calcutta

  • Jan 14 2020 2:50AM
Advertisement

अपने ही जांच अधिकारी से इडी ने की पूछताछ

अपने ही जांच अधिकारी से इडी ने की पूछताछ

 रोजवैली मामला  

केस डायरी के साथ एक सप्ताह के अंदर फिर आने का जारी हुआ नोटिस
 
कोलकाता : करीब 28 हजार करोड़ रुपये के रोजवैली चिटफंड घोटाले की जांच में प्रवर्तन निदेशालय (इडी) के प्रथम जांच अधिकारी रहे मनोज कुमार से इडी के अधिकारियों ने पूछताछ की. पहली बार पूछताछ में मिले जवाब से संतुष्ट नहीं होने पर उन्हें फिर से एक सप्ताह के अंदर सॉल्टलेक स्थित इडी दफ्तर में आने को कहा गया है.
 
इसके लिए उन्हें सोमवार को फिर से नोटिस भेजा गया है. पूछताछ को लेकर इडी सूत्र बताते हैं कि रोजवैली मामले की जांच जब 2014 में शुरू हुई थी, तब मनोज कुमार इसके जांच अधिकारी थे. इस मामले की जांच के दौरान मनोज कुमार पर रोजवैली चिटफंड कंपनी के मालिक गौतम कुंडू की गिरफ्तारी के बाद उनका फोन जब्त नहीं करने का आरोप लगा. 
 
इडी सूत्र बताते हैं कि पूछताछ के दौरान मनोज कुमार से गौतम कुंडू का मोबाइल फोन क्यों नहीं जब्त किया गया, इस सवाल का जवाब उनसे मांगा गया. मनोज कुमार से पूछा गया : गौतम कुंडू के मोबाइल फोन में  किनके-किनके कॉल आये? क्या क्या बातें हुईं? घोटाले के सिलसिले में ये आरोपी आपस में कैसी-कैसी साजिश रच रहे थे, इन सबके बारे में खुलासा हो सकता था.
 
इसके बावजदू उन्हों‍ने फोन जब्त नहीं किया. सवालों के जवाब में श्री कुमार ने काफी वर्ष बीत जाने के कारण कुछ भी याद नहीं रहने की जानकारी दी, जिसके बाद मामले की केस डायरी को लेकर एक सप्ताह के अंदर उन्हें फिर से इडी अधिकारियों के सामने हाजिर होने को कहा गया है. 
 
उल्लेखनीय है कि मनोज कुमार पर गौतम  कुंडू की पत्नी सुभ्रा कुंडू के साथ उनके निकट संबंधों का भी आरोप लग चुका  है. कई बार होटलों में सुभ्रा के साथ उनकी तस्वीर वायरल हुई थी. 
 
श्री  कुमार को इसके बाद रोजवैली मामले की जांच से हटा दिया गया था और उनके  खिलाफ विभागीय जांच शुरू करने का फैसला लिया गया था. कोलकाता पुलिस भी आर्थिक धोखाधड़ी के एक मामले में मनोज कुमार को गिरफ्तार कर चुकी है.
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement