Advertisement

calcutta

  • Aug 18 2019 3:58AM
Advertisement

सांगठनिक चुनाव संपन्न कराने के लिए भाजपा नेताओं को दी जायेगी दो दिनों की ट्रेनिंग

सांगठनिक चुनाव संपन्न कराने के लिए भाजपा नेताओं को दी जायेगी दो दिनों की ट्रेनिंग

कोलकाता : प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष के दोबारा अध्यक्ष पद पर बने रहने के लिए सांगठनिक चुनाव की प्रक्रिया जल्द ही पूरी होगी. इसकी तैयारी शुरू हो गयी है. शुक्रवार को देर तक प्रदेश भाजपा मुख्यालय में चली बैठक में चुनाव को सही व निष्पक्ष रूप से संपन्न कराने की प्रक्रिया पर चर्चा हुई.

कार्यकर्ताओं को चुनाव संपन्न कराने के लिए प्रशिक्षण देने की बात तय की गयी. बैठक में तय हुआ कि 24 अगस्त को कोलकाता व 25 अगस्त को सिलीगुड़ी में चुनाव को लेकर प्रशिक्षण शिविर किया जायेगा. यह सारी प्रक्रिया प्रदेश भाजपा के महासचिव प्रताप बनर्जी की देखरेख में संपन्न होगी.

प्रताप बनर्जी कोलकाता व सिलीगुड़ी की बैठक में मौजूद रहेंगे और कार्यकर्ताओं को प्रशिक्षित करेंगे. उनकी सहायता के लिए श्यामापद घोष को जिम्मेवारी दी गयी है. वर्ष 2021 में राज्य के विधानसभा का चुनाव होगा. भाजपा  का लक्ष्य है किसी भी तरह राज्य की सत्ता को हासिल करना. इसमें भाजपा किसी भी तरह की चूक बर्दाश्त करने के मूड में नहीं है, इसलिए वक्त रहते ही सारी तैयरी पूरी कर ली जा रही है. सांगठनिक चुनाव के बाद तय होगा कि प्रदेश भाजपा का अध्यक्ष कौन होगा. 
 
चुनाव में तय होगा कि प्रदेश भाजपा के अध्यक्ष के रूप में दिलीप घोष ही रहेंगे कि कोई नया चेहरा अध्यक्ष होगा. जानकारी के अनुसार 11 सितंबर से भाजपा के सांगठनिक चुनाव की प्रक्रिया शुरू हो जायेगी. बूथ अक्ष्यक्ष, बूथ कमेटी, मंडल अध्यक्ष, जिला अध्यक्ष का चुनाव होगा. यह  चुनाव संपन्न हो जाने के बाद अंत में प्रदेश अध्यक्ष का चुनाव होगा. इसके साथ ही प्रदेश से राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्यों का भी चुनाव होगा. यह सारी प्रक्रिया 15 दिसंबर के अंदर संपन्न करा लेने की बात है. 
 
शुक्रवार की बैठक में जिले के नेताओं को हाल ही में भाजपा के संविधान में हुए संशोधन की भी जानकारी दी गयी है. इसी के हिसाब से काम करना होगा. प्रदेश स्तर के नेता जिलों में जाकर चुनाव प्रक्रिया को देखेंगे और उनकी मदद करने के लिए जिला का एक नेता सहयोगी के रूप में रहेगा. चुनाव में अगर एक से अधिक उम्मीदवार होगा, तो बैलट पेपर से चुनाव होगा. कोशिश यही होगी सर्वसम्मति से नेता का चुनाव हो. 
बूथ कमेटी व 50 फीसदी मंडल हो जाने के बाद ही प्रदेश अध्यक्ष पद का चुनाव होगा. इसी तरह राष्ट्रीय स्तर पर राष्ट्रीय कार्यकारिणी के अध्यक्ष का चुनाव होने के बाद ही यही लोग अध्यक्ष का चुनाव करेंगे. हालांकि भाजपा अध्यक्ष का चुनाव सर्वसम्मति से ही होने की संभावना है.
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement