकेट्टा सहित अन्य पुलिसकर्मी महिलाओं को समझाने का प्रयास कर रहे थे, लेकिन  महिलाएं उनसे भी उलझ गयी़ं  उसके बाद पुलिसकर्मियों ने उन्हें दायरे में रह कर प्रदर्शन करने को कहा़  बाद में कोतवाली डीएसपी ने उन्हें ज्ञापन लिख कर देने काे कहा, लेकिन महिलाओं ने कुछ भी लिख कर नहीं दिया़  फिर अंधेरा होने पर महिलाएं खुद ही हट गयी़ं
 
कार के सामने आ गयी महिला
प्रदर्शन के दौरान कुछ महिलाएं लोगों से भी उलझ गयीं. प्रदर्शन के दौरान एक कार चालक अलबर्ट एक्का चौक से शहीद चौक की आेर जाना चाह रहा था, उससे एक महिला उलझ गयी और कार के आगे आ गयी़   इतना ही नहीं उधर से शहीद चौक की ओर पति के साथ जा रही एक महिला पर हाथ भी उठा दिया.  उस महिला ने सिर्फ इतना कहा था कि दुष्कर्म के प्रति  विरोध प्रदर्शन में हम भी साथ हैं, लेकिन इस तरह लोगों को परेशान करना कहां तक ठीक है़  
 
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement