buxar

  • Dec 11 2019 9:15AM
Advertisement

बक्सर में युवती के साथ गैंगरेप नहीं, हुई थी ऑनर किलिंग, पिता, मां और भाई गिरफ्तार

बक्सर में युवती के साथ गैंगरेप नहीं, हुई थी ऑनर किलिंग, पिता, मां और भाई गिरफ्तार
इलाके से पिछले 15 दिनों में गायब हुईं सभी लड़कियों की छानबीन करने पर खुला राज
बक्सर/बिक्रमगंज/दिनारा : इटाढ़ी के कुकुढ़ा गांव में जिस युवती का अधजला शव मिला था, उसकी हत्या उसके अपनों ने ही की थी. मामला ऑनर किलिंग का है. हत्या की साजिश में उसके पिता, भाई और मां समेत तीन और लोग शामिल हैं. मंगलवार को एसपी उपेंद्रनाथ वर्मा ने प्रेसवार्ता कर मामले की जानकारी दी. 
 
मृत इंदु देवी ऊर्फ रानी रोहतास जिले के दिनारा थाना क्षेत्र की रहनेवाली थी. एसपी ने बताया कि युवती के साथ गैंगरेप या रेप की घटना नहीं हुई है. पुलिस ने मृत युवती के पिता महेंद्र प्रसाद गुप्ता, मां शर्मिला देवी और भाई मुकेश कुमार को गिरफ्तार कर लिया है, जबकि तीन आरोपित अब भी फरार हैं. उनकी गिरफ्तारी के लिए पुलिस छापेमारी कर रही है. 
 
पुलिस ने घटना में प्रयुक्त एक मोटरसाइकिल और नौ कारतूस के साथ एक लाइसेंसी राइफल भी बरामद की है. संदेह है कि इसी राइफल से घटना को अंजाम दिया गया है. एसपी ने बताया कि शादी के बाद भी युवती का प्रेम किसी दूसरे से होने के कारण पिता ने इसे प्रतिष्ठा का विषय बना लिया, जिसके बाद अपनी पुत्री इंदु को इटाढ़ी के कुकुढ़ा बाधार में लाकर गोली मारकर हत्या कर दी और फिर साक्ष्य छुपाने के लिए बेटे, बाप और अन्य तीन सहयोगियों ने उसके शरीर पर पुआल डालकर जला दिया. 
 
तीन दिसंबर को युवती का शव बरामद किया गया था. पिता महेंद्र प्रसाद फौज से सेवानिवृत्त हैं, जो फिलहाल धनसोई के इटढ़िया के इलाहाबाद बैंक में गार्ड की नौकरी करते हैं. प्रेसवार्ता के दौरान डीएसपी बक्सर, इंस्पेक्टर अविनाश कुमार, मुफस्सिल थानाध्यक्ष मुकेश कुमार, थानाध्यक्ष धनसोई बिगाउ राम उपस्थित रहे. 
 
बरामद लाइसेंसी राइफल की होगी जांच
 
पुलिस अभी यह स्पष्ट नहीं कर पायी है कि घटना में लाइसेंसी राइफल प्रयुक्त हुआ है कि नहीं. इसकी जांच फॉरेंसिक टीम कर रही है. राइफल के साथ नौ कारतूस भी बरामद किये गये हैं. हालांकि, संदेह है कि बरामद राइफल से ही युवती की हत्या की गयी है.
 
डीएनए का होगा मिलान
 
इस घटना में परिजनों के डीएनए टेस्ट के साथ मृतक के डेडबॉडी का मिलान किया जायेगा, ताकि कानूनी प्रक्रिया के तहत उसके संबंध को स्पष्ट किया जा सके. 
 
एसआइटी के निर्देश पर हुई पूछताछ
 
एसआइटी की टीम ने बक्सर पुलिस को दिनारा से एक युवती के लापता होने की सूचना दी. इसके बाद बक्सर पुलिस ने रिटायर्ड फौजी के घर पहुंचकर पूछताछ शुरू कर दी. पूछताछ में मामला खुलकर सामने आ गया. पुलिस ने तत्काल मां और बेटे को गिरफ्तार कर लिया. फिर बाद में पिता की भी गिरफ्तारी हो गयी.
3 दिसंबर : इटाढ़ी थाने के कुकुड़ा गांव के बधार में युवती की अधजली लाश मिली, शव का पोस्टमार्टम
4 दिसंबर : एफएसएल ने युवती की सैंडल को लेकर दुकानदारों से की पूछताछ, शव का दो बार पोस्टमार्टम युवती की पहचान बताने को 50 हजार का इनाम घोषित
5 दिसंबर : पुलिस ने जतायी ऑनर किलिंग की आशंका, करीब 70 लोगों से की पूछताछ
6 दिसंबर : दिनारा में एक युवती के गायब होने की सूचना मिली, चार लोगों को पुलिस ने लिया हिरासत में
 
प्रभात खबर की बात सच निकली

रिटायर्ड फौजी के भांजे ने जगह का किया चयन
 
युवती की हत्या की पहले ही साजिश रच दी गयी. इसे अंजाम देने के लिए रिटायर्ड फौजी ने दूर के भांजे से संपर्क किया. भांजा कुकुढ़ा गांव का ही है, जिसने घटना को अंजाम तक पहुंचाने में पूरा साथ दिया. भांजे के साथ उसके दो सहयोगी भी थे. इन तीनों की तलाश पुलिस कर रही है.
 
छोटी बहन ने पहचानी सैंडल
 
युवती हत्या मामले में जब पुलिस उसके घर पहुंची तो उसकी बहन प्रीति ने सैंडल को पहचान लिया. लेकिन, घरवालों के इन्कार करने पर उसने अपना बयान बदल लिया. ऐसे में पुलिस ने बहन को भी पूछताछ के लिए हिरासत में ले लिया था. घटना में उसकी संलिप्तता नहीं होने के कारण उसे बाद में छोड़ दिया गया.
 
संन्यासी बनाने के लिए बेटी को बोधगया ले जाने के बहाने घर से निकले रास्ते में करवा दी हत्या
 
इंदु उर्फ रानी के पिता महेंद्र गुप्ता और भाई मुकेश कुमार ने उसे संन्यासी बनाने के लिए बोधगया पहुंचाने का आश्वासन दिया. उसे लेकर घर से निकले भी, लेकिन रास्ते में बक्सर जिले के कुकुढ़ा गांव के पास उसकी हत्या करवा दी. घटनास्थल पर दो गाड़ियों पर छह लोग मौजूद थे. 
इनमें रानी, उसके पिता और भाई के अलावा दो अपराधी व एक गांव का ही व्यक्ति भी मौजूद था. गोली अपराधी से मरवायी गयी है. इसके बाद सभी ने मिलकर लाश को जला दिया. मामले का खुलासा करने के लिए सीआइडी मुख्यालय के स्तर से 15 पदाधिकारियों को खासतौर से लगाया गया था. इसके अलावा बक्सर और रोहतास जिलों के करीब 60 पुलिसकर्मियों की पूरी टीम पड़ताल में जुटी हुई थी. 
 
सुराग मिलने के बाद जब मृत रानी की चप्पल लेकर सीआइडी की टीम उसके घर पहली बार पहुंची, तो उसकी छोटी बहन को इसे दिखाते हुए पूछा, पहचानती हो, तो बहन ने कहा कि यह तो दीदी की है. फिर इसके बाद पूरी सच्चाई सामने आ गयी. पुलिस ने पूरे परिवार से सख्ती से पूछताछ शुरू की, तब सच्चाई सामने आ गयी.
 
चौकीदार परेड से मिला सुराग, फिर खुला पूरा मामला
 
सीआइडी के एडीजी विनय कुमार ने अपनी टीम को खासतौर से आदेश दिया कि बक्सर के अलावा आसपास के जिलों में पिछले 15 दिनों में गायब हुई सभी लड़कियों का डिटेल निकालें.  प्रेम प्रसंग या किसी भी तरह से गायब हुई हर लड़की या महिला का डिटेल खंगालने का काम शुरू हो गया. साथ ही सभी चौकीदारों से कहा गया कि वे अपने-अपने इलाके में गायब हुई किसी लड़की की खबर दें. 
 
चौकीदार परेड के दौरान ही एक ने सूचना दी कि रोहतास जिले के दिनारा से एक लड़की गायब है और इसकी कोई रिपोर्ट भी परिवार वालों ने दर्ज नहीं करवायी है. इस गांव घटना स्थल से महज 15-17 किमी दूर था. इस वजह से इसे लेकर हर स्तर पर तहकीकात शुरू की गयी. तब रानी के बारे में पूरी जानकारी सामने आयी.
 
शादी के दो दिन बाद ही ससुराल से भाग आयी मायके
 
रानी की शादी पिछले साल पांच मार्च को बक्सर के डुमरांव में सूरजभान प्रसाद गुप्ता से हुई थी. लेकिन ससुराल में दो ही दिन रहने के बाद वह सात मार्च को वापस मायके आ गयी. वह अपने गांव के ही प्रेमी रौशन खरवार पर शादी का दबाव बना रही थी. लेकिन, रौशन उससे शादी करने को तैयार नहीं था. इस बीच रानी घर से भागने का भी प्रयास कर चुकी थी. 
 
रानी की इस हरकत से परेशान पिता अपनी दूसरी बेटी की शादी उसके पति से ही करा दी. इधर, प्रेमी की बेवफाई से रानी परेशान होकर संन्यास लेना चाहती थी और परिवार वालों पर लगातार घर छोड़कर भागने या संन्यास लेने का दबाव देने लगी. इसी से आजीज होकर पिता-भाई ने यह कदम उठाया.
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement