Advertisement

crime

  • Oct 20 2019 1:58AM
Advertisement

खूंटी में भाजपा नेता और पत्नी की हत्या

खूंटी में भाजपा नेता और पत्नी की हत्या

 खूंटी : अपराधियों ने सोयको थाना क्षेत्र की कुड़ापूर्ति पंचायत के आड़ा गांव में उपमुखिया शीतल मुंडा और उनकी पत्नी मादे हस्सा की गोली मारकर हत्या कर दी. घटना शुक्रवार रात की है. शीतल  मुंडा भाजपा के सक्रिय कार्यकर्ता थे और अपने गांव में बूथ अध्यक्ष के पद पर थे. अपराधियों ने उन्हें तीन गोलियां मारी हैं, जबकि उनकी पत्नी को एक गोली  मारी. 

 
बताया जा रहा है कि रात लगभग 9:30 बजे शीतल मुंडा खाना  खाने के बाद अपने घर में बैठे हुए थे. उसी दौरान तीन अपराधी उनके घर में घुसे. तीनों ने एक जैसी वर्दी पहन रखी थी और चेहरा ढका हुआ था. घर में घुसते ही अपराधियों ने शीतल  मुंडा को गोली मार दी. यह देख कर उनकी पत्नी डर गयी और खुद को अंदर के कमरे में बंद कर लिया, लेकिन अपराधियों ने जबरन दरवाजा खोलकर उन्हें भी गोली मार दी. 
 
घर में ही थी छोटी बेटी
घटना के वक्त  घर में शीतल मुंडा की छोटी बेटी मौजूद थी. उसने अपराधियों से पूछा : मेरे माता-पिता को क्यों मारा? इस पर अपराधियों ने कहा : शीतल मुंडा ने दो साल पहले एक  तालाब बनवाया था, जिसमें उसने पैसे नहीं दिये थे. अपराधियों ने घर में रखी अटैची और बक्सों की तलाशी भी ली. इसके बाद सभी फरार हो  गये. 
 
रात में कोई अपने घर से नहीं निकला : ग्रामीणों को इस घटना की जानकारी रात में ही मिल गयी थी, लेकिन डर से कोई अपने घर से बाहर नहीं निकला और न ही पुलिस को जानकारी  दी. शनिवार सुबह पुलिस को घटना की जानकारी मिली. 
 
इसके बाद एसपी आशुतोष  शेखर, एएसपी अनुराग राज और सोयको थाना प्रभारी मौके पर पहुंचे. इसके अलावा  भाजपा के जिलाध्यक्ष काशीनाथ महतो भी घटनास्थल पर पहुंचे. पुलिस ने शव को  कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है. आशंका जतायी जा रही है  कि लेवी के कारण शीतल मुंडा की हत्या की गयी है.
 
उपमुखिया और भाजपा के  बूथ अध्यक्ष थे शीतल मुंडा 
वर्दी में थे वारदात को अंजाम देनेवाले अपराधी, सभी के चेहरे ढके हुए थे
बेटी ने पूछा, मेरे माता-पिता को क्यों मारा, अपराधी बोले : पैसे नहीं दिये 
पुलिस को आशंका : लेवी को लेकर की गयी है हत्या
तीन बच्चों के सिर से उठ गया माता-पिता का साया
भाजपा जिलाध्यक्ष काशीनाथ महतो ने कहा कि शीतल मुंडा पार्टी के सक्रिय कार्यकर्ता थे. वे मिलनसार व्यक्ति  थे. किसी से उनकी कोई दुश्मनी भी नहीं थी. 
 
शीतल और उनकी पत्नी की  हत्या के बाद उनके बच्चे अनाथ हो गये हैं. शीतल मुंडा के तीन बच्चे हैं, जिसमें से बड़ी  बेटी मुरहू स्थित कस्तूरबा आवासीय बालिका विद्यालय और बेटा कदमा में एक  स्कूल में पढ़ाई करता है और हॉस्टल में रहता है. वहीं, छोटी बेटी गांव के  ही स्कूल में पढ़ाई करती है.
 
अर्जुन मुंडा और नीलकंठ सिंह मुंडा पहुंचे सांत्वना देने
घटना की जानकारी मिलने पर केंद्र सरकार में जनजातीय मामलों के मंत्री  अर्जुन मुंडा और झारखंड सरकार के ग्रामीण विकास मंत्री नीलकंठ सिंह मुंडा पोस्टमार्टम हाउस पहुंचे. दोनों ने घटना की जानकारी ली और मृतक शीतल मुंडा के परिजनों को सांत्वना  दी. 
 
साथ ही उनकी मदद का आश्वासन भी दिया. भाजपा  कार्यकर्ताओं की हत्या पर अर्जुन मुंडा ने कहा कि लगातार भाजपा कार्यकर्ताओं को निशाना बनाया जा रहा है. प्रशासन को इस हत्याकांड की तह तक जाना चाहिए. ऐसी घटनाओं के पीछे क्या कारण है, इसका खुलासा करना चाहिए. नीलकंठ सिंह मुंडा अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए शीतल मुंडा के गांव भी गये.  
 
कई भाजपा नेताओं को निशाना बना चुके हैं अपराधी
इससे पूर्व भी कई भाजपा नेताओं की हत्या हो चुकी  है. 22 जुलाई को मुरहू के हेठगोवा में मागो मुंडा की हत्या, 25  मार्च 2017 को मुरहू के नंदकिशोर महतो की हत्या, 28 अक्तूबर 2017 को राजेंद्र महतो  और दो दिसंबर 2017 को भईयाराम मुंडा की हत्याएं इनमें शामिल हैं. इसके अलावा  भाजपा से ही जुड़े शशि पांडेय, रूपनारायण सिंह, संबल प्रधान, मंगल सिंह  मुंडा, नरेश सिंह की भी हत्याएं हो चुकी हैं.
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement