Advertisement

calcutta

  • Feb 12 2019 5:46AM
Advertisement

लापता भाजपा कार्यकर्ता को पुलिस ने ढूंढा

 कोलकाता/आद्रा/नितुरिया : पांच फरवरी को भाजपा की रैली से गायब भाजपा कार्यकर्ता को रविवार रात पुलिस ने कोलकाता के एक निजी लाउंज से बरामद किया गया है. पूछताछ में पता चला कि कार्तिक एक गैर सरकारी बैंक का एजेंट है. उस पर कई लोगों से लगभग 10 से 12 लाख रुपये लेने का आरोप है.

उसने इन रुपयों को बैंक में जमा नहीं किया था, जब लोग अपने रुपए मांगने लगे तो उसने अपने अपहरण होने का नाटक कर ट्रेन से पुरुलिया फरार हो गया. उसके बाद वहां से वह बस से कोलकाता पहुंचा. उसके खिलाफ बलरामपुर थाने में आर्थिक घोटाला करने कह शिकायत भी दर्ज है. सोमवार कार्तिक गोड़ाय को पुरूलिया जिला अदालत में पेश किया गया जहां कोर्ट ने जमानत को नामंजूर कर पांच दिनों की पुलिस हिरासत में भेज दिया गया है।

पांच फरवरी को पुरुलिया जिले के भांगड़ा नवकुंज मैदान में जिला भाजपा की ओर से गणतंत्र बचाव जनसभा का आयोजन किया था. इस जनसभा में मुख्य वक्ता के रूप में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सहित राज्य के एवं केंद्र के भाजपा नेता पहुंचे थे. इसी घटना के बाद ही बीजेपी कार्यकर्ता बलरामपुर थाना अंतर्गत कोरमा गांव के रहने वाले कार्तिक गोड़ाय देर शाम अपने बाइक से घर लौट रहा था.
 
उरमा स्टेशन के समक्ष उसने अपने दोस्तों को फोन पर बताया दो वाहन उसका पीछा कर रहे हैं तथा उसे जान से मारने की कोशिश कर रहे हैं. इसके बाद भाजपा कार्यकर्ताओं ने पुलिस को मामले की जानकारी दी एवं पुलिस को साथ लेकर भाजपा कार्यकर्ताओं ने कार्तिक गोराय को ढूंढना आरंभ किया. तृणमूल कार्यालय से कुछ ही दूरी पर कार्तिक का वाहन एवं उसका टूटा फोन मिला.
 
इसके बाद ही इलाके में राजनीतिक सरगर्मी तेज हो गयी. भाजपा ने अपने कार्यकर्ता कार्तिक गोराय के अपहरण का आरोप तृणमूल पर लगाया जबकि तृणमूल ने इस आरोप को निराधार बताया था. इस घटना के बाद कार्तिक के परिजनों ने बलरामपुर थाने में कार्तिक के लापता होने की लिखित शिकायत दर्ज करायी थी. संवेदनशील मामला होने के कारण पुलिस ने सख्ती के साथ छानबीन शुरू की.
 
जिला पुलिस अधीक्षक आकाश मेघारिया ने कहा हमने टीम बनाकर कार्तिक को ढूंढना आरंभ किया. तृणमूल के जिला अध्यक्ष शांतिराम महतो ने कहा हमने पहले ही कहा था भाजपा झूठा आरोप लगा रही है. पुलिस जांच में साबित हो हो गया है. भाजपा के जिला सचिव विवेक रनगा ने कहा उन्होंने किसी के खिलाफ अपहरण करने का आरोप नहीं लगाया था बल्कि लापता होने के बारे में पुलिस को जानकारी दी थी.
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement