Advertisement

cricket

  • May 24 2019 8:49PM
Advertisement

अब भी प्रासंगिक हूं, बुरा या भला, पर लोग मेरे बारे में बात करते हैं : दिनेश कार्तिक

अब भी प्रासंगिक हूं, बुरा या भला, पर लोग मेरे बारे में बात करते हैं : दिनेश कार्तिक
File Photo

नयी दिल्ली : अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में 15 साल पहले पदार्पण करने के बाद टीम से लगातार अंदर-बाहर होने वाले विकेटकीपर बल्लेबाज दिनेश कार्तिक के खेल की चर्चा होती रहती है और ऐसे में वह खुद को टीम के लिए ‘प्रासंगिक' मानते हैं. विश्व कप के लिए भारतीय टीम का चयन 15 अप्रैल को हुआ और प्रतिभाशाली ऋषभ पंत की जगह 33 साल के दिनेश कार्तिक को जगह देने पर सवाल उठा था. 

 

मुख्य चयनकर्ता एमएसके प्रसाद ने विकेट के पीछ कार्तिक को बेहतर बताते हुए इस चर्चा को यह कहते हुए विराम देने की कोशिश की. कार्तिक ने इंग्लैंड रवाना होने से पहले कहा, ‘अगर परिवार और दोस्तों की दुआएं मेरे साथ नहीं होती तो मैं अभी तक खेल नहीं पाता. अच्छा या बुरा, अगर लोग आपके बारे में बात कर रहे हैं तो इसका मतलब यह है कि आप प्रासंगिक बने हुए हैं. यह देखना काफी सुकून देता है कि मैं इतने वर्षों के बाद भी प्रासंगिक बना हुआ हूं और टीम का हिस्सा होने के लिए अब भी मेहनत कर रहा हूं.'

 

कार्तिक ने महेंद्र सिंह धौनी से पहले पदार्पण किया था और अगर धौनी भारतीय टीम में नहीं आते तो कार्तिक ने करियर में 26 टेस्ट और 91 एकदिवसीय से कहीं ज्यादा मैच खेले होते. कार्तिक को यह मानने में कोई हिचक नहीं है कि वह एक विशेष खिलाड़ी के कारण टीम से बाहर हुए. विकेट के पीछे धौनी के करीब पहुंचने में नाकाम रहे कार्तिक ने बल्लेबाजी पर ज्यादा ध्यान देना शुरू किया और 2017 में हुई चैम्पियंस ट्रॉफी के बाद से टीम में जगह बनाये रखने में सफल हुए. 

 

श्रीलंका में निदहास ट्रॉफी के फाइनल में आखिरी गेंद पर जब उन्होंने छक्का मार कर जीत दिलायी तब लगा कि टीम प्रबंधन की फिनिशर की खोज पूरी हुई. उन्हें हालांकि विश्व कप से पहले ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ भारत की आखिरी श्रृंखला में टीम में जगह नहीं मिली जिसके बाद से विश्व कप के लिए उनके चुने जाने पर संशय बन गया. 

 

उन्होंने कहा, ‘मैं आश्चर्यचकित था (ऑस्ट्रेलिया श्रृंखला के लिए नहीं चुने जाने पर) लेकिन मुझे भरोसा था और आखिरी में मुझे पिछले दो साल के प्रदर्शन के आधार पर चुना गया.' कार्तिक ने कहा, ‘मैंने विभिन्न क्रमों पर बल्लेबाजी की है और मुझे सफलता भी मिली है. लेकिन मेरे लिए पिछले प्रदर्शन को देखना जरूरी नहीं, मेरे लिए सबसे बड़ा टूर्नामेंट होने जा रहा है और मुझे अब वहां खेलने का मौका मिला है.'

 

कार्तिक ने कहा, ‘इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आपके बारे में क्या कहा जा रहा है. मेरे लिए यह जरूरी है कि मुझे एक मौका मिला है और ऐसे लोग हैं जो मुझ पर विश्वास करते हैं. मुझे वहां जाकर अपने देश के लिए अच्छा प्रदर्शन करने की जरूरत है.'

Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement