Advertisement

calcutta

  • May 17 2018 9:05AM

कांग्रेस-लेफ्ट मिलकर भी नहीं रोक पायी भाजपा को, ग्राम पंचायत से जिला परिषद तक छायी तृणमूल

कांग्रेस-लेफ्ट मिलकर भी नहीं रोक पायी भाजपा को, ग्राम पंचायत से जिला परिषद तक छायी तृणमूल

चुनाव परिणाम : एक नजर में

पार्टी ग्राम पंचायत पंचायत समिति जिला परिषद
तृणमूल कांग्रेस 14,442 2406 363
लेफ्ट फ्रंट 857 60 2
भारतीय जनता पार्टी 3,075 48 9
कांग्रेस 512 23 2
अन्य 1047 23 0
कुल 19,933 2560 376

 

कोलकाता : पश्चिम बंगाल में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस राज्य के ग्रामीण क्षेत्रों में हुए चुनाव में भारी जीत की ओर बढ़ रही है. अब तक घोषित नतीजों के अनुसार तृणमूल ग्राम पंचायतों में 19,394 सीटें जीत चुकी हैं.

दूसरे स्थान पर भाजपा है लेकिन उसकी सीटों की संख्या तृणमल की तुलना में काफी कम है. राज्य चुनाव आयोग सूत्रों ने बताया कि तृणमूल 560 ग्राम पंचायत सीटों पर आगे चल रही है. भाजपा ने 5050 सीटें जीती हैं और वह 55 सीटों पर आगे चल रही है. कई सालों में यह पहला मौका है जब भाजपा ने हर जिले में ग्राम पंचायत स्तर पर जीत हासिल की है.

1992 में बाबरी मस्जिद गिराए जाने के बाद भाजपा ने ग्रामीण चुनावों में अपनी उपस्थिति दर्ज करायी थी. माकपा तीसरे स्थान पर आ गयी है. पिछली बार वह दूसरे नंबर पर थी. सूत्रों के अनुसार उसे 1306 ग्राम पंचायतों में जीत मिली है और वह 27 में आगे है. कांग्रेस चौथे नंबर पर है और उसे 918 सीटों पर कामयाबी मिली है तथा 29 सीटों पर आगे चल रही है. तृणमूल ने पंचायत समिति और जिला परिषद के चुनावों में भी शानदार प्रदर्शन किया है और अन्य दलों से काफी आगे चल रही है.

पश्चिम बंगाल में त्रिस्तरीय पंचायत चुनावों और पुनर्मतदान के बाद मतगणना के दिन गुरुवार (17 मई, 2018) को भी हिंसा का दौर जारी रहा. कहीं गोली चली, तो कहीं बम. कहीं बैलट बॉक्स को ही मतगणना केंद्र के बाहर फेंक दिया. विरोधी दलों ने सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस पर मतगणना केंद्र को हाइजैक करने का भी आरोप लगाया. उत्तरी दिनाजपुर के चोपड़ा में दो कांग्रेस समर्थकों को गोली मार दी गयी. कूचबिहार के माथाभांगा कॉलेज में पुलिस के सामने ही निर्दलीय प्रत्याशियों को मतगणना केंद्र के अंदर जाने से रोका गया. प्रेस फोटोग्राफरों को तस्वीरें लेने से पुलिस ने रोक दिया. उधर, उत्तर दिनाजपुर में कांग्रेस और तृणमूल समर्थकों के बीच संघर्ष की खबरें हैं. कूचबिहार में विरोधी दलों का आरोप है कि सत्ताधारी दल के लोगों ने पुलिस के साथ मिलकर उन्हें मतदान केंद्र से बाहर निकाल दिया.

 

पश्चिम बंगाल के त्रिस्तरीय पंचायत चुनावों में तृणमूल कांग्रेस ने शानदार प्रदर्शन किया है. गांवों में घास-फूल की झड़ी लग गयी है, तो पीछे-पीछे कमल का फूल भी दौड़ रहा है. यानी भाजपा दूसरे स्थान पर है. वाम मोर्चा तीसरे और कांग्रेस चौथे स्थान पर पहुंच गया है. मतगणना के पहले ही राज्य के कई जिलों में मतगणना केंद्रों के बाहर तनाव का माहौल उत्पन्न हो गया था. हालांकि, अभी तक किसी तरह की हिंसा की खबर कहीं से नहीं आयी है. कुछ जगहों पर सत्ताधारी दल की ज्यादती के खिलाफ विरोधी दलों के प्रत्याशियों ने विरोध-प्रदर्शन जरूर किये हैं. कहीं डीएम कार्यालय का घेराव किया गया, तो कहीं थाना पर प्रदर्शन कर तृणमूल विरोधी दलों ने अपने गुस्से का इजहार किया.

 

-दक्षिण दिनाजपुर के हरिरामपुर मतगणना केंद्र में असामाजिक तत्वों ने मचाया तांडव. बैलट बॉक्स को बाहर फेंका. हालांकि, कुछ ही देर बाद भारी पुलिस बल के साथ डीएसपी पहुंचे और स्थिति को नियंत्रित कर लिया.

-पुरुलिया के काशीपुर में मतगणना केंद्र के बाहर मारपीट. ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष कार्तिक मालाकार घायल.



-भाजपा ने तृणमूल कांग्रेस पर बड़ा आरोप लगाया है. भाजपा ने कहा है कि हार के डर से तृणमूल कार्यकर्ताओं ने मतगणना केंद्र पर कब्जा कर लिया है और विरोधी दलों के लोगों को अंदर नहीं जाने दिया जा रहा.

-बीरभूम में 90 में से 70 ग्राम पंचायतों में तृणमूल ने जीत दर्ज की. भाजपा को 17 और माकपा एवं कांग्रेस को क्रमश: 2 और एक पंचायतों में जीत मिली है.

 

 


 

-जलपाईगुड़ी पॉलिटेक्निक इंस्टीट्यूट के एक मतगणना केंद्र से पुलिस ने 40 मोबाइल फोन जब्त किये.


-कृष्णनगर के हांसखाली मतगणना केंद्र में कांग्रेस, माकपा और निर्दलीय प्रत्याशियों को घुसने से रोका गया है. इसके विरोध में 30 उम्मीदवार जिलाधिकारी के कार्यालय के सामने धरना पर बैठ गये हैं.

-मुर्शिदाबाद के भगवानगोला में अपराधियों का तांडव चल रहा है. बताया गया है कि अपराधी प्रवृत्ति के लोग आग्नेयास्त्र और बम-गोली के साथ इलाके में इधर-उधर घूम रहे हैं. ये लोग क्षेत्र से बाहर के लोग हैं, जो यहां गड़बड़ी करने के उद्देश्य से आये हैं.

-मोहम्मदबाजार स्थित मतगणना केंद्र पर एक पुलिसकर्मी बीमार हो गया. उसे अस्पताल पहुंचाया गया है.

-कूचबिहार में 20 ग्राम पंचायतों में तृणमूल कांग्रेस को मिली जीत.

-बांकुड़ा की 1593 ग्राम पंचायतों में से 12 पंचायतों में तृणमूल कांग्रेस के प्रत्याशी जीते. माकपा के 1, भाजपा के एक और 1 निर्दल प्रत्याशी को मिली जीत.

 

कूचबिहार में भाजपा प्रत्याशी धरना पर बैठे

-कूचबिहार के हल्दीबाड़ी थाना के सामने भाजपा के एजेंट धरना पर बैठ गये और विरोध प्रदर्शन किया. उनका आरोप है कि तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ता उन्हें मतगणना केंद्र तक नहीं पहुंचने दे रहे. मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक, माथभांगा के निशिगंज में भी ऐसी ही स्थिति है.

 

-विरोधी दलों ने बैरकपुर ग्राम पंचायत के 6 ब्लॉक में मतगणना का बहिष्कार किया है. विरोधी दलों का आरोप है कि उन्हें मतगणना केंद्र में जाने से रोका जा रहा है.

 

 




अधिकतर एग्जिट पोल में इस बात की संभावना व्यक्त की गयी थी कि अधिकतर सीटों पर सत्ताधारी पार्टी के प्रत्याशी ही जीतेंगे. शुरुआत एग्जिट पोल के अनुमान के मुताबिक ही हुए हैं. ज्ञात हो कि ग्राम पंचायत से लेकर जिला परिषद तक की बहुत सी सीटें ऐसी हैं, जहां ममता बनर्जी के प्रत्याशियों के खिलाफ कोई उम्मीदवार खड़ा ही नहीं हुआ. यानी वे निर्विरोध जीत गये. राज्य सरकार के 2 लाख 30 हजार कर्मचारियों को मतगणना कार्य में लगाया गया है.

 

 

-राज्य के 20 जिलों में 291 केंद्रों पर सुबह 8 बजे से कड़ी सुरक्षा के बीच मतगणना जारी है. पहले ग्राम पंचायत की 31,802 सीटों के लिए मतगणना हो रही है.

 



-ग्राम पंचायत की मतगणना खत्म होने के बाद पंचायत समिति की 6,123 सीटों के लिए मतों की गिनती की जायेगी.

-सबसे अंत में जिला परिषद की 621 सीटों के लिए वोटों की गिनती होगी.

-सुबह 9 बजे हल्दिया के बाड़हिंगली ग्राम पंचायत में 468 वोटों से तृणमूल कांग्रेस विजयी रही है. मतगणना के शुरू में ही सत्तारूढ़ दल तृणमूल कांग्रेस ज्यादातर सीटों पर आगे है.


-48,650 कुल ग्राम पंचायत में से 11,520 सीटों पर तृणमूल के प्रत्याशी निर्विरोध जीते

-9,217 पंचायत समिति की सीटों में से 2,059 सीटों पर तृणमूल कांग्रेस के नेता बिना चुनाव लड़े जीते

-825 जिला परिषद की सीटों में 93 पर ममता बनर्जी की पार्टी के नेता निर्विरोध जीत चुके हैं

-मतगणना से पहले उत्तर दिनाजपुर के चोपड़ा में तनाव


-मतगणना पूरी होने से पहले किसी भी तरह के जश्न पर रोक

-ग्राम पंचायत का चुनाव लड़ने वाले प्रत्याशी या उनका कोई एक एजेंट ही मतगणना केंद्र के अंदर रह पायेगा. पंचायत समिति और जिला परिषद के लिए बने मतगणना केंद्रों में दो लोग रह पायेंगे.


Advertisement

Comments

Advertisement