Advertisement

champaran east

  • Sep 12 2019 12:59AM
Advertisement

इन्वर्टर व अालमीरा खरीद में 10 लाख की गड़बड़ी

 बगैर कोटेशन के खरीद व बिना आदेश हुआ भुगतान

 
मोतिहारी : घपले-घोटालों के लिए सुर्खियों में रहनेवाला सदर अस्पताल टैब घोटाले के बाद फिर इन्वर्टर व आलमीरा खरीद घोटाले को ले सुर्खियों में है. गड़बड़ी यह है कि आलमीरा और इन्वर्टर का खरीद बगैर कोटेशन का हुआ और बगैर आदेश के 10 लाख का भुगतान कर दिया गया.
 
इधर पटना से पहुंची जांच टीम की जांच देख इसमें शामिल अधिकारी व कर्मचारियों के हाथ-पांच फुलने लगे हैं. तत्कालीन सिविल सर्जन डाॅ केएन गुप्ता के कार्यकाल में 22 जुलाई 19 को बिना कोटेशन के उत्कर्ष इंटरप्राइजेज से जिला स्वास्थ्य समिति द्वारा पांच लाख रुपये आलमीरा, इन्वर्टर व लैपटॉप के नाम पर निकासी कर ली गयी. इसके पूर्व 22 टैब खरीद में फर्जीवाड़ा उजागर हो चुका है.
 
यह टैब भी बगैर नोडल पदाधिकारी के आदेश चार लाख का भुगतान कर दिया गया. सदर अस्पताल पहुंची जांच टीम में राज्य स्वास्थ्य समिति के अपर निदेशक वित्त योगेंद्र प्रसाद, क्षेत्रीय लेखा प्रबंधक प्रदीप कुमार सिंह, विकास रौशन आदि शामिल है. टीम का नेतृत्व कर रहे श्री प्रसाद ने बताया कि आलमीरा, इनवर्टर, लैपटॉप और टैब घोटाले की जांच की जा रही है. जांच के बाद रिपोर्ट राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यपालक निदेशक को सौंपा जायेगा.
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement