Advertisement

calcutta

  • Feb 11 2019 1:40AM
Advertisement

कोलकाता : तृणमूल विधायक सत्यजीत विश्वास की हत्या का मामला, मुकुल समेत चार पर केस, दो गिरफ्तार

कोलकाता :  तृणमूल विधायक सत्यजीत विश्वास की हत्या का मामला, मुकुल समेत चार पर केस, दो गिरफ्तार

 कोलकाता : नदिया जिले में कृष्णगंज के तृणमूल विधायक सत्यजीत विश्वास की सरस्वती पूजा के कार्यक्रम के दौरान गोली मारकर हत्या के मामले में रविवार को भाजपा नेता मुकुल राय समेत चार लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है. सुजीत मंडल और कार्तिक मंडल नाम के दो आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है.

पुलिस के एक आला अधिकारी ने बताया कि एफआइआर में चार लोगों के नाम हैं, जिनमें से सुजीत और कार्तिक की गिरफ्तार देर रात हुई. एफआइआर के अलावा संदेह के घेरे में तीन अन्य लोगों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया है. घटनास्थल से देर रात ही विधायक को गोली मारने के लिए इस्तेमाल हुई देसी रिवॉल्वर भी बरामद की गयी. सीआइडी इस पूरे मामले की जांच में जुट गयी है.

 
सीमा इलाके में अलर्ट हुई पुलिस
प्राथमिक जांच में पुलिस का अनुमान है कि विधायक को पूरी सोची समझी साजिश के तहत गोली मारी गयी. नदिया जिले की सीमा बांग्लादेश से लगती है और इस बात की आशंका है कि हमलावर पड़ोसी देश भागने की कोशिश कर सकते हैं. हमलावरों के इलाके से भाग जाने की आशंका को ध्यान में रखते हुए पुलिस बेहद सतर्कता बरत रही है. सीमा पर आवाजाही पर नजर रखने के लिये पुलिस हाइ अलर्ट पर है.
 
एफआइआर में मेरा नाम जोड़ने का फैसला ‘राजनीति से प्रेरित' है : मुकुल
कोलकाता. तृणमूल कांग्रेस विधायक सत्यजीत विश्वास की हत्या मामले में एफआइआर में अपना नाम होने के मुद्दे पर भाजपा नेता मुकुल राय ने साफ तौर पर कहा कि प्राथमिकी में मेरा नाम पूरी तरह से राजनीति से  प्रेरित है. विधायक की हत्या  की वजह तृणमूल कांग्रेस की अंदरूनी लड़ाई हो सकती है. सत्यजीत की मौत का मुझे दुख है, लेकिन जिस तरह से वे  (तृणमूल नेता) भाजपा को इसके लिये जिम्मेदार ठहराने की कोशिश कर रहे हैं वह  कुछ और नहीं बल्कि एक गंदी साजिश है.
 
उन्होंने कहा कि जिस वक्त सत्यजीत को  गोली मारी गयी वह तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं से घिरे हुए थे. उस वक्त वह पार्टी के लोगों  से घिरे हुए थे. हत्यारे उनके करीब पहुंचने में कैसे कामयाब हुए. यह स्पष्ट  है कि क्या हुआ था. इस पूरे मामले की निष्पक्ष जांच हो, तृणमूल नेताओं से भी पूछताछ हो. सब सच्चाई सामने आ जायेगा.
 
कब व कैसे हुई थी घटना
शनिवार रात साढ़े आठ बजे फूलबाड़ी इलाके में आयोजित सरस्वती पूजा अनुष्ठान में तृणमूल के जिला अध्यक्ष गौरीशंकर दत्त, कृष्णगंज के विधायक सत्यजीत विश्वास और मंत्री रत्ना घोष समेत कई नेता पहुंचे थे. उद्घाटन कार्यक्रम के बाद श्री दत्त और मंत्री रत्ना घोष मौके से चले गये थे. आगे के कार्यक्रम के लिए विधायक मौजूद थे.
 
इसी बीच, पीछे से प्वाइंट ब्लैंक रेंज से उन्हें गोली मारी गयी. हमलावरों ने एक से ज्यादा गोलियां चलायी. हमलावर मौके से फरार हो गये. गंभीर हालत में विधायक को कृष्णानगर जिला सदर अस्पताल ले जाया गया, जहां चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया.
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement