Advertisement

bokaro

  • Dec 7 2018 10:31PM

पोस्‍टमास्‍टर की मिलीभगत से गोमिया डाकघर में खाताधारी के खाते से तीन लाख गायब

पोस्‍टमास्‍टर की मिलीभगत से गोमिया डाकघर में खाताधारी के खाते से तीन लाख गायब

प्रतिनिधि, बोकारो थर्मल

गोमिया डाकघर में स्वांग निवासी डाकघर के खाताधारी के खाता से तीन लाख रुपया गबन का मामला प्रकाश में आया है. मामला प्रकाश में आने के बाद खाताधारी ने गोमिया थाने को लिखित आवेदन देकर कार्रवाई की मांग की है.

 

इस संबंध में आदर्श नगर स्वांग वन बी निवासी सुनील सिंह ने थाना को दिये आवेदन में लिखा है कि उन्होंने गोमिया डाकघर के अपने खाता संख्या-5691502912 में दो लाख 21 हजार रुपया का एनएससी पूरा हो जाने के बाद जमा किया था. इसके अलावा भी खाता में और भी रुपया कुल मिलाकर तीन लाख के लगभग था. 

 

पासबुक खो जाने की बात कहता था पोस्टमास्टर 

उन्होंने लिखा कि अप्रैल 2017 में उन्होंने पासबुक अपडेट करने के लिए पोस्टमास्टर बिजेंद्र प्रसाद को दिया था जिसे पोस्टमास्टर ने नहीं लौटाया था. इस संबंध में जब भी पोस्ट मास्टर को कहा गया तो उनका कहना था कि पासबुक खो गया है नया बनाकर दे देंगे. 

 

बाद में भी जब डाकघर गया तो मुझे टालमटोल किया जाता रहा. नवंबर माह में भी एनएससी खाता में जमा किया गया जो कि आजतक नहीं चढ़ाया गया है. 

 

सारे पैसे की कर ली गयी निकासी

सुनील सिंह ने लिखा कि शुक्रवार सात दिसंबर को जब वे डाकघर पता करने गये तो पता चला कि उनके खाते से सारे पैसे लगभग तीन लाख निकालकर गबन कर लिया गया है. खाते से सारा रुपया मई 2017 से जून 2017 के बीच कम्प्यूटर ऑपरेटर गर्वमेंट कॉलोनी आईईएल आवास संख्या 85/12 निवासी राजभूषण कुमार ने पोस्टमास्टर बिजेंद्र प्रसाद के साथ मिल निकालकर गबन कर लिया है.

 

पोस्‍टमास्‍टर ने स्‍वीकारी खाता से रुपया निकलने की बात 

इस संबंध में जब गोमिया डाकघर के पोस्टमास्टर से पूछा गया तो उनका कहना था कि सुनील सिंह के खाता से लगभग दो लाख रुपया की निकासी राजभूषण कुमार के द्वारा की गयी है. उन्होंने कहा कि रुपया वसूली के लिए बात की जा रही है. राजभूषण कुमार से रुपया वसूलकर खाताधारी सुनील सिंह को लौटा दिया जायेगा. 

 

रुपया निकासी में उनके हस्ताक्षर या खाताधारी के हस्ताक्षर को रजिस्टर से मिलान नहीं किये जाने के सवाल पर पोस्ट मास्टर का कहना था कि इसमें लापरवाही हुई है और आगे से इसका ख्याल रखा जायेगा. 

 

Advertisement

Comments

Advertisement