Advertisement

champaran east

  • Sep 15 2019 2:37AM
Advertisement

1111 मामलों का 38 करोड़ में हुआ सेटलमेंट

मोतिहारी : लोक अदालत आपकी अदालत है. इस अदालत में कोई पक्ष की हार नहीं होती.  साथ ही समाज में भाईचारा कायम रहती है. इसका भरपूर लाभ उठाएं तथा बिना कोर्ट फी के मुकदमा का निबटारा कराकर अपने घर जाएं. उक्त बातें शनिवार को व्यवहार न्यायालय परिसर स्थित एडीआर भवन में आयोजित राष्ट्रीय लोक अदालत के उद्घाटन के दौरान जिला विधिक सेवा प्राधिकार के अध्यक्ष सह जिला जज कृष्ण शंकर सिंह सैंगर ने पक्षकारों को संबोधित करते हुए कही. 

 
लोक अदालत का उद्घाटन जिला जज श्री सैंगर, डीएम रमण कुमार, जिला विधिक सेवा प्राधिकार के सचिव नीरज किशोर, विधिज्ञ संघ के अध्यक्ष शेषनरायण कुंवर महासचिव कन्हैया कुमार सिंह,  एसबीआई बैक के मुख्य प्रबंधक अजय कुमार सिंह उप प्रबंधक शिवकुमार सिंह लक्ष्मी प्रसाद ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलित कर किया. उद्घाटन के बाद गठित बेंच मामलों के निबटारा में लग गये. इस दौरान लोक अदालत में सैकड़ों मामलों का निबटारा समझौता के अधार पर किया गया. वहीं, 1111 मामलों का 38 करोड़ रुपये में सेटलमेंट किया गया. लोक अदालत में सभी मामले प्रिलिटिगेशन के थे. लंबित मामलों में तीन मामले दावा वाद एवं एक मामले पारिवारिक विवाद के निबटाये गये, जो करीब साठ लाख पर सेटलमेंट हुआ.
 
मामलों के निबटारा के लिए मुख्यालय में सात बेंच गठित किये गये थे, जिसमें तीन बेंच पर एसबीआई के प्रिलिटिगेशन के मामले निबटाये जा रहे थे. एक बेंच पर सेंट्रल बैंक के मामले एक पर अन्य बैंकों के मामले, एक पर फैमली विवाद एवं क्लेम केस तथा एक बेंच पर न्यायालय में लंबित मामले के निबटारे के लिए बनाये गये थे. इस मौके पर एडीजे मिलन कुमार, सब जज प्रथम राकेश कुमार सिंह, सब जज तीन गौरव आनंद, मुसफ रक्सौल कौशलेंद्र कुमार शुक्ला, सर्वेश कुमार मनोज कुमार सहित बैक पदाधिकारी एवं न्यायालय कर्मी अरुणेश कृष्ण कुमार निरंजन सिंह उपस्थित थे.
 
सिकरहना. ढाका व्यवहार न्यायालय में शनिवार को राष्ट्रीय लोक अदालत में शिविर का आयोजन किया गया.  शिविर में कुल 17 मामलों का निबटारा हुआ.  न्यायिक सदस्य के रूप में एसडीजेएम अमरेंद्र कुमार तथा गैर न्यायिक सदस्य संजय कुमार व सुधीर सिंह शामिल थे. लोक अदालत में सुनवाई के लिए एसडीजेएम कोर्ट से 16 तथा एसीजेएम कोर्ट से एक मामलों को लाया गया था, जिसे उभय पक्षों के अधिवक्ताओं की मौजूदगी में सुनवाई कर निष्पादित कर दिया गया. इस मौके पर सिकरहना बार एसोसिएशन के महासचिव विनोद कुमार तिवारी, अधिवक्ता गिरिवरधारी उपाध्याय, शत्रुघ्न सिंह, राजाराम, ओमप्रकाश सुधांशु, जियालाल प्रसाद मौजूद थे.
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement