calcutta

  • Dec 11 2019 2:31AM
Advertisement

अंतर्राज्यीय स्वर्ण तस्कर गिरोह के 10 सदस्यों को दबोचा गया

कोलकाता : राजस्व खुफिया निदेशालय (डीआरआइ) की कोलकाता जोनल यूनिट के सदस्यों ने तीन दिनों तक बड़ा अभियान चलाकर बांग्लादेश से तस्करी का सोना भारत लाकर सप्लाई करनेवाले अंतर्राज्यीय गिरोह के प्रमुख सदस्य समेत 10 लोगों को गिरफ्तार किया है. मास्टरमाइंड गोविंद मालवीय उर्फ गोविंद लाल लोहार को उत्तर कोलकाता के सिंथी इलाके से दबोचा गया है. पूरे गिरोह के पास से कुल 42 किलो सोने के बिस्कुट व गहने जब्त किये गये हैं. बाजार में इसकी कीमत 16.50 करोड़ रुपये है.

डीआरआइ सूत्रों के मुताबिक उन्हें सूचना मिली थी कि सिंथी इलाके में एक र्स्वण तस्कर बांग्लादेश से तस्करी का सोना मंगवाकर देश के विभिन्न राज्यों में सप्लाई कर रहा है. इस जानकारी के बाद सिंथी इलाके के एक अपार्टमेंट में छापेमारी कर गोविंद के घर से अधिकारियों ने 26 किलो 650 ग्राम सोने के बिस्कुट व 552.030 ग्राम जेवरात जब्त किये.
 
डीआरआइ सूत्रों के मुताबिक सिंथी इलाके से गिरफ्तार गिरोह के प्रमुख गोविंद मालवीय ने पूछताछ में बताया कि उसके गिरोह के तीन सदस्य तस्करी के सोने की डिलीवरी करने मुंबई व रायपुर गये हुए हैं. इस जानकारी के बाद डीआरआइ की दो अलग टीमें मुंबई व रायपुर के लिये रवाना हुईं. गिरोह के तीन सदस्यों को गिरफ्तार कर आठ और सात किलो सोने के बिस्कुट जब्त किये गये. उनके साथ और कौन इस गिरोह में शामिल हैं, गिरफ्तार आरोपियों से पूछताछ कर इसका पता लगाने की कोशिश की जा रही है.
 
इन्हें पकड़ा गया है: तीन दिनों तक चले इस ऑपरेशन में डीआरआइ ने गोविंद मालवीय उर्फ गोविंद लाल लोहार के अलावा अन्ना राम,महेंद्र कुमार, फिरोज मोल्ला, सूरज मागाबुल मोल्ला, कैलाश जगताप और विशाल अंकुश माने को गिरफ्तार किया गया है. मुंबई व रायपुर से डीआरआइ की टीमों ने गोपा राम, मिलन कुमार और साहिल जैन को गिरफ्तार कर लिया. 
 
इनके कब्जे से 15 किलो सोने के बिस्कुट जब्त किये गये. यह गिरोह किन-किन लोगों तक तस्करी का सोना पहुंचाता था. इस बारे में गिरफ्तार आरोपियों से पूछताछ की जा रही है.
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement